Posted on

पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन, लंबे समय से थे बीमार

Atal bihari bajpeyi ji

पूर्व प्रधानमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का निधन गुरुवार शाम 5.05 मिनट पर हो गया। वह 93 साल के थे। अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हमारे देश के उन चुनिंदा लोगों में अटल जी का नाम लिया जाता है जिन्होंने भारतीय राजनीती में आमूलचूल परिवर्तन किये और इसको एक नई दिशा दी। प्रधानमंत्री पद के लिए परिवारवाद की जीत को दरकिनार करने के लिए अगर किसी एक शख्स को जिम्मेदार माना जायेगा तो वो अटल जी ही हैं।

वाजपेयी जी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। 15 अगस्‍त को उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया। थोड़ी देर में उनका पार्थिव शरीर उनके निवास पर लाया जाएगा, जहां उसे लोगों के दर्शनार्थ रखा जाएगा। इस संबंध में 6.30 बजे केंद्रीय कैबिनेट होगी।
एम्स के मुताबिक, बुधवार सुबह वाजपेयी जी को सांस लेने में तकलीफ हुई थी। इसके बाद उन्हें जरूरी दवाइयां दी गई थीं, लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया। भाजपा के संस्थापकों में शामिल वाजपेयी 3 बार देश के प्रधानमंत्री रहे। वह पहले ऐसे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे, जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया। उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

वाजपेयी जी काफी दिनों से बीमार थे और वह करीब 15 साल पहले राजनीति से संन्यास ले चुके थे। अटल बिहारी वाजपेयी जी ने लाल कृष्ण आडवाणी के साथ मिलकर भाजपा की स्थापना की थी और उसे सत्ता के शिखर पहुंचाया। भारतीय राजनीति में अटल-आडवाणी की जोड़ी सुपरहिट साबित हुई। अटल बिहारी जी देश के उन चुनिन्दा राजनेताओं में से एक थे, जिन्हें दूरदर्शी माना जाता था। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर में ऐसे कई फैसले लिए जिसने देश और उनके खुद के राजनीतिक छवि को काफी मजबूती दी। अटल जी एक उच्च कोटि के चिंतक एवं विचारक होने के साथ-साथ एक श्रेष्ठ कवि, लेखक, रणनीतिकार और राजनीतिज्ञ थे।

उनका जन्म 25 दिसंबर, 1924 को ब्रह्ममूहुर्त में शिन्दे की छावनी वाले घर में हुआ था। वैसे उनके स्कूल के सर्टिफिकेट में जन्म की तिथि 25 दिसंबर 1926 लिखी है। यह दो वर्षों का अंतर उनके पिताजी ने इसलिए कराया था कि कम आयु लिखी जाएगी तो लड़का ज्यादा दिनों तक नौकरी कर सकेगा।

इस संदर्भ का जिक्र स्वयं अटल बिहारी वाजपेयी जी ने ग्वालियर के श्री नारायण तरटे को 7 जनवरी, 1986 को लिखे एक पत्र में किया था। उन्होंने लिखा था ‘आपका पत्र मिला। बड़ी प्रसन्नता हुई। इतने संगी-साथियों में यदि किसी के स्नेह-आशीर्वाद की अभिलाषा रहती है तो वह आप ही हैं। मेरा जन्म 1924 में हुआ था। पिताजी ने स्कूल में नाम लिखाते समय 1926 लिखा दिया कि उम्र कम होगी तो नौकरी ज्यादा कर सकेगा, देर में रिटायर होगा। उन्हें क्या पता था कि मेरी वर्षगांठ मनेगी और मनाने वाले मुझे छोटा बनाकर पेश करेंगे।’

Posted on

बेहद आसानी से घर पर डोनट बनाएं

कितने लोगों के लिए : 4

सामग्री :

मैदा 1 कप, यीस्ट 1 चम्मच, चीनी 1/3 कप (पिसी हुई आटे में डालने के लिए), नमक 2 चुटकी, बेकिंग पाउडर आधा चम्मच, बटर 1 बड़ा चम्मच, तलने के लिए रिफाइंड ऑयल, आधा कप पिसी चीनी ऊपर से लगाने के लिए

विधि :

-यीस्ट को गुनगुने पानी में भिगा दें।

-मैदे को छान ले उसमे बटर, चीनी, नमक, बेकिंग पाउडर, और यीस्ट मिला के मुलायम आटा गूंध ले।

-फिर उस आटे की एक बड़ी सी मोटी रोटी बेल ले, और उसे डोनट कटर या फिर किसी ग्लास से -गोल काट ले बीच से भी काट के डोनट का शेप बना दे।

-इसी तरह से सारे डोनट तैयार कर ले।

-फिर उसे ढककर चार घंटे के लिए रख दे या फिर जब तक डोनट फूल के दोगने मोटे न हो जाये तब तक उसे रखे।

-एक कड़ाही में तेल गरम करे और डोनट को दोनों तरफ से सुनहरा होने तक तल ले।

फिर ऊपर से पिसी हुई चीनी चारों तरफ से लगा दे।

-आप चाहे तो चाकलेट और क्रीम भी डोनट पर लगा सकते हैं।

Posted on

ऑस्ट्रेलिया की संसद में पहली बार किया गया योग, भारत से आया योग अब पूरी दुनिया में मचा रहा धूम

केनबरा स्थित संसद के कम्युनिटी हाल में इस सत्र में पूर्व प्रधानमंत्री टोनी एबॉट समेत कई मंत्रियों व सांसदों ने हिस्सा लिया और विभिन्न आसनों का अभ्यास किया। दो घंटे तक चले इस सत्र का आयोजन मेलबर्न स्थित वासुदेव क्रिया योग समूह ने किया था।

हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। एबॉट ने कहा, ‘यह बहुत अच्छा है कि हम संसद में योग दिवस मना रहे हैं। चिंता और तनाव से घिरे नेताओं के लिए योग फायदेमंद है। कई भारतवंशी ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को योग अभ्यास करते देखना बेहद सुखद है। ऑस्ट्रेलियाई भी योग में काफी रुचि दिखाते हैं।’

योग को प्रसारित करने में भारत की सफलता का जिक्र करते हुए एबॉट ने कहा, ‘भारत उभरती विश्व शक्ति है और योग उससे जुड़ा हुआ है। मुझे खुशी है भारत से आया योग पूरी दुनिया में फैल रहा है।’

हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। एबॉट ने कहा, ‘यह बहुत अच्छा है कि हम संसद में योग दिवस मना रहे हैं। चिंता और तनाव से घिरे नेताओं के लिए योग फायदेमंद है। कई भारतवंशी ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को योग अभ्यास करते देखना बेहद सुखद है। ऑस्ट्रेलियाई भी योग में काफी रुचि दिखाते हैं।’

वासुदेव क्रिया योग के राजेंद्र येंकानमुले ने कहा, ‘पहली बार किसी देश की संसद में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया है। यह कार्यक्रम बहुत सफल रहा। हमें उम्मीद है कि आने वाले सालों में यह और भी सफल होगा।’

Posted on

किम जोंग उन से वार्ता के लिए प्योंगयोंग नहीं जाएंगे डोनाल्ड ट्रंप, अब यहां होगी वार्ता

किम जोंग उन से वार्ता के लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप अब प्‍योंगयोंग नहीं जाएंगे। लेकिन इसका अर्थ ये नहीं है कि यह वार्ता रद कर दी गई है, दरअसल, अब ये दोनों नेता उसी जगह पर मिलेंगे जहां पिछले दिनों दक्षिण कोरिया के राष्‍ट्रपति मून जे ने किम जोंग उन से मुलाकात की थी। इसका सुझाव खुद ट्रंप की तरफ से आया था जिसको किम ने हरी झंडी दे दी है।

आपको बता दें कि किम और मून के बीच 27 अप्रैल को पुनमुंजोम गांव में बैठक हुई थी। यह उत्तर और दक्षिण कोरिया की सीमा पर स्थित है। यहां 1953 के कोरियाई युद्ध के बाद से ही युद्ध विराम लागू है। इसका एक हिस्‍सा उत्‍तर तो दूसरा हिस्‍सा दक्षिण कोरिया में पड़ता है। आपके लिए यह जानना भी बेहद दिलचस्‍प है कि यह सीमा रेखा दुनिया की सबसे खतरनाक सीमाओं में गिनी जाती है। यही वजह है कि उत्तर और दक्षिण कोरिया की सीमा एक बार फिर से चर्चा का विषय बनने के साथ-साथ ऐतिहासिक वार्ता का भी गवाह बनने वाली है।

पीस हाउस में बैठक का सुझाव

आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने ही किम जोंग उन के साथ पीस हाउस में बैठक करने का सुझाव दिया है। पीस हाउस उत्तर और दक्षिण कोरिया की सीमा पर स्थित है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि उत्तर कोरिया के साथ शिखर बैठक के लिए कई देशों पर विचार किया जा रहा है। लेकिन किसी तीसरे देश की अपेक्षा पीस हाउस/फ्रीडम हाउस ज्यादा महत्वपूर्ण और स्थायी जगह है। तीन से चार हफ्ते में ट्रंप और किम की मुलाकात होने की संभावना है। गुरुवार को अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक इंटरव्यू में कहा था कि किम के साथ शिखर वार्ता के लिए पांच जगहों पर विचार किया जा रहा है। हालांकि वह कई बार यह भी कह चुके हैं कि बातचीत नहीं भी हो सकती है।

दोनों के बीच वार्ता के अहम बिंदु

किम जोंग उन और डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच होने वाली वार्ता का सबसे अहम बिंदु कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियार मुक्‍त बनाना है। हालांकि इसको लेकर किम के तेवर में अब काफी नरमी आ चुकी है। पिछले दिनों मून से हुई मुलाकात में किम ने कहा था कि अगर अमेरिका कोरियाई युद्ध को औपचारिक रूप से खत्म करने का वादा करे और उत्तर कोरिया पर हमला नहीं करने का वचन दे, तो उनका देश परमाणु हथियारों को त्यागने को तैयार है। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है, तो उन्‍हें एक बार फिर विचार करना पड़ेगा।

कई लिहाज से खास है बैठक

किम ने ट्रंप को संबोधित करते हुए ये भी कहा है कि हमारे बीच जब बातचीत शुरू हो जाएगी, तब अमेरिकी राष्‍ट्रपति जान जाएंगे कि मैं ऐसा शख्‍स नहीं हूं कि दक्षिण कोरिया या अमेरिका पर परमाणु हथियार से हमला करूंगा। उन्‍होंने इस बात की भी उम्‍मीद जताई है कि यदि दोनों देशों के बीच बैठकों का सिलसिला बढ़ा और आपसी विश्‍वास बहाली हो सकी यह काफी अच्‍छा होगा। हालांकि अभी इन दोनों नेताओं की बैठक का दिन और समय निश्चित नहीं हो पाया है। लेकिन इतना जरूर तय है कि इस बैठक में दक्षिण कोरिया भी मौजूद होगा। यह बैठक इस लिहाज से भी खास होगी क्‍योंकि पहली बार पद पर रहते हुए कोई अमे‍रिकी राष्‍ट्रपति उत्तर कोरिया के प्रमुख से बात करेगा।

छह देशों की बैठक पर लगी निगाह

इस बीच जानकारों की निगाह कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियार मुक्‍त बनाने के लिए छह देशों की बैठक पर भी लगी है, जो वर्षों से निलंबित हैं। जानकारों की दिलचस्‍पी इस बात को लेकर है कि इस बाबत छह देशों की वार्ता दोबारा शुरू होगी या नहीं। इन छह देशों में उत्तर और दक्षिण कोरिया, जापान, चीन, रूस और अमेरिका शामिल हैं। यॉनहॉप एजेंसी की मानें तो जानकार इस बात से इंकार नहीं कर रहे हैं कि कोरिया प्रायद्वीप को लेकर इन देशों की बैठकों का दौर दोबारा शुरू हो सकता है। जानकारों के मुताबिक इसको लेकर उत्तर कोरिया भी शायद पीछे न हटे और ऐसा करने पर अपनी सहमति व्‍यक्त करे। इस बारे में जापान की मीडिया ने यहां तक कहा है कि पिछले दिनों किम ने जो बीजिंग की यात्रा कर शी चिनफिंग के समक्ष अपनी बात रखी है उसके बाद इस सिक्‍स नेशन टॉक को लेकर सहमति बनी है।

उत्तर कोरिया खफा हो जाए

हालांकि जानकारों का एक मत यह भी है कि मुमकिन है कि जापान की मौजूदगी से उत्तर कोरिया खफा हो जाए। इसकी वजह ये है कि जापान काफी समय से अपने अगवा किए नागरिकों की वापसी की मांग उत्तर कोरिया से करता रहा है। वहीं इसको लेकर उत्तर कोरिया साफ इंकार कर रहा है। आपको बता दें कि छह देशों की यह वार्ता सबसे पहले 2003 में हुई थी। 2005 में वार्ता के बाद एक अहम समझौता भी हुआ था जिसमें उत्तर कोरिया को सुरक्षा की गारंटी तक दी गई थी। लेकिन वर्ष 2009 में उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु परिक्षण किए जाने के चलते इसको निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद से इस मुद्दे को लेकर इन देशों के बीच कोई वार्ता नहीं हुई।

दोनों के बीच विवादित बोल

इसके अलावा यह बैठक इस लिहाज से भी खास है क्‍योंकि इससे पहले दोनों नेताओं के बीच बदजुबानी का लंबा सिलसिला चला है। एक ओर जहां ट्रंप ने किम को रॉकेट मैन कहा वहीं किम ने ट्रंप को बूढ़ा तक कह डाला था। आइए जानते हैं दोनों नेताओं ने कब-कब और क्‍या-क्‍या कहा।

– नवंबर 2017 में ट्रंप को उत्तर कोरियाई अधिकारियों ने ‘बूढ़ा पागल’ बताया था। इस पर ट्रंप ने ट्वीट कर अपनी नाराजगी जाहिर की थी और लिखा था, ‘भला किम जोग-उन मुझे बूढ़ा बुला कर मेरा अपमान क्यों करेंगे, जब मैं उन्हें कभी नाटा और मोटा नहीं कहूंगा।’

– इसी तरह सितंबर 2017 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 72वें सत्र को संबोधित करते हुए ट्रंप ने किम जोंग उन को रॉकेट मैन कहा था और उनके देश को नेस्तनाबूद करने की धमकी दी थी।

– इसके जवाब में किम जोंग उन की तरफ से जिस तरह का बयान आया, अमेरिका और ट्रंप ने कल्पना भी नहीं की होगी। उत्तर कोरिया ने कहा था, ‘डरे हुए कुत्ते ज्यादा भौंकते हैं। ट्रंप आग से खेलने के शौकीन एक दुष्ट व्‍यक्ति हैं।’

– जनवरी के पहले हफ्ते में भी पूरी दुनिया इन दोनों नेताओं के अजीब-गरीब बयानों की गवाह बनी थीं। दरअसल, किम जोंग उन ने नए साल के मौके पर अपने संबोधन में अमेरिका को तबाह करने की धमकी दी थी और कहा था कि परमाणु बम का बटन हर वक्त उनकी टेबल पर होता है।

– इसका जवाब देते हुए ट्रंप ने कहा था, ‘कोई किम जोंग उन को बताए कि मेरे पास भी न्यूक्लियर बटन है, जो उसके बटन से बहुत बड़ा और ताकतवर है। मेरा बटन काम करता है।’

– 23 फरवरी 2018 को डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के खिलाफ अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध लगाने का एलान किया है। उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों पर रोक लगाने के लिए दबाव बढ़ाने को अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह कदम उठाया है।

– 30 जनवरी को अमेरिका में सीआईए के निदेशक माइक पोंपियो ने आशंका जताई थी कि उत्तर कोरिया के पास ऐसी परमाणु मिसाइल हैं, जिससे वह कुछ महीनों के भीतर अमेरिका पर हमला कर सकता है।

Posted on

धौनी की दमदार पारी भी चेन्नई को नहीं दिला पाई जीत, पंजाब ने 4 रन से मैच जीता

आइपीएल 2018 के 12वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स का मुकाबला किंग्स इलेवन पंजाब के साथ था और इसमें धौनी की टीम को 4 रन से हार मिली।

इस मैच में चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए पंजाब ने 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 197 रन बनाए। चेन्नई को जीत के लिए 198 रन का लक्ष्य मिला। टीम के कप्तान धौनी ने 79 रन की नाबाद पारी खेलकर टीम को जीत दिलाने की कोशिश की लेकिन वो सफल नहीं हो पाए। चेन्नई ने 20 ओवर में 5 विकेट पर 193 रन बनाए।

धौनी ने खेली शानदार पारी

चेन्नई का पहला विकेट मोहित शर्मा ने लिया। उन्होंने ओपनर बल्लेबाज शेन वॉटसन को बरिंदर के हाथों कैच करवा दिया। शेन ने 9 गेंदों पर 11 रन बनाए। रैना की जगह टीम में शामिल किए गए मुरली विजय 12 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। एंड्रयू टे की गेंद पर उनका कैच बरिंदर ने पकड़ा। सैम बिलिंग्स 9 रन बनाकर अश्विन की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हुए। अंबाती रायडू सिर्फ एक रन से अपने अर्धशतक से चूक गए। रायडू ने 35 गेंदों पर 49 रन बनाए और रन आउट हो गए। रवींद्र जडेजा 19 रन बनाकर एंड्रयू टे की गेंद पर अश्विन के हाथों कैच आउट हुए। कप्तान धौनी ने 44 गेंदों पर नाबाद 79 रन की पारी खेली पर टीम को जीत नहीं दिला पाए। ब्रावो एक रन बनाकर नाबाद रहे।

पंजाब की तरफ से एंड्रयू टे ने दो जबकि मोहित शर्मा और अश्विन ने एक-एक विकेट लिए।

गेल ने खेली तूफानी पारी

पंजाब का पहला विकेट लोकेश राहुल के तौर पर गिरा। राहुल ने 22 गेंदों पर 37 रन बनाए। उन्होंने पहले विकेट ले लिए गेल के साथ 96 रन की साझेदारी की। राहुल को हरभजन सिंह ने क्लीन बोल्ड कर दिया। क्रिस गेल ने अपने पहले ही मैच में 33 गेंदों पर 63 रन की पारी खेली। उन्हें शेन वॉटसन ने इमरान ताहिर के हाथों कैच आउट करवा दिया। मयंक अग्रवाल 30 रन बनाकर इमरान ताहिर की गेंद पर बोल्ड हो गए जबकि एरोन फिंच इमरान ताहिर की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। वो अपना खाता भी नहीं खोल पाए थे। युवराज सिंह इस मैच में भी नहीं चल पाए। वो 20 रन बनाकर शर्दुल ठाकुर की गेंद पर विकेट के पीछे धौनी के हाथों लपके गए। कप्तान अश्विन ने 14 रन पर अपना विकेट गवां दिया। वो शर्दुल की गेंद पर अपना कैच धौनी को थमा बैठे। करुण नायर 29 रन बनाकर ब्रावो की गेंद पर रवींद्र जडेजा के हाथों लपके गए।

चेन्नई की तरफ से शर्दुल और इमरान ताहिर ने दो-दो जबकि हरभजन सिंह और ब्रावो ने एक-एक विकेट लिए।

Posted on

बैंगलोर को अपने घर में नहीं मिली जीत, राजस्थान रॉयल्स ने 19 रन से हराया

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और राजस्थान रॉयल्स के बीच आइपीएल का 11वां मुकाबला आरसीबी के घरेलू मैदान एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला गया और इस मैच में विराट की टीम को 19 रन से हार का सामना करना पड़ा।

इस मुकाबले में टॉस जीतकर बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली ने पहले गेंदबाज़ी करने का फैसला किया। राजस्थान की टीम ने 20 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर 217 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। राजस्थान की तरफ से संजू सैमसन ने नाबाद 92 रन की तूफानी पारी खेली। बैंगलोर को जीत के लिए 218 रन का लक्ष्य मिला था लेकिन बैंगलोर की टीम 20 ओवर में 6 विकेट पर 198 रन ही बना पाई।

विराट ने लगाया अर्धशतक

बैंगलोर को पहला झटका पारी की शुरुआती में ही लग गया जब ब्रैंडन मैकुलम महज 4 रन के स्कोर पर गौथम की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। डार्सी शॉर्ट ने डी कॉक को आउट कर बैंगलोर को दूसरा झटका दिया। डी कॉक 26 रन बनाकर जयदेव उनादकट के हाथों कैच आउट हो गए। कप्तान कोहली ने 30 गेंदों पर तेज 57 रन की पारी खेली मगर वो श्रेयस गोपाल की गेंद पर अपना कैच डार्सी शॉर्ट को थमा बैठे। टीम के तूफानी बल्लेबाज एबी को श्रेयस गोपाल ने जयदेव उनादकट के हाथों कैच आउट करवा दिया। उन्होंने 18 गेंदों पर 20 रन बनाए। पवन नेगी तीन रन बनाकर कैच आउट हो गए। वाशिंगटन सुंदर ने 19 गेंदों पर 35 रन की तेज पारी खेली। उन्हें बेन स्टोक्स ने क्लीन बोल्ड कर दिया। मंदीप सिंह ने 25 गेंदों पर नाबाद 47 रन बनाए लेकिन टीम को जीत दिलाने में कामयाब नहीं हो पाए।

राजस्थान के लिए श्रेयस गोपाल ने दो, गौथम, बेन स्टोक्स, डार्सी शॉर्ट और बेन लॉघलिन ने एक-एक विकेट लिए।

संजू ने बनाए 45 गेंदों पर नाबाद 92 रन

क्रिस वोक्स ने राजस्थान के कप्तान अजिंक्य रहाणे को आउट कर दिया। रहाणे 20 गेंदों में 36 रन बनाकर उमेश यादव को कैच थमा बैठ और बैंगलोर को मिली पहली सफलता। इसके अगले ही ओवर में चहल ने डार्सी शॉर्ट (11) को विकेटकीपर डि कॉक के हाथों कैच आउट करवाकर राजस्थान को दूसरा झटका दे दिया। इसके बाद चहल ने खतरनाक होते बेन स्टोक्स को 27 रन पर बोल्ड कर बैंगलोर को तीसरी सफलता दिला दी। जोस बटलर ने 23 रन की पारी खेली। उन्हें क्रिस वोक्स की गेंद पर कोहली ने कैच आउट किया। संजू सैमसन ने 45 गेंद पर नाबाद 92 रन की पारी खेली। वहीं राहुल त्रिपाठी ने नाबाद 14 रन बनाए। बैंगलोर की तरफ से क्रिस वोक्स और युजवेंद्र चहल ने दो-दो विकेट लिए।

Posted on

हैदराबाद की लगातार तीसरी जीत, कोलकाता को 5 विकेट से हराया

आइपीएल 2018 के 10वें मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स को सनराइजर्स हैदराबाद ने 5 विकेट से हरा दिया। इस मैच में सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीतकर कोलकाता को पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया। कोलकाता ने 20 ओवर में 8 विकेट खोकर 138 रन बनाए। हैदराबाद को जीत के लिए 139 रन का लक्ष्य मिला था जिसे इस टीम ने 19 ओवर में 5 विकेट खोकर हासिल कर लिया। ये हैदराबाद की लगातार तीसरी जीत थी।

केन विलियमसन का अर्धशतक

साहा अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन नरेन की एक गेंद को खेलने की कोशिश में वो अपना कैच दिनेश कार्तिक को थमा बैठे। साहा ने 15 गेंदों पर 24 रन बनाए। शिखर धवन को भी नरेन ने सस्ते में चलता कर दिया और सिर्फ 7 रन के स्कोर पर क्लीन बोल्ड कर दिया। मनीष पांडे को कुलदीप ने अपना पहला शिकार बनाया और 4 रन पर एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। शाकिब अल हसन को पीयूष चावला ने 27 रन पर क्लीन बोल्ड कर दिया। कप्तान विलियमसन ने 44 गेंदों पर 50 रन बनाए। उन्हें मिचेल जॉनसन ने रसेल के हाथों कैच आउट करवाया। यूसुफ पठान 17 रन जबकि दीपक हुडा 5 रन बनाकर नाबाद रहे।

कोलकाता की तरफ से सुनील नरेन ने दो जबकि मिचेल जॉनसन, पीयूष चावला और कुलदीप यादव ने एक-एक विकेट लिए।

क्रिस लीन ने खेली 49 रन की पारी

कोलकाता की शुरुआत अच्छी नहीं रही और टीम के ओपनर बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा 8 गेंदों पर 3 रन बनाकर आउट हो गए। नितिश राणा को स्टेनलाक ने अपना शिकार बनाया और 18 रन पर उनका कैच मनीष पांडे ने पकड़ा। सुनील नरेन सिर्फ 9 रन बनाकर शाकिब अल हसन का शिकार बने। नरेन का कैच केन विलियमसन ने पकड़ा। शाकिब ने अपनी ही गेंद पर क्रिस लीन का बेहतरीन कैच लपका। लीन ने 34 गेंदों पर शानदार 49 रन बनाए। आंद्रे रसेल 9 रन बनाकर कैच आउट हो गए। कप्तान कार्तिक को भुवनेश्वर ने अपना शिकार बनाया। उन्होंने 27 गेंदों पर 29 रन बनाए और अपा कैच विकेट के पीछे साहा को थमा बैठे। शिवम मावी 7 रन बनाकर सिद्धार्थ कौल का शिकार बने। मिचेल जॉनसन 4 रन बनाकर नाबाद रहे।

हैदराबाद की तरफ से भुवनेश्वर कुमार ने तीन, बिली स्टेनलाक और शाकिब ने दो-दो जबकि सिद्धार्थ कौल ने एक विकेट चटकाया।

Posted on

दिल्ली ने मुंबई को जबकि हैदराबाद ने कोलकाता को हराया, देखिए तस्वीरें

आइपीएल के इस सीजन का दसवां मुकाबला कोलकाता और हैदराबाद के बीच खेला गया और इस मैच में हैदराबाद ने कोलकाता को पांच विकेट से हरा दिया। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए कोलकाता ने 20 ओवर में 8 विकेट पर 138 रन बनाए। जीत के लिए मिले लक्ष्य को हैदराबाद ने 19 ओवर में पांच विकेट शेष रहते हासिल कर लिया।

केन विलियमन ने अर्धशतक लगाकर अपनी टीम की जीत तय कर दी।

दूसरी पारी में साहा ने 15 गेंदों पर 24 रन बनाकर

हैदराबाद को अच्छी शुरुआत देने की कोशिश की।

कोलकाता के खिलाफ धवन सफल नहीं रहे और 7 रन बनाकर आउट हो गए। कोलकाता के लिए ओपनर बल्लेबाज क्रिस लीन ने सबसे ज्यादा 34 गेंदों पर 49 रन बनाए।

कप्तान दिनेश कार्तिक ने 27 गेंदों पर 29 रन की पारी खेली।

रॉबन उथप्पा फिर से फेल रहे और सिर्फ तीन रन बनाकर कैच आउट हो गए। आइपीएल में शिवम मावी का ये पहला मैच था। उन्होंने 7 रन बनाए और अपना विकेट गवां दिया।

आइपीएल सीजन 11 के नौवें मुकाबले में दिल्ली डेयर डेविल्स का सामना मुंबई इंडियंस से हुआ। इस मुकाबले में मुंबई को दिल्ली के हाथों 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। मुंबई ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 195 रन बनाए थे। इसके बाद जीत के लिए मिले लक्ष्य को दिल्ली ने तीन विकेट पर हासिल कर लिया।

दिल्ली के ओपनर बल्लेबाज जेसन रॉय ने अपनी टीम के लिए तूफानी पारी खेली। उन्होंने 53 गेंदों पर 91 रन बनाए। जेसन की पारी से दिल्ली को जीत मिली।

दिल्ली के कप्तान गौतम गंभीर कुछ खास नहीं कर पाए और 16 गेंदों पर 15 रन बनाकर आउट हो गए।

रिषभ पंत अपने अर्धशतक से चूक गए लेकिन उन्होंने 25 गेंदों पर 47 रन की अच्छी पारी खेली और टीम की जीत में अच्छी भूमिका निभाई।

श्रेयस अय्यर ने 20 गेंदों पर 27 रन की नाबाद पारी खेली।

मुंबई की ताबड़तोड़ शुरुआत

मुंबई की टीम ने सूर्य कुमार यादव को ओपनिंग के लिए भेजकर दिल्ली की टीम को हैरान कर दिया। सूर्य कुमार यादव ने पहले ही ओवर में दिल्ली के ट्रेंट बोल्ट की खबर लेते हुए 15 रन ठोक दिए।

यादव के साथ-साथ इविन लुइस ने भी मुंबई को तेज़-तर्रार शुरुआत दी। लुइस ने 28 गेंदों पर 48 रन की ताबड़तोड़ पारी खेलकर दिल्ली की दिलेरों की हालत खराब कर दी।

तेवतिया ने दिया दोहरा झटका

मुंबई इंडियंस को पहला झटका दिल्ली के स्पिन गेंदबाज़ राहुल तेवतिया ने दिया। तेवतिया ने इविन लुईस को 48 रन के स्कोर पर जेसन रॉय के हाथों कैच आउट करवाया। इसके अगले ही ओवर में तेवतिया ने सूर्य कुमार यादव को 53 रन पर एलबीडब्लयू आउट कर मुंबई को दूसरा झटका दे दिया।

इशान किशन की तेज़-तर्रार पारी

इशान किशन ने दिल्ली के गेंदबाज़ों पर प्रहार करना जारी रखा। किशन 23 गेंदों में 44 रन की पारी खेली। इस दौरान उन्होंने 5 चौके और 2 छक्के भी लगाए।

क्रिस्चियन ने दो गेंदों पर झटके दो विकेट

इसके बाद डेन क्रिस्चियन ने दो गेंदों पर दो विकेट झटककर, दिल्ली की मैच में वापसी करा दी। क्रिस्चियन ने पहले इशान किशन को बोल्ड किया और फिर अगली ही गेंद पर क्रिस्चियन ने पोलार्ड को बोल्ड कर दिया।

इसके बाद दिल्ली के गेंदबाज़ों ने दमदार वापसी करते हुए मुंबई की टीम को निर्धारित 20 ओवर में 194 रन पर रोक दिया। मुंबई ने 7 विकेट गंवाए।

Posted on

विराट को मिली पहली जीत, घरेलू मैदान पर पंजाब को 4 विकेट से हराया

आइपीएल 2018 का 8वां मैच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच खेला गया और इस मैच को आरसीबी ने चार विकेट से जीत लिया। इस मैच में बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पंजाब को पहले बल्लेबाजी करने का न्यौता दिया।

पहले बल्लेबाजी करते हुए पंजाब ने निर्धारित 20 ओवर में 155 रन पर ऑल आउट हो गई। बैंगलोर को जीत के लिए 156 रन का लक्ष्य मिला जिसे इस टीम ने एबी के धमाकेदार अर्धशतक के दम पर 19.3 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर हासिल कर लिया। बैंगलोर की इस सीजन में ये पहली जीत थी।

एबी डीविलियर्स की तूफानी पारी

दूसरी पारी में बैंगलोर की शुरुआत काफी खराब रही। टीम के तूफानी ओपनर बल्लेबाज ब्रैंडन मैकुलम बिना कोई रन बनाए अक्षर पटेल का शिकार बन गए। मैकुलम का कैच मुजीब उर रहमान ने पकड़ा। कप्तान विरान ने अपनी लय पकड़ी ही थी कि वो मुजीब उर रहमान की गेंद पर चकमा खाकर क्लीन बोल्ड हो गए। विराट ने 16 गेंदों पर 21 रन बनाए। अश्विन ने डी कॉक को 45 रन पर क्लीन बोल्ड कर दिया। इसके बाद उन्होंने सरफराज खान को करुण नायर के हाथों कैच करवा दिया। सरफराज अपना खाता भी नहीं खोल पाए। एबी ने 40 गेंदों पर दो चौके और चार छक्के की मदद से 57 रन बनाए। उनकी पारी का अंत एंड्रयू टे ने किया। एबी का कैच करुण नायर ने पकड़ा। मंदीप सिंह 22 रन बनाकर रन आउट हो गए। इसके बाद वाशिंगटन सुंदर 9 और क्रिस वोक्स ने नाबाद एक रन पर टीम को जीत दिला दी।

पंजाब की तरफ से अश्विन ने दो, अक्षर पटेल, मुजीब उर रहमान और एंड्रयू टे ने एक-एक विकेट लिए।

लोकेश अर्धशतक से चूके

बैंगलोर को पहली सफलता उमेश यादव ने मयंक अग्रवाल के तौर पर दिलाई। उमेश की गेंद पर मयंक ने अपना कैच विकेट के पीछे डी कॉक को पकड़ा दिया। मयंक ने 15 रन बनाए। उमेश ने टीम के खतरनाक बल्लेबाज एरोन फिंच को बिना खाता खोले ही एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। युवराज सिंह उमेश का तीसरा शिकार बने और सिर्फ 4 रन बनाकर उनकी गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। अच्छी बल्लेबाजी कर रहे लोकेश राहुल को वाशिंगटन सुंदर ने अपनी गेंद पर सरफराज खान के हाथों कैच आउट करवाया। उन्होंने 30 गेंदों पर 47 रन बनाए। करुण नायर को कलवंत खजरोलिया ने क्लीन बोल्ड कर दिया। नायर ने 29 रन की पारी खेली। मार्कस स्टॉयनिस को वाशिंगटन सुंदर ने 11 रन पर विकेट के पीछे कैच आउट करवाया। अक्षर पटेल 2 रन बनाकर कुलवंत की गेंद पर LBW आउट हुए। एंड्रयू टे को क्रिस वोक्स ने अपनी गेंद पर विराट के हाथों कैच आउट करवाया। उन्होंने सिर्फ 7 रन बनाए। कप्तान अश्विन ने 21 गेंदों पर 33 रन की पारी खेली। चहल की गेंद पर वो स्टंप आउट हो गए। मुजिब उर रहमान बिना खाता खोले क्रिस वोक्स की गेंद पर कैच आउट हो गए। मोहित शर्मा एक रन बनाकर नाबाद रहे।

बैंगलोर की तरफ से उमेश यादव ने सबसे ज्यादा तीन, क्रिस वोक्स, कुलवंत खेजरोलिया और वाशिंगटन सुंदर ने दो-दो जबकि युजवेंद्र चहल ने एक विकेट लिए।

Posted on

IPL 2018: हैदराबाद की लगातार दूसरी जीत, मुंबई की एक और हार

सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को रोमांचक मैच में मुंबई इंडियंस को 1 विकेट से मात देकर आईपीएल सीजन 11 में लगातार दूसरी जीत दर्ज की है. वहीं मुंबई इंडियंस को इस टूर्नामेंट में लगातार दूसरी बार हार का सामना करना पड़ा है.

इस मैच में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई इंडियंस ने 20 ओवर में 8 विकेट गंवा कर 147 रन बनाए और सनराइजर्स हैदराबाद को जीत के लिए 148 रनों का टारगेट दिया. जवाब में हैदराबाद की टीम ने 19.5 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया और लगातार दूसरी जीत दर्ज की.

एक समय हैदराबाद को 12 गेंदों में 12 रनों की दरकार थी. 19वां ओवर फेंकने आए मुस्ताफीजुर रहमान ने इस ओवर में सिर्फ एक रन दिया और दो विकेट लेकर हैदराबाद का स्कोर 137/9 कर दिया. साथ ही अपनी टीम मुंबई को मैच में वापस ला दिया.

आखिरी ओवर में मुंबई को एक विकेट और हैदराबाद को 11 रनों की दरकार थी. हुड्डा और बिलि स्टानलेक (नाबाद 2) ने जरूरी रन बनाते हुए मेजबान टीम को दूसरी जीत दिलाई.

आसाना से लक्ष्य का पीछा करने उतरी हैदराबाद को अच्छी शुरुआत मिली. ऋद्धिमान साहा (22) और धवने पहले विकेट के लिए 6.5 ओवरों में 62 रन जोड़े, लेकिन युवा लेग स्पिनर मयंक मार्केंडेय ने चार विकेट लेकर मेजबान टीम की कमर तोड़ दी.

साहा मयंक की फिरकी का शिकार होकर पवेलियन लौटे. कप्तान विलियमसन सिर्फ छह रनों का योगदान दे पाए. विलियमसन 73 के कुल स्कोर पर आउट हुए. धवन को मयंक ने अर्धशतक भी पूरा नहीं करने दिया. 28 गेंदों में तीन चौके मारने वाले धवन का कैच जसप्रीत बुमराह ने 77 के कुल स्कोर पर पकड़ा. मयंक ने मनीष पांडे को भी 11 के निजी स्कोर पर अपना शिकार बनाया.

एक समय मजबूत स्थिति में दिख रही मेजबान टीम लगातार विकेटों के गिरने से संकट में आ गई थी, लेकिन दीपक ने यूसुफ पठान (14) के साथ मिलकर टीम को जीत के करीब ले गए, लेकिन बुमराह ने लगातार दो विकेट लेकर मेजबान टीम को परेशानी में डाल दिया. उन्होंने 18वें ओवर की चौथी गेंद पर पठान और अगली गेंद पर राशिद खान को आउट किया. अगले ओवर में रहमान ने मेजबान टीम की माथे की लकीरों को और गहरा कर दिया.

लेकिन एक छोर पर खड़े दीपक ने टीम को आखिरकार जीत दिला ही दी. उन्होंने अपनी पारी में 23 गेंदों का सामना किया और एक चौका एक छक्का लगाया. यह छक्का उन्होंने आखिरी ओवर की पहली गेंद पर मारा था.

सिर्फ 147 रन ही बना पाई मुंबई

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई इंडियंस ने 20 ओवर में 8 विकेट गंवा कर 147 रन बनाए और सनराइजर्स हैदराबाद को जीत के लिए 148 रनों का टारगेट दिया. केन विलियमसन के टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने के फैसले को उनके गेंदबाजों ने सही साबित किया.

मुंबई इंडियंस की शुरुआत अच्छी नहीं हुई, उसने दूसरे ही ओवर में अपने कप्तान रोहित शर्मा (11) का विकेट गंवा दिया जो फिर से टीम के लिए पारी का आगाज करने में विफल रहे. स्टानलेक के ओवर की अंतिम गेंद पर शाकिब अल हसन ने स्क्वॉयर लेग से डाइव करते हुए उनका कैच लपका.

मुंबई ने छठे ओवर और सिद्धार्थ कौल के पहले ही ओवर में ईशान किशन (11) और सलामी बल्लेबाज एविन लुईस (29 ) के रूप में दो विकेट गंवा दिए. ईशान नौ गेंद खेलने के बाद थर्ड मैन में यूसुफ पठान को कैच देकर चलते बने, जिन्होंने घुटने से स्लाइड करते हुए इसे लपका.

विकेट के लिए सर्वाधिक 38 रन की साझेदारी निभाई. इसके बाद नियमित अंतराल पर अपना विकेट गंवाने के कारण मुंबई की टीम आठ विकेट पर 147 रन तक ही पहुंच सकी.

लुईस ने 17 गेंदों पर तीन चौके और दो छक्के की बदौलत सर्वाधिक 29 रन बनाए और सूर्यकुमार ने 31 गेंदों पर दो चौकों और एक छक्के के सहारे 28 रन की पारी खेली.

हैदराबाद की तरफ से संदीप शर्मा ने 25 रन पर दो विकेट, कौल ने 29 रन पर दो विकेट और स्टानलेक ने 42 रन पर दो विकेट लिए। राशिद खान और शाकिब अल हसन को एक-एक विकेट मिला.

विलियमसन ने टॉस जीतकर मुंबई को दी पहले बैटिंग

सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया है और मुंबई इंडियंस को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया है. मुंबई ने चोटिल ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पंड्या की जगह प्रदीप सांगवान को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया है.

इसके अलावा मिशेल मैक्लेंघन की जगह बेन कटिंग को भी मौका दिया गया है. वहीं हैदराबाद ने भुवनेश्वर कुमार की जगह संदीप शर्मा को प्लेइंग इलेवन में मौका दिया है.