Posted on

एबी डिविलियर्स ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास, इनके नाम दर्ज़ है ये विश्व रिकॉर्ड

डिविलियर्स ने द. अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट 228 वनडे और 78 टी 20 मैच खेले हैं। 114 टेस्ट मैचों में 8765 रन बनाए हैं जिसमें 22 शतक और 46 अर्धशतक बनाए हैं। वे एक बेहतरीन बल्लेबाज के साथ ही एक शानदार विकेट कीपर भी रह चुके हैं।

एक वीडियो संदेश में कहा कि वे दक्षिण अफ्रीका और दुनियाभर में अपने फैंस के शुक्रगुजार हैं। एबी ने कहा अब समय आ गया है जब दूसरे युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाए। ईमानदारी से कहूं तो मैं अब थक गया हूं। ये एक मुश्किल निर्णय है और मैने ये फैसला काफी सोच समझकर लिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि  मैं अपने संन्यास का एलान बेहतरीन क्रिकेट खेलते हुए करना चाहता था। हालांकि वे घरेलू क्रिकेट के लिए उपलब्ध रहेंगे।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज़ शतक लगाने का रिकॉर्ड भी ए बी डिविलियर्स के नाम ही है। ये कमाल उन्होंने 18 जनवरी 2015 को वेस्टइंडीज के खिलाफ महज 31 गेंदों में शतक लगाकर किया था। डीविलियर्स ने कोरी एंडरसन के 36 गेंदों में शतक के रिकॉर्ड को ध्वस्त कर ये रिकॉर्ड बनाया था। उन्होंने 16 छक्कों और 9 चौके की मदद से वनडे का यह कीर्तिमान बनाया। उन्होंने इस मैच में कुल 149 रन बनाए थे।

एबी डीविलियर्स के नाम 31 गेंदों में सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड तो है ही इसके अलावा सबसे तेज 150 रनों का रिकॉर्ड भी डीविलियर्स के ही नाम पर है। साल 2015 विश्व कप में डीविलियर्स ने सिडनी के मैदान पर 64 गेंदों में 150 रन ठोककर विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया था। उन्होंने इस दौरान नाबाद 66 गेंदों में 162 रन बनाए थे जिसमें 17 चौके और 8 छक्के शामिल थे।

Posted on

चैंपियन ब्रावो ने चेन्नई को दिलाई शानदार जीत, मुंबई को एक विकेट से हराया

आइपीएल के 11वें सीजन के पहले मुकाबले में तीन बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस दो बार खिताब जीत चुकी चेन्नई सुुपर किंग्स के सामने थी। इस रोमांचक मुकाबले में चैंपियन ब्रावो की शानदार पारी के दम पर चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई इंडियंस को एक विकेट से हराकर सनसनीखेज शुरुआत की। इस मैच में धौनी ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई इंडियंस ने निर्धारित 20 ओवर में 4 विकेट पर 165 रन बनाए। चेन्नई को मैच जीतने के लिए 166 रन का लक्ष्य मिला था। एक वक्त ऐसा लग रहा था कि मुंबई ये मुकाबला जीत जाएगा लेकिन ब्रावो ने मुंबई के इरादों पर पानी फेर दिया और कमाल का खेल दिखाते हुए टीम को जीत तक पहुंचा दिया। इसके बाद केदार जाधव ने शानदार चौका लगाकर चेन्नई को जीत दिला दी।

ब्रावो की तूफानी पारी

मुंबई ने चेन्नई को पहला झटका शेन वॉटसन के तौर पर दिया। हार्दिक पांड्या की गेंद पर लेविस ने 16 रन पर शेन का कैच लपका। सुरेश रैना सिर्फ 4 रन बनाकर हार्दिक पांड्या की गेंद पर कृणाल पांड्या के हाथों कैच आउट हो गए। अंबाती रायडू को मयंक ने एलबीडब्ल्यू आउट किया। रायडू ने 19 गेंदों पर 22 रन बनाए। टीम के कप्तान धौनी ने अपनी टीम को निराश किया और सिर्फ पांच रन बनाकर मयंक की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। रवींद्र जडेजा 12 रन बनाकर मुस्ताफिजुर रहमान का शिकार बने। जडेजा का कैच सुर्यकुमार यादव ने लपका। दीपक चाहर बिना खाता खोले मयंक की गेंद पर स्टंप आउट हुए। ईशान किशन ने चाहर को स्टंप किया। हरभजन सिंह 8 रन बनाकर मैक्लेघन की गेंद पर बुमराह के हाथों कैच आउट हुए। मार्क वुड हार्दिक पांड्या की गेंद पर एक रन बनाकर आउट हो गए। वुड का कैच मुस्ताफिजुर ने लपका। ब्रावो ने 30 गेंदों पर तूफानी 68 रन की पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 3 चौके और 7 छक्के लगाए। बुमराह की गेंद पर ब्रावो का कैच रोहित शर्मा ने पकड़ा। केदार जाधव ने 22 गेंदों पर नाबाद 24 रन की पारी खेली। जाधव एक बार इंजर्ड होकर मैदान से बाहर चले गए थे लेकिन आखिरी वक्त पर वो फिर से बल्लेबाजी के लिए उतरे और टीम को बेहतरीन जीत दिलाई।

Posted on

रिद्धिमान साहा ने सिर्फ 20 बॉल में 102 रन मार दिए, वो भी नॉट आउट

लगता है धोनी की रिटायरमेंट के बाद उनकी जगह अपना दावा मज़बूत करने के इकलौते मकसद से खेल रहे हैं. पहले दिनेश कार्तिक ने निदाहस ट्रॉफी फाइनल में ग़दर काटा था. अब रिद्धिमान साहा ने तांडव मचा दिया है. उन्होंने 20 – हां सही पढ़ा आपने – सिर्फ 20 बॉल में 102 रन ठोक डाले हैं. 14 छक्के और 4 चौकों के साथ. सिर्फ दो रन भागकर लिए. ये अद्भुत बैटिंग है. होश उड़ा देने वाली.

साहा ने ये कमाल जेसी मुखर्जी ट्रॉफी में कर दिखाया है. बी.एन.आर क्लब और मोहन बागान क्लब के बीच ट्वेंटी-ट्वेंटी मैच हुआ. बी.एन.आर वालों ने 20 ओवर में 151 रन बनाए. साहा ओपनिंग करने उतरे और सिर्फ 7 ओवर में मैच जिता डाला. साहा के साथ उतरे सुभोमोय दास ने भी 22 गेंदों में 43 रन मार दिए. कुल मिलाकर जाबड़ बल्लेबाज़ी हुई.

आईपीएल सर पर है. ऐसे में साहा का सही गियर में आना सनराईज़र्स हैदराबाद के लिए अच्छी ख़बर है. उन्होंने साहा को 5 करोड़ में खरीदा था.

Posted on

भारत ने साउथ अफ्रीका को 8 विकेट से हराया, सीरीज पर किया 5-1 से कब्जा

कप्तान विराट कोहली की रिकार्डतोड़ पारी और 35वें वनडे शतक की मदद से भारत ने छठे और आखिरी मैच में आज दक्षिण अफ्रीका को आठ विकेट से हराकर श्रृंखला 5.1 से जीत ली । दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर भारत ने यह पहली श्रृंखला जीती है और उपमहाद्वीप के बाहर यह सबसे बड़ी जीत है । भारत ने जीत के लिये 205 रन का लक्ष्य 32.1 ओवर में दो विकेट खोकर हासिल कर लिया । कोहली ने 96 गेंद में नाबाद 129 रन बनाये जो इस श्रृंखला में उनका तीसरा शतक है । दक्षिण अफ्रीका को पिछले 17 साल में अपनी धरती पर द्विपक्षीय श्रृंखला में सबसे करारी हार मिली है । पिछली बार वह 2001-02 में आस्ट्रेलिया से 1-5 से हारी थी ।

सीरीज में कुलदीप आैर चहल ने निभाया बखूबी साथ
भारतीय कप्तान ने दक्षिण अफ्रीकी आक्रमण को धता बताते हुए गेंदबाजों को मैदान के चारों ओर धुना । वह द्विपक्षीय वनडे श्रृंखला में 558 रन बनाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बन गए। उन्होंने रोहित शर्मा का 491 रन का रिकार्ड तोड़ा जो उन्होंने आस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था । वह वनडे क्रिकेट में सिर्फ 200 पारियों में सबसे तेजी से 9500 रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए । कोहली ने अपना 35वां शतक सिर्फ 82 गेंदों में पूरा किया जिसमें 19 चौके और दो छक्के लगाये । टेस्ट श्रृंखला में मिली हार के बाद आलोचना झेल रहे कोहली ने वनडे श्रृंखला में मोर्चे से अगुवाई की । कलाई के स्पिनरों युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने क्रमश: 16 और 17 विकेट लेकर उनका बखूबी साथ निभाया ।

204 पर ढेर हुई अफ्रीकी टीम
इससे पहले युवा तेज गेंदबाज शरदुल ठाकुर ने श्रृंखला में पहली बार खेलते हुए चार विकेट लिये जिसकी मदद से भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 204 रन पर आउट कर दिया। ठाकुर ने 52 रन देकर चार विकेट लिये । उन्हें भुवनेश्वर कुमार की जगह उतारा गया था । स्पिनर कुलदीप यादव ने एक और युजवेंद्र चहल ने दो विकेट लिये । दोनों ने मिलकर छह मैचों की श्रृंखला में 33 विकेट ले लिए हैं । एडेन मार्करेम ( 24 ) और हाशिम अमला ( 10 ) ने धीमी शुरूआत की । ठाकुर ने पहले स्पैल में ही अपने तेवर जाहिर कर दिये थे हालांकि मार्करेम ने उन्हें दो चौके जड़े थे । जसप्रीत बुमराह ने दूसरे छोर से रनगति पर अंकुश लगाये रखा । दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिये 23 रन जोड़े लेकिन अमला को ठाकुर ने विकेट के पीछे लपकवाकर पवेलियन भेजा ।  मार्कराम कवर में श्रेयस अय्यर को कैच देकर लौटे । इसके बाद एबी डिविलियर्स ( 30 ) और खाया जोंडो ( 54 ) ने तीसरे विकेट के लिये 62 रन जोड़े । दोनों ने स्ट्राइक रोटेट करते हुए रन बनाये ।  जोंडो ने चहल को एक ओवर में दो छक्के लगाये । दोनों ने 50 रन की साझेदारी 52 गेंद में पूरी की । दक्षिण अफ्रीका ने 19वें ओवर में 100 रन पूरे किये ।

ऐसा लग रहा था कि दक्षिण अफ्रीका बड़े स्कोर की ओर बढ रहा है लेकिन चहल ने 21वें ओवर में डिविलियर्स को बोल्ड करके मेजबान के मंसूबों पर पानी फेर दिया । इस बीच 57 गेंदों में कोई चौका नहीं लगा और डिविलियर्स के आउट होने के बाद रनगति पर अंकुश लग गया । इस बीच जोंडो और हेनरिच क्लासेन ( 22 ) ने 58 गेंद में सिर्फ 30 रन जोड़े ।  क्लासेन को बुमराह ने रवाना किया जिनका कैच शार्टकवर पर विराट कोहली ने लपका । इसके बाद फरहान फरहान बेहार्डियन को ठाकुर ने आउट किया । बुमराह ने उनका शानदार कैच थर्डमैन पर पकड़ा । दक्षिण अफ्रीका ने छह गेंद के भीतर दो विकेट गंवा दिये और 32वें ओवर में स्कोर पांच विकेट पर 136 रन था । क्रिस मौरिस ( 4 ) को दो ओवर बाद यादव ने आउट किया । जोंडो और एंडिले पी ( 34 ) ने अपनी ओर से रनगति बढाने की कोशिश की । जोंडो ने अपना पहला वनडे अर्धशतक 67 गेंद में पूरा किया ।