Posted on

कुली का कमाल: स्‍टेशन के फ्री वाई फाई की मदद से पास की UPSC की परीक्षा

सपने पूरे करने के लिए हौंसला चाहिए सुविधा नहीं इस सच को सुनाती है इस कुली कीकहानी जो स्‍टेशन के फ्री वाईफाई की मदद से सिविल सेवा परीक्षा में पास हुआ।

केरल में एर्नाकुलम स्टेशन पर कुली का काम करने वाले श्रीनाथ के. की कहानी कुछ अनोखी है, जिन्होंने रेलवे स्टेशन पर उपलब्ध मुफ्त वाईफाई सुविधा के सहारे इंटरनेट के जरिये पढ़ाई की और केरल पब्लिक सर्विस कमीशन, केपीएससी की लिखित परीक्षा पास की। सबसे बड़ी बात ये है कि तैयारी के दौरान वह किताबों में नहीं डूबे रहे बल्‍कि अपना काम करते हुए स्मार्ट फोन और ईयरफोन के सहारे पढ़ाई करते रहे। अब अगर श्रीनाथ साक्षात्‍कार में सफल हो जाते हैं तो वह भूमि राजस्व विभाग के तहत विलेज फील्ड असिस्टेंट के पद पर नियुक्‍त्‍त हो जायेंगे।

तीसरे प्रयास में मिली सफलता

श्रीनाथ पिछले पांच वर्ष से कुली के रूप में काम कर रहे हैं और उनका सिविल परीक्षा के इम्‍तिहान में बैठने का ये तीसरा प्रयास था। उनका कहना है कि यह पहला मौका था, जब उन्‍होंने स्टेशन पर उपलब्ध वाईफाई सुविधा का इस्तेमाल किया। उन्‍होंने ये भी बताया कि कुली का काम करने के दौरान वे हमेशा ईयरफोन कान में लगाए रखते थे और इंटरनेट पर अपने संबंधित विषयों पर लेक्चर सुना करते थे। उसे मन ही मन दोहराते भी रहते थे और रात को मौका मिलते ही फिर रिवाइज कर लेते थे। इसी वाईफाई की मदद से उन्‍होंने ऑनलाइन अपना परीक्षा फार्म भरा और देश दुनिया की ताजा जानकारियों से खुद को अपडेट किया साथ ही अपने विषयों की जम कर तैयारी की।

Posted on

BSF ने बेनकाब की चीन-पाक की साजिश, भारत को 5 तरीके से घेरने का था प्लान

चीन और पाकिस्तान का नापाक गठजोड़ भारत को 5 तरीकों से घेरने की साजिश में जुटा है. आज तक/इंडिया टुडे के पास उन सभी जगह की जानकारी मौजूद है जहां पाकिस्तान को चीन आधुनिक हथियारों और सर्विलांस सिस्टम से लैस कर रहा है. चीन और पाकिस्तान की क्या है चाल और कैसे भारत को इससे सतर्क रहने की है जरूरत?

1. हथियारों की ट्रेनिंग और सर्विलांस सिस्टम

केंद्र सरकार को बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) की ओर से सौंपी रिपोर्ट में राजौरी सेक्टर में एलओसी के उस पार पाकिस्तान और चीन की खुराफातों को लेकर आगाह किया गया है. इस साल 20 अक्टूबर को सौंपी गई इस रिपोर्ट में बताया गया है कि किस तरह कब्रिस्तान जियारत टॉप और फॉरवर्ड डिफेंडेड लोकेलिटी 26 छलीरा पर पाकिस्तानी सैनिकों को चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की ओर से आधुनिक हथियारों की ट्रेनिंग दी जा रही है. साथ ही सर्विलांस सिस्टम से पूरे इलाके को लैस करने में भी चीन पाकिस्तान की मदद कर रहा है.

चीन और पाकिस्तान की इन चालों पर भारतीय सुरक्षा बलों की पैनी नजर है. भारत के जवान जहां पूरी तरह मुस्तैद हैं वहीं एलओसी के पार से होने वाले किसी भी दुस्साहस का मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं.

2.  जैसलमेर सेक्टर में सरहद के उस पार हलचल तेज

चालबाज चीन सिर्फ राजौरी सेक्टर में ही पाक की मदद नहीं कर रहा है. राजस्थान के जैसलमेर सेक्टर में सरहद के उस पार भी पाकिस्तानी सेना को चीन सर्विलांस इक्विपमेंट से मजबूत करने में जुटा है. खुफिया सूत्रों के मुताबिक जैसलमेर बॉर्डर एरिया में सरहद के उस पार 16 पहिया वाले वाहन में इस सर्विलांस सिस्टम को लाद कर पहुंचाया गया. जब ये वाहन मूवमेंट कर रहा था तब रेत में फंस भी गया. आज तक/इंडिया टुडे को मिली जानकारी के मुताबिक इस सर्विलांस इक्विपमेंट का नंबर UC 8451****0/G-NOM है.

3. चीन की मदद से पाक ने बनाए 200 से ज्यादा कंक्रीट बंकर

रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के श्रीगंगानगर, बीकानेर, बाड़मेर और जैसलमेर से लगती सरहद के उस पार पाकिस्तान धड़ाधड़ कंक्रीट के बंकर बनाने में लगा है. स्ट्रैटेजिक लोकेशन्स में एक महीने में करीब 200 पक्के बंकर बना लिए गए हैं. साथ ही 100 बंकर और बनाने की तैयारी है. इन बंकरों को बनाने में पाकिस्तान को चीन तकनीकी मदद दे रहा है.

4. भुज सेक्टर में सरहद से 50 किलोमीटर दूर एयरपोर्ट का निर्माण

चीन और पाकिस्तान की नापाक हरकतों से गुजरात से सटा बॉर्डर भी अछूता नहीं है. इस साल 13 अक्टूबर की खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात में भुज सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर के उस पार महज 50 किलोमीटर की दूरी पर पाकिस्तान चीन के साथ मिलकर मीठी एयरपोर्ट बना रहा है. यहां चीनी नागरिकों की मौजूदगी देखी गई है. पाकिस्तानी सेना, पाक रेंजर्स और पाकिस्तान पुलिस के अधिकारी यहां निर्माण कार्य की निगरानी कर रहे हैं.

5. आतंकियों की घुसपैठ के लिए सर्द मंसूबा

चीन ने पाकिस्तान को आधुनिक कॉनवाई जैमिंग सिस्टम खऱीदने में मदद की है. सूत्रों के मुताबिक चीन की मदद से ये सिस्टम स्विट्जरलैंड से खरीदा गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के पाकिस्तान इस सिस्टम का इस्तेमाल बॉर्डर एरिया में करने की फिराक में है.

यहीं नहीं पाकिस्तान ने हांगकांग की एक कंपनी से सर्दियों में इस्तेमाल होने वाले कपड़े और अन्य सामग्री भी खरीदी है. इनमें स्पेशल जैकेट्स, ट्राउजर, हाई एल्टीट्यूड बूट्स और स्लीपिंग बैग्स शामिल हैं. बड़ी संख्या में खास तरह के दस्तानों (Mitten Gloves) का भी आर्डर दिया गया है. खुफिया रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तानी सेना ने आतंकियो की घाटी में घुसपैठ कराने के लिए सुपर हाई एल्टीट्यूड क्लॉथ (super high altitude cloth) खरीदे हैं. ऐसे कपड़ों का इस्तेमाल अक्सर सैनिक करते हैं. लेकिन पाकिस्तान इसका इस्तेमाल माइनस 50 डिग्री तापमान में भी आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए कर सकता है.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर का कहना है कि पाकिस्तान हमेशा ऐसी हरकतें करता रहा है, इसके लिए उसकी कोशिश बाहर से भी मदद लेने की रहती है. अहीर के मुताबिक किसी भी दूसरे देश को पाकिस्तान की नापाक गतिविधियों में साथ नहीं देना चाहिए.चीन का नाम लिए बिना अहीर ने कहा कि अगर कोई हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान की मदद करता भी है तो भी हम पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं.