Site Loading

प्रोफेसर सतीश प्लास्टिक से पेट्रोल बना कर कमा रहे हैं 2 से 3 लाख प्रतिमाह। जानें कैसे!

Read Time: 2 minutes
Read Time0Seconds

हैदराबाद के 45 वर्षीय प्रोफेसर सतीश ने डेड प्लास्टिक को डीपोलिमराईज़ेशन या पयरोलीसिस प्रक्रिया से पेट्रोल बनाने का सफल उद्योग शुरू किया है।

Fuel from plastic by pyrolysis

सतीश एक मेकैनिकल इंजीनियर हैं और 200 लीटर से अधिक पेट्रोल का उत्पादन प्रतिदिन कर रहे हैं।

Satish petrol from plastic

डेड प्लास्टिक वह प्लास्टिक होती है जो कि प्लास्टिक को 4 से 5 बार रिसायकल करने पर प्राप्त होती है। यह उपयोग नहीं की जा सकती तथा प्लास्टिक के सभी गुण खो चुकी होती है। यह प्लास्टिक अभी भी नष्ट नहीं होती और इसको बड़े बड़े डंपिंग ग्राउंड्स में इसको ढककर डाल दिया जाता है।

Dead plastic

प्रोफेसर सतीश की इस सफलता से पर्यावरण को बेहद ही सकारात्मक लाभ हो रहा है और इसको बड़े स्तर पर जल्द से जल्द शुरू किया जाना चाहिए। एक ओर जहां इस प्लांट में पानी का इस्तेमाल नहीं होता, साथ ही इसमें कोई चिमनी न होने से पर्यावरण को भी संरक्षित रखा जाता है।

वर्ष 2013 से सतीश ने इस विषय पर कार्य करना शुरू किया। अगस्त 2015 तक इन्होंने सफलता पाकर कारखाना लगाने का काम शुरू किया जिससे जनवरी 2016 तक काम करना शुरू कर दिया।

Satish machine petrol from plastic

प्रोफेसर सतीश की यह मशीन एक बार मे 300 लीटर डीज़ल, 100 लीटर हाई स्पीड डीज़ल और 50 लीटर पेट्रोल बनाती है।

Satish lab final products

प्रोफेसर सतीश की कंपनी हाइड्रोक्सी सिस्टम्स भारत सरकार की बायोफ्यूल पॉलिसी का फ़ायदा उठाकर सफलता पूर्वक कार्य कर रही है और हम सभी को इस पर्यावरण की रक्षा करने की प्रेरणा दे रही है।

13 0
9 %
Happy
0 %
Sad
45 %
Excited
0 %
Angry
45 %
Surprise

Leave a Reply

Close

has been added to your cart

View Cart
X
%d bloggers like this: