Posted on

परमाणु क्षमता से लैस ‘धनुष’ मिसाइल का सफल परीक्षण, सेना को मिलेगी जबरदस्त ताकत

भारत ने गुरूवार को परमाणु क्षमता से लैस बैलिस्टिक मिसाइल ‘धनुष’ का सफल परीक्षण किया है। ओडिशा तट के पास नौसेना के एक पोत से इस मिसाइल को प्रक्षेपित किया गया। इससे पहले इसी महीने भारत ने परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम स्वदेशी ‘अग्नि-1’ बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था, जो अग्नि-1 का 18वां संस्करण था। इस मिसाइल की क्षमता 350 किलोमीटर है।

सूत्रों के अनुसार धनुष मिसाइल बिल्कुल सटीक तरीके से अपना निशाना भेदने में सफल है यह धरती और समुद्र दोनों जगहों से 500 किलो तक की वजनी क्षमता के साथ मार करने में सक्षम है। यह मिसाइल हल्के मुखास्त्रों के साथ 500 किलोमीटर तक मार कर सकती है।

इस मिसाइल की मारक क्षमता की निगरानी डीआरडीओ द्वारा की गई। आपको बता दें कि यह मिसाइल समुद्र और जमीन दोनों जगहों से अपने लक्ष्य को भेद सकती है और इसे पहले ही सशस्त्र बलों में शामिल किया जा चुका है। धनुष मिसाइल का पिछला परीक्षण 9 अप्रैल, 2015 को किया गया था।

अगर भारत की स्वदेशी मिसाइलों की बात करें तो उसके पास नाग मिसाइल है जिसका सफल परीक्षण 1990 में किया गया। इसी तरह भारत ने 1990 में आकाश मिसाइल का परीक्षण किया। जमीन से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल की तुलना अमेरिका के पेटियॉट मिसाइल से की जाती है। इसके अलावा भारत के पास ब्रह्मोस और अग्नि मिसाइल भी हैं।

Posted on

लिखे हुए 500 और 2000 हजार के नोटों को लेने से मना नहीं कर सकते बैंक: आरबीआई

कोई भी बैंक 500 और 2000 रुपये के उन नोटों को लेने से इनकार नहीं कर सकता है जिनपर कुछ लिखा हुआ है। हालां​कि व्यक्ति ऐसे नोटों को बदलवा नहीं सकता है, यह नोट सिर्फ जमाकर्ता के व्यक्तिगत खाते में जमा किये जा सकते हैं। आरबीआई के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में रिजर्व बैंक ऑफ ​इंडिया आर्थिक साक्षरता के तहत मेला आने वाले लोगों को जागरूक कर रहा है। यहां नए नोटों के फीचर समेत लोगों को उनके अधिकारों के प्रति साक्षर किया जा रहा है। साथ में, डिजिटल माध्यम से जुड़ने के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।

प्रगति मैदान के हॉल संख्या 18 में लगे आरबीआई के स्टॉल में लोग अपने सवाल लेकर भी पहुंच रहे हैं। कोई यहां 500 और 2000 रुपये के ऐसे नोटों की वैधता जानना चाह रहा है जिनपर कुछ लिखा हुआ है। तो कोई बैंक के खिलाफ शिकायत करने के तरीके के बारे में जानकारी मांग रहा है। किसी को 10 रुपये के ​सिक्कों की स्थिति​ के बारे में जानकारी चाहिए।

आरबीआई के अधिकारियों ने ‘‘भाषा’’ को बताया कि केंद्रीय बैंक पहले भी इस संबंध में भ्रम दूर कर चुका है। मेला के दौरान लोग हमसे 500 और 2000 रुपये के नए नोटों पर कुछ लिखा होने की स्थिति में उनकी वैधता पर सवाल कर रहे हैं। हम यहस्पष्ट करना चाहते हैं कि नोट पर कुछ लिखा होने या रंग लग जाने की स्थित में भी वह वैध हैं। बैंक उन्हें लेने से इनकार नहीं कर सकते हैं।

साथ ही उन्होंने कहा, हालांकि, ग्राहक ऐसे नोटों को बैंक से बदलवा नहीं सकते हैं, लेकिन ऐसे नोट वह अपने व्यक्तिगत खातों में जमा करवा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि आरबीआई स्वच्छ नोटों की नीति का अनुसरण करता है। नए नोटो को लेकर अभी रिफंड नीति नहीं आई है इसलिए जिन नोटों पर कुछ लिखा है उन्हें बदलवाया नहीं जा सकता है पर खाते में जमा किया जा सकता है। आरबीआई ने ऐसे नोटों का लीगल टेंडर वापस नहीं लिया है।

अ​धिकारियों ने कहा कि इसके अलावा हम मेला देखने आने वाले लोगों को नए नोटों के फीचर के बारे में भी जानकारी दे रहे हैं ताकि वह जाली नोटों की पहचान कर सकें।

उन्होंने कहा ​कि इसके लिए हमने पैमफ्लैट्स प्रकाशित कराए हैं। इनपर नोटों के बारे में ​विस्तृत जानकारी मुद्रित है जिनका अध्ययन करके लोग नोट की सही तरीके से पहचान कर सकते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि 500, 2000 और 200 रुपये के नोटों पर 17 फीचर हैं जबकि 50 रुपये के नए नोट पर 14 फीचर हैं।

उन्होंने कहा कि लोग हमारे पास शिकायतें ले कर आ रहे हैं कि दुकानदार 10 रुपये के सिक्के नहीं ले रहे हैं। हमने ऐसी शिकायतें लेकर आ रहे लोगों को स्पष्ट कर दिया है कि 10 रुपये के सभी सिक्के मान्य है। हमने संबंध में अधिसूचना को मेले में लगाया हुआ है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा हम मेले में डिजिटल लेन देन के लिए भी लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं।

अधिकारी ने कहा कि नेट बैंकिंग का इस्तेमाल सिर्फ स्मार्ट फोन वाले ही नहीं बल्कि फीचर फोन रखने वाले भी कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि फीचर फोन को इस्तेमाल करने वाले लोग अपने फोन से *99# डायल करके इंटरनेट के बिना भी दो खातों के बीच लेन देन कर सकते हैं। इसके ​लिए उपयोगकर्ता को इसी नम्बर पर डायल करके अपना पंजीकरण कराना होगा।

Posted on

लास वेगस के हत्यारे ने गोलीकांड से पहले फिलीपींस भेजे थे 1 लाख डॉलर

लास वेगस में म्यूजिक कंसर्ट के दौरान अंधाधुंध फायरिंग कर 59 लोगों की जान लेने वाले स्टीफन पैडॉक ने कुछ दिन पहले ही 1 लाख डॉलर की बड़ी रकम फिलीपींस भेजी थी। मामले की जांच कर रहे अधिकारियों को पता चला है कि 64 वर्षीय पैडॉक ने अपनी गर्लफ्रेंड को यह रकम भेजी थी। पुलिस अब तक यह पता लगाने में नाकामयाब रही है कि आखिर किस वजह से पैडॉक ने इस भीषण नरसंहार को अंजाम दिया। हालांकि अधिकारी उसके वित्तीय लेन-देन पर ध्यान दे रहे हैं, जो जुआ खेलने का आदि था। 

द इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के अनुसार रिटायर्ड अकाउंटेंट पैडॉक ने आखिर क्यों 22,000 लोगों की भीड़ पर फायरिंग की थी, इसका कोई पता नहीं चल सका है। हालांकि नई जानकारियों से कुछ खुलासा होने की उम्मीद है। जांच के मुताबिक बीते तीन सालों में पैडॉक की 200 संदिग्ध रिपोर्टें सामने आई है। इनमें कसीनो में बड़े लेन-देन भी शामिल हैं। कुछ लोग इसे संदेहजनक ऐक्टिविटी बता रहे हैं तो कुछ लोगों का कहना है कि यह सामान्य है क्योंकि जब कोई ग्राहक 10,000 रुपये से अधिक कैश कसीनो से निकालताहै या जमा करता है तो अथॉरिटीज को जानकारी दी जाती है।

अमेरिका में उसके साथ ही रहती थी महिला
एनबीसी न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक फिलीपींस स्थित खाते में पिछले सप्ताह ही 1 लाख डॉलर की रकम जमा कराई थी। अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि 62 वर्षीय मारिलू डानली पैडॉक के साथ ही में रहती थी, लेकिन रविवार को वह फिलीपींस में थी। हालांकि यह पता नहीं चल सका है कि उसने इतनी बड़ी रकम अपनी गर्लफ्रेंड के लिए ही भेजी थी या फिर उसका कोई और मकसद था।

अमेरिका लाई जाएगी पैडॉक की महिला मित्र
लास वेगस के मुख्य पुलिस अधिकारी जोसेफ लोम्बार्डो ने कहा कि डानली इस पूरे केस में अहम कड़ी हो सकती है। उन्होंने कहा कि एफबीआई उसे अमेरिका लाने वाली है ताकि उससे पूछताछ कर पैडॉक के फायरिंग करने के मकसद का पता लगाया जा सके। लोम्बार्डो ने कहा कि जांचकर्ता डानली से बात कर रहे हैं और हमें उससे कुछ जरूरी जानकारी मिलने की उम्मीद है।