Posted on Leave a comment

प्रोफेसर सतीश प्लास्टिक से पेट्रोल बना कर कमा रहे हैं 2 से 3 लाख प्रतिमाह। जानें कैसे!

हैदराबाद के 45 वर्षीय प्रोफेसर सतीश ने डेड प्लास्टिक को डीपोलिमराईज़ेशन या पयरोलीसिस प्रक्रिया से पेट्रोल बनाने का सफल उद्योग शुरू किया है।

Fuel from plastic by pyrolysis

सतीश एक मेकैनिकल इंजीनियर हैं और 200 लीटर से अधिक पेट्रोल का उत्पादन प्रतिदिन कर रहे हैं।

Satish petrol from plastic

डेड प्लास्टिक वह प्लास्टिक होती है जो कि प्लास्टिक को 4 से 5 बार रिसायकल करने पर प्राप्त होती है। यह उपयोग नहीं की जा सकती तथा प्लास्टिक के सभी गुण खो चुकी होती है। यह प्लास्टिक अभी भी नष्ट नहीं होती और इसको बड़े बड़े डंपिंग ग्राउंड्स में इसको ढककर डाल दिया जाता है।

Dead plastic

प्रोफेसर सतीश की इस सफलता से पर्यावरण को बेहद ही सकारात्मक लाभ हो रहा है और इसको बड़े स्तर पर जल्द से जल्द शुरू किया जाना चाहिए। एक ओर जहां इस प्लांट में पानी का इस्तेमाल नहीं होता, साथ ही इसमें कोई चिमनी न होने से पर्यावरण को भी संरक्षित रखा जाता है।

वर्ष 2013 से सतीश ने इस विषय पर कार्य करना शुरू किया। अगस्त 2015 तक इन्होंने सफलता पाकर कारखाना लगाने का काम शुरू किया जिससे जनवरी 2016 तक काम करना शुरू कर दिया।

Satish machine petrol from plastic

प्रोफेसर सतीश की यह मशीन एक बार मे 300 लीटर डीज़ल, 100 लीटर हाई स्पीड डीज़ल और 50 लीटर पेट्रोल बनाती है।

Satish lab final products

प्रोफेसर सतीश की कंपनी हाइड्रोक्सी सिस्टम्स भारत सरकार की बायोफ्यूल पॉलिसी का फ़ायदा उठाकर सफलता पूर्वक कार्य कर रही है और हम सभी को इस पर्यावरण की रक्षा करने की प्रेरणा दे रही है।

Posted on Leave a comment

करवा चौथ स्पेशल: अनोखा है बरवाड़ा का चौथ माता मंदिर

राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा गांव में स्थित है चौथ माता का एक मंदिर, जिसके नाम पर इस गांव का नाम ही बरवाड़ा से बदल कर चौथ का बरवाड़ा हो गया। ये चौथ माता का सबसे प्राचीन आैर सबसे अधिक ख्याति प्राप्त मंदिर माना जाता है। कहते हैं इस मंदिर की स्थापना महाराजा भीमसिंह चौहान ने की थी। चौथ का बरवाड़ा, अरावली पर्वत श्रंखला में बसा हुआ मीणा व गुर्जर बाहुल्य क्षेत्र है। बरवाड़ा का नाम 1451 में चौथ माता के नाम पर चौथ का बरवाड़ा घोषित किया गया था।यहां पर चौथ माता मंदिर के अलावा मीन भगवान का एक भव्य मंदिर आैर भी है।

राजस्थानी शैली का खूबसूरत मंदिर

चौथ माता मंदिर करीब एक हजार फीट ऊंची पहाड़ी पर शहर से करीब 35 किमी दूर है। ये स्थान पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है आैर इसकार प्राकृतिक सौंदर्य मन को मोहने वाला है। इस जगह पर सफेद संगमरमर से बने कई स्मारक हैं। दीवारों और छत पर जटिल शिलालेख के साथ यह मंदिर वास्तुकला की परंपरागत राजपूताना शैली के लक्षणों को प्रकट करता है। मंदिर में वास्तुकला की परंपरागत राजपूताना शैली देखी जा सकती है। यहां तक पहुंचने के लिए करीब 700 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं। देवी की मूर्ति के अलावा, मंदिर परिसर में भगवान गणेश और भैरव की मूर्तियां भी हैं। 1452 में मंदिर का जीर्णोद्घार किया गया था। जबकि मंदिर के रास्ते में बिजली की छतरी और तालाब 1463 में बनवाया गया। बताते हैं महाराजा भीम सिंह पंचाल के पास एक गांव से चौथ माता की मूर्ति लाए थे।

लगता है भक्तों का जमावड़ा

चौथ का बरवाड़ा बेशक एक छोटा सा इलाका है, जहां शक्तिगिरी पर्वत पर मंदिर बना हुआ है। इसके बावजूद ये श्रद्घालुआें का प्रिय धार्मिक स्थल बना हु है। चौथ माता को हिन्दू धर्म की प्रमुख देवी मानी जाती है, जिनके बारे में विश्वास है कि वे स्वयं माता पार्वती का एक रूप हैं। यहां हर महीने की चतुर्थी पर लाखों दर्शनार्थी माता जी के दर्शन हेतु आते हैं। चौथ का बरवाड़ा शहर में हर चतुर्थी को स्त्रियां माता जी के मंदिर में दर्शन करने के बाद व्रत खोलती है एवं सदा सुहागन रहने आशीष प्राप्त करती है। करवा चौथ एवं माही चौथ पर यहां लाखों की तादाद में दर्शनार्थी पहुंचते है। चौथ माता के दर्शनों के लिए स्त्रियों की भीड़ पुरुषों की अपेक्षा अधिक रहती है क्योंकि इस मंदिर को सुहाग के लिए आर्शिवाद प्राप्त करने का सबसे महत्वपूर्ण स्थान माना जाता है।

Posted on Leave a comment

अब ट्रेन की लोकेशन भी बताएगा गूगल, जानें अन्य नई सुविधाओं के बारे में

Google for India Edition 4 इवेंट में गूगल के भारत के भविष्य के प्लान्स के बारे में कई घोषणाएं की गई हैं। जिनमें गूगल सर्च और मैप्स के साथ ही पेमेंट सिस्टम्स के बारे में कई घोषणाएं शामिल हैं। गूगल के सीनियर इंजीनियरिंग डायरेक्टर प्रवीर गुप्ता ने बताया कि गूगल असिस्टेंट अब मराठी भाषा को भी सपोर्ट करेगा। आइए, जानते हैं गूगल की बड़ी घोषणाओं के बारे में

गूगल तेज का नाम बदला

प्रवीर गुप्ता ने आगे कहा, Google असिस्टेंट जल्द ही अन्य 7 भाषाओं को भी सपोर्ट करेगा। इतना ही नहीं, आप अब अपने Google असिस्टेंट पर ट्रेन की लोकेशन भी जान सकते हैं। गूगल तेज ऐप का नाम बदलकर ”गूगल पे” रखा गया है। Google ने हाल में घोषणा की थी कि ”Tez” ऐप के डाउनलोड की संख्या 5 करोड़ पार कर गई है। Google के इस सालाना इवेंट में मैप्स और असिस्टेंट में भी कुछ खास फीचर जोड़ा सकता है।

भारत में अपार संभावनाएं

गूगल के वाइस प्रेसिडेंट सेल्स एंड ऑपरेशन (साउथ ईस्ट एशिया) राजन आनंदन ने कहा, भारत में इस समय 400 मिलियन इंटरनेट यूजर्स हैं, जिसमें 45 फीसद महिलाएं हैं। भारत में गूगल के लिए अपार संभावनाएं हैं।भारत में वॉयस सर्च करने के मामले में 270 फीसद की वृद्धि देखी गई है। हमारा लक्ष्य अगले 2 वर्षों में 500 मिलियन तक पहुंचने की है। हम इसलिए भारतीय भाषाओं में सर्च के ऑप्शन को बढ़ा रहे हैं।

50 फीसद से ज्यादा सर्च करने वाले यूजर्स बढ़े

आनंदन ने आगे कहा, भारत में कई यूजर्स अब गूगल पर सर्च करके अपने जवाब पा रहे हैं। पिछले 12 महीने में हर दिन मोबाइल पर 50 फीसद से ज्यादा बार भारतीय यूजर्स कुछ न कुछ सर्च कर रहे हैं।

प्रोजेक्ट नवलेखा की शुरुआत

गूगल ने इस इवेंट में अपने ”प्रोजेक्ट नवलेखा” की शुरुआत की है। इस प्रोजेक्ट के तहत अब पब्लिशर्स अपने कंटेंट को ऑनलाइन पब्लिश कर सकेंगे। इस प्रोजेक्ट के तहत देश के 1,35,000 भारतीय पब्लिशर्स को डिजिटाइज्ड किया जाएगा।

एंड्रॉइड गो में जोड़े दो नए फीचर्स

गूगल के एंड्रॉइड गो में दो नए फीचर्स जोड़े गए है। अब गो यूजर्स दो भाषाओं में न्यूज फीड और ऑडियो प्लेबैक के द्वारा आर्टिक्ल्स चुन सकेंगे। बाद में इस फीचर में अंग्रेजी और हिंदी के अलावा कई भारतीय भाषाओं जैसे मराठी, मलयालम आदि को जोड़ा जाएगा।

वॉयस असिस्टेंट अब भारतीय भाषाओं में करेगा काम

गूगल का वॉयस असिस्टेंट अब हिंदी और अंग्रेजी के अलावा मराठी भाषा को भी सपोर्ट करेगा। इसके साथ ही कंपनी वॉयस असिस्टेंट के साथ 7 अन्य भाषाओं को भी जो़ड़ेगा।

मैप्स गो ऐप में जोड़ा गया टर्न-बाय-टर्न नेविगेशन फीचर

गूगल के मैप्स गो ऐप के साथ टर्न-बाय-टर्न नेविगेशन फीचर को जोड़ा गया है। गूगल मैप्स के इस लाइट वर्जन में अब पब्लिक ट्रांसपोर्ट के साथ भी वॉयस नेविगेशन फीचर काम करेगा। इसके अलावा कोलकाता के लाखों लोगों के लिए प्लस कोड भी प्रोवाइड करेगा।

400 से ज्यादा एंड्रॉइड गो स्मार्टफोन इस साल होंगे लॉन्च

सैमसंग के फ्लैगशिप वाला गैलेक्सी J2 कोर स्मार्टफोन एंड्रॉइड गो ऑपरेटिंग सिस्टम पर रन करेगा। सैमसंग का यह पहला स्मार्टफोन होगा जो गूगल के एंड्रॉइड गो को सपोर्ट करेगा। इस साल के अंत तक 400 से ज्यादा एंड्रॉइड गो ऑपरेटिंग सिस्टम वाला स्मार्टफोन लॉन्च किया जाएगा।

Posted on Leave a comment

टीवीएस की नई Apache RTR 200 रेस एडिशन हुई लॉन्च, जानिए कीमत

TVS मोटर ने अपनी पीमियम और पॉपुलर बाइक Apache RTR 200 4V को लॉन्च कर दिया है यह अपाचे 200 का रेसिंग मॉडल है। इस बाइक में ऐंटी रिवर्स टॉर्क स्लिपर क्लचर और नए ग्राफिक्स शामिल किये हैं। जिसकी वजह से राइडर को इसे चलाते हुए नयापन महसूस होगा।

Apache RTR 200 4V अपने सेगमेंट की पहली ऐसी बाइक है जिसमें एडवांस्ड ‘A-RT स्लिपर कल्च’ दिया गया है इसे ऐंटी रिवर्स टॉर्क यूनिट कहा जाता है इसकी मदद से क्लच ऑपरेट करने में 22 फिसद तक कम ताकत लगती है। इससे कल्च हैंडलिंग आसानी से और तेजी से होती है।

कीमत की बात करें तो स्लिपर कल्च टेक्नोलॉजी वाले कार्ब्युरेटर वेरिएंट की कीमत 95,185 रुपये रखी है जबकि EFI इंजन के साथ स्लिपर कल्च वाले वेरिएंट की कीमत 1, 07,885 रुपये है तो वही स्लिपर कल्च के साथ कार्ब्युरेटर और ABS वाले वेरिएंट की कीमत 1, 08,985 रुपये रखी गई है।

बाइक के इंजन में कोई मैकेनिकल बदलाव नहीं किया है। इसमें मौजूदा 197.5cc का इंजन लगा है जो 20.21bhp कार्ब्युरेटर वेरिएंट में और 20.71bhp EFI वेरिएंट में जेनरेट करता है। हालांकि दोनों में पिक टॉर्क 18.1Nm ही रहेगा।

बजाज की पल्सर से है मुकाबला

TVS अपाचे 200 का मुकाबला बजाज की पल्सर NS200 से होगा। पल्सर NS200 में एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम की सुविधा है और कीमत 1.09 लाख रुपये है। पल्सर NS 200 में 200cc का सिंगल सिलेंडर, लिक्विड कूल्ड, इंजन लगा है। जो 23.5bhp की पॉवर और और 18.3Nm का टॉर्क देता है जनरेट करता है यह इंजन BS-IV मानकों पर खरा उतरता है।