Posted on Leave a comment

दुनिया की सारी खूबसूरती समेटे है भारत के ये विश्वप्रसिद्ध आइलैंड्स। जानें इनका हर पहलू करीब से!

जब भी सिनेमा पर हम आइलैंड और बीच का नजारा देखते हैं हम यही सोचते हैं की जरूर यह कोई विदेशी जगह होगी, परंतु आपकी यही गलतफहमी को हम आज दूर कर रहे हैं। आज आपको लेकर चलते हैं भारत के विश्वप्रसिद्ध आइलैंड्स की सैर पर। जानिए इनको करीब से और अगली छुट्टियों में इनका करीब से दीदार करने का प्लान बनाइये!

लक्षद्वीप

अरब सागर में बसा लक्षद्वीप भारत की मुख्य भूमि सीमा से कटा हुआ है। नारियल और पाम के ख़ूबसूरत जंगल इस आइलैंड को और आकर्षक बनाते हैं। सरकार यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लगातार कोशिश कर रही है।

दीव

दीव को आप अनजाने में पुर्तगाल समझ सकते हैं। दीव के रेतीले मैदान, ऐतिहासिक इमारतें, गुजराती और पुर्तगाली संस्कृति का संगम पर्यटकों को किसी स्वप्न लोक की तरह लगते हैं।

दमन

इस आइलैंड को पुरानी इमारतें, नदियां, झरने और समंदर के ख़ूबसूरत नज़ारे बेहद ख़ास बनाते हैं। यहां दमनगंगा, मोती बीच, देविका बीच, जैमपोरे बीच पर पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है। यहां किसी भी मौसम में आया जा सकता है।

माजुली आइलैंड

माजुली आइलैंड ब्रम्हपुत्र नदी का हिस्सा है। यह नदियों पर बसे सबसे बड़े आइलैंड्स में से एक है। गुवाहाटी से यहां आना बेहद आसान है। असमिया संस्कृति की झलक इस आइलैंड पर आपको मिल सकती है।

दीवर आइलैंड

मांडवी नदी में बसे इस आइलैंड पर प्रकृति मेहरबान है। बहुत दिनों तक सब इस जगह से अनजान थे। यहां लेडी ऑफ कम्पैशन और यूरोपियन हाउस लोग देखने आते हैं। फिल्म दिल चाहता है के कुछ सीन यहां शूट किए गए थे।

सेंट मैरी आइलैंड

वास्को डी गामा भारत इसी आइलैंड के रास्ते आया था। ये आइलैंड चार हिस्सों में बंटा है। कोकोनट, नॉर्थ, साउथ और दरया बहादुरगढ़ आइलैंड। इस आइलैंड के बारे में भारत में बहुत कम लोग जानते हैं।

बैरन आइलैंड

बैरन आइलैंड में लोग नहीं रहते। साउथ एशिया का यह इकलौता जीवित ज्वालामुखी है। यहां स्पेशल परमिट बनवाने पर केवल कुछ हिस्सों की सैर की जा सकती है।

ग्रेट निकोबार आइलैंड

निकोबार देश का सबसे खूबसूरत और बड़ा आइलैंड है। हर मौसम में लोग यहां आते हैं। यहां की खूबसूरती वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी के लिए सबसे अनुकूल जगह है। यहां आप किसी भी मौसम में आ सकते हैं।

तो फिर हमें बताइए कौनसा आइलैंड आपको सबसे ज्यादा पसंद आया और अगर सोच ही लिया तो फैसला भी करिए। किसी भी मार्गदर्शन के लिए हम सदैव आपके साथ हैं।

Posted on Leave a comment

स्वतंत्रता दिवस स्पेशल: आजाद भारत में इन 5 बाइक्स ने मचाया तहलका, इनमें से कौन सी बाइक है आपकी फेवरेट!

शक्तिशाली रॉयल एनफील्ड बुलेट से लेकर सबसे पुरानी मोटसाइकिलों में से एक को स्वतंत्र भारत में टू-स्ट्रॉक के साथ बेचा जाना था जो यामाहा RD 350 थी। भारत में आज भी इन मोटरसाइकिल्स को याद किया जाता है। 72 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आज हम आपको उन बाइक्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो 1947 के बाद भारत में काफी पॉपुलर हुई हैं।

रॉयल एनफील्ड बुलेट

रॉयल एनफील्ड पहली मोटरसाइकिल्स में से एक ऐसी थी जो भारत आजाद होने के सबसे ज्यादा बेची गई। इस बाइक को सबसे पहले बॉर्डर पर गश्त करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था और यह अब भारतीय सेना की सबसे पसंदीदा बाइक है। 1955 में यूके की रॉयल एनफील्ड और मद्रास मोटर्स ने भारत में फैक्ट्री खोली जो कि अभ चेन्नई में स्थित है और इस फैक्ट्री में बुलेट 350 को असेम्बल किया गया जो कि रॉयल एनफील्ड की इग्लैंड फैक्टरी रेड्डिच से लाई गई थी। 1962 में बुलेट 350 को भारत में भारत में स्क्रैच द्वारा मैन्युफैक्चर किया गया और कंपनी ने यहा सालाना इसकी 20,000 यूनिट्स बनानी शुरू कर दी। आज 40 साल बाद भी रॉयल एनफील्ड बुलेट 350 में समान टेक्नोलॉजी का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। अब रॉयल एनफील्ड पूरी तरह भारत की आयशर मोटर्स के स्वामित्व वाली कंपनी बन चुकी है।

येज्दी रोडकिंग

येज्दी मूल रूप से चेक-मूल जावा मोटरसाइकिल का भारतीय वर्जन है और इसने भारतीय बाजार में स्वतंत्रता दिवस के बाद कई पॉपुलर बाइक्स बनाई हैं। भारत में इस कंपनी ने 1973 से बाइक्स की बिक्री शुरू की। भारतीय बाजार में येज्दी ने कई मॉडल्स उतारे लेकिन उनमें सबसे ज्यादा पॉपुलर मॉडल येज्दी रोडकिंग था, जिसे 1978 से लेकर 1996 तक मैसूर के आदर्श जावा फैक्ट्री में बनाया गया। इस बाइक में 250cc सिंगल-सिलेंडर 2-स्ट्रॉक इंजन है जो 16bhp की पावर और 24Nm का टॉर्क जनरेट करता है।

हीरो होंडा CD100

हीरो होंडा की प्रतिष्ठित मोटरसाइकिल हीरो होंडा CD100 आज भी भारतीय सड़कों पर दिखाई दे जाती है। हीरो ने इस मोटरसाइकिल को जापान की होंडा मोटर कंपनी के साथ मिलकर 1983 में बनाया था और यह दोनों कंपनी की भारत में पहली मोटरसाइकिल थी जिसे हीरो होंडा CD100 के नाम से 1984 में लॉन्च किया गया था। 80 और 90 के दशक में यह बाइक भारतीय सड़कों पर राज करती थी। यह भारत की पहली 4-स्ट्रॉक 100cc मोटरसाइकिल थी।

यामाहा RX 100

यामाहा की यह वो बाइक थी जो रेसिंग में लोगों का दिल जीत लेती थी। इस बाइक में 98cc टू-स्ट्रॉक इंजन लगा था, जो 7,500 rpm पर 11bhp की पावर और 6,500 rpm पर 10.39 Nm का टॉर्क जनरेट करता है। बाइक का इंजन 4-स्पीड गियरबॉक्स से लैस था। यामाहा का दावा था कि 100cc बाइक में उनकी इस बाइक की टॉप स्पीड 100kmph थी। 1985 में इस बाइक की 5,000 यूनिट्स को जापान से नॉक्ड डाउन किट्स के तौर पर लाया गया। इसके बाद इस बाइक का प्रोडक्शन 1996 तक चला।

यामाहा RD 350

RX100 के अलावा 80 के दशक में यामाहा की दूसरी बाइक RD 350 को रॉयल एनफील्ड की बुलेट के बाद सबसे ज्यादा प्यार मिला। हालांकि भारत में इस बाइक को 1983 से लेकर 1989 तक ही बेचा गया। भारत में बेची जाने वाली यामाहा RD350 पहली ट्विन-सिलेंडर परफॉर्मेंस मोटरसाइकिल थी। इस बाइक में 347cc पैरेलेल-ट्विन टू-स्ट्रॉक इंजन दिया गया था। यह इंजन 30.5bhp की पावर जनरेट करने में सक्षम था। इस बाइक की टॉप स्पीड 140kmph थी।

Posted on Leave a comment

एक कहानी जो यकीनंद आपके दिल को छु जायेगी।

एक लड़की की शादी उसकी मर्जी के खिलाफ एक सीधे-साधे लड़के से की जाती है जिसके घर मे एक मां के आलावा और कोई नहीं है। दहेज में लड़के को बहुत सारे उपहार और पैसे मिले होते हैं। लड़की किसी और लड़के से बेहद प्यार करती थी और लड़का भी।

लड़की शादी हो के आ गयी अपने ससुराल, सुहागरात के वक्त लड़का दूध लेके आता है तो दुल्हन सवाल पूछती है अपने पति से…एक पत्नी की मर्जी के बिना पति उसको हाथ लगाये तो उसे बलात्कार कहते है या हक?

पति – आपको इतनी लम्बी और गहरी जाने की कोईजरूरत नहीं है..बस दूध लाया हूँ पी लिजीयेगा। हम सिर्फ आपको शुभरात्रि कहने आये थे कहके कमरे से निकल जाता है। लड़कीमन मारकर रह जाती है क्योंकि लड़की चाहती थी कीझगड़ा हो ताकी मैं इस गंवार से पिछा छुटा सकूँ ।है तो दुल्हन मगर घर का कोई भी काम नहीं करती। बसदिनभर online रहती और न जाने किस किस से बातेंकरती मगर उधर लड़के की माँ बिना शिकायत के दिन भरचुल्हा चौका से लेकर घर का सारा काम करती मगर हरपल अपने होंठों पर मुस्कुराहट लेके फिरती । लड़का एककम्पनी मे छोटा सा मुलाजीम है और बेहद ही मेहनती औरइमानदार। करीब महीने भर बित गये मगर पति पत्नीअब तक साथ नहीं सोये… वैसे लड़का बहुत शांत स्वाभाववाला था इसलिए वह ज्यादा बातें नहीं करता था, बसखाने के वक्त अपनी पत्नी से पूछ लेता था कि, कहा खाओगी..अपने कमरे में या हमारे साथ। और सोने से पहले डायरी लिखने की आदत थी जो वह हर रात को लिखता था।ऐसे लड़की के पास एक स्कूटी था वह हर रोज बाहरजाती थी पति के अफीस जाने के बाद और पति के वापसलौटते ही आ जाती थी। छुट्टी का दिन था लड़का भीघर पे ही था तो लड़की ने अच्छे भले खाने को भी गंदा कहके माँ को अपशब्द बोलके खाना फेंक देती है मगर वह शांत रहने वाला उसका पति अपनी पत्नी पर हाथ उठा देता है मगर माँ अपने बेटे को बहुत डांटती है। इधर लड़की को बहाना चाहिए था झगड़े का जो उसे मिल गयाथा, वह पैर पटकती हुई स्कूटी लेके निकल पड़ती है। लड़की जो रोज घर से बाहर जाती थी वह अपने प्यार से मिलने जाती थी, लड़की भले टूटकर चाहती थी लड़के को मगर उसे पता था की हर लड़की की एक हद होती है जिसे इज्जत कहते हैं, वह उसको बचाये रखी थी। इधर लड़कीअपने प्यार के पास पहुँचकर कहती है। अब तो एक पल भी उस घर मे नहीं रहना है मुझे । आज गंवार ने मुझपर हाथ उठाके अच्छा नही किया ।

लड़का – अरे तुमसे तो मैं कब से कहता हूँ की भाग चलो मेरेसाथ कहीं दूर मगर तुम हो की आज कल आज कल पे लगीरहती हो।

लड़की – शादी के दिन मैं आई थी तो तुम्हारे पास। तुमही ने तो लौटाया था मुझे ।

लड़का – खाली हाथ कहा तक भागोगे तुम ही बोलो..मैंनेतो कहा था कि कुछ पैसे और गहने साथ ले लो तुम तोखाली हाथ आई थी।आखिर दूर एक नयी जगह मे जिंदगी नये सिरे से शुरू करने केलिए पैसे तो चाहिए न?

लड़की – तुम्हारे और मेरे प्यार के बारे में जानकर मेरे घरवालो ने बैंक के पास बुक एटी एम और मेरे गहने तक रखलिये थे। तो मैं क्या लाती अपने साथ । हम दोनों मेहनत करके कमा भी तो सकते थे।

लड़का – चालाक इंसान पहले सोचता है और फिर काम करता है। खाली हाथ भागते तो ये इश्क का भूत दो दिन में उतर जाता, समझी?और जब भी तुम्हें छुना चाहता हूँ बहुत नखरे है तुम्हारे ।बस कहती हो शादी के बाद।

लड़की – हाँ शादी के बाद ही अच्छा होता है ये सब औरसब तुम्हारा तो है। मैं आज भी एक कुवारी लड़की हूँ ।शादी करके भी आज तक उस गंवार के साथ सो न सकीक्योंकि तुम्हें ही अपना पति मान चुकी हूँ बस तुम्हारेनाम की सिंदूर लगानी बाकी है। बस वह लगा दो सबकुछतुम अपनी मर्जी से करना।लड़का – ठीक है मैं तैयार हूँ । मगर इस बार कुछ पैसे जरूरसाथ लेके आना, मत सोचना हम दौलत से प्यार करते हैं ।हम सिर्फ तुमसे प्यार करते है बस कुछ छोटी मोटीबिजनेस के लिए पैसे चाहिए ।

लड़की – उस गंवार के पास कहा होगा पैसा, मेरे बाप से 3 लाख रूपया उपर से मारूती कार ली है।बस कुछ गहने है वह लेके आउगी आज।लड़का लड़की को होटल का पता देकर चला जाता है ।लड़की घर आके फिर से लड़ाई करती है।मगर अफसोस वह अकेली चिल्लाती रहती है उससे लड़नेवाला कोई नहीं था।रात 8 बजे लड़के का मैसेज आता है वाटसप पे की कब आरही हो?लड़की जवाब देती है सब्र करो कोई सोया नहीं है। मैं12 बजे से पहले पहुँच जाउगी क्योंकि यंहा तुम्हारे बिना मेरी सांसे घुटती है।

लड़का -ओके जल्दी आना। मैं होटल के बाहर खड़ा रहूंगाbye…लड़की अपने पति को बोल देती है की मुझे खाना नहीं चाहिए मैंने बाहर खा लिया है इसलिए मुझे कोई परेशानन करे इतना कहके दरवाजा बंद करके अंदर आती हैकी…पति बोलता है की…वह आलमारी से मेरी डायरी दे दो फिर बंद करना दरवाजा। हम परेशान नहीं करेंगे ।लड़की दरवाजा खोले बिना कहती है की चाभीया दो अलमारी की।

लड़का – तुम्हारे बिस्तर के पैरों तले है चाबी ।मगर लड़की दरवाजा नहीं खोलती वल्की जोर जोर से गाना सुनने लगती है। बाहर पति कुछ देर दरवाजापिटता है फिर हारकर लौट जाता है। लड़की ने बड़े जोर से गाना बजा रखा था। फिर वह आलमारी खोलके देखतीहै जो उसने पहली बार खोला था, क्योंकि वह अपना समान अलग आलमारी मे रखती थी।आलमारी खोलते ही हैरान रह जाती है।

आलमारी में उसके अपने पास बुक एटी एम कार्ड थे जो उसके घरवालोने छीन के रखे थे, खोलके चेक किया तो उसमें वह पैसे भी एड थे जो दहेज मेलड़के को मिले थे। और बहुत सारे गहने भी जो एक पेपर केसाथ थे और उसकी मिल्कीयेत लड़की के नाम थी, लड़कीबेहद हैरान और परेशान थी।

फिर उसकी नजर डायरी मेपड़ती है और वह जल्दी से वह डायरी निकालके पढ़ने लगती है। लिखा था, तुम्हारे पापा ने एक दिन मेरी मां की जान बचाइ थी अपना खून देकर । मैं अपनी माँ से बेहद प्यारकरता हूँ इसलिए मैंने झूककर आपके पापा को प्रणाम करकेकहा की…आपका ये अनमोल एहसान कभी नही भूलूंगा, कुछदिन बाद आपके पापा हमारे घर आये हमारे तुम्हारेरिश्ते की बात लेकर मगर उन्होंने आपकी हर बात बताईहमें की आप एक लड़के से बेहद प्यार करती हो। आपकेपापा आपकी खुशी चाहते थे इसलिए वह पहले लड़के कोजानना चाहते थे। आखिर आप अपने पापा की princessजो थी और हर बाप अपने Princess के लिए एक अच्छाइमानदार Prince चाहता है। आपके पापा ने खोजकर केपता लगाया की वह लड़का बहुत सी लड़की को धोखा देचुका है। और पहली शादी भी हो चुकी है पर आपको बतान सके क्योंकि उन्हें पता था की ये जो इश्क का नशा हैवह हमेशा अपनों को गैर और गैर को अपना समझता है।ऐक बाप के मुँह से एक बेटी की कहानी सुनकर मै अचम्भीतहो गया। हर बाप यंहा तक शायद ही सोचे। मुझे यकीनहो गया था की एक अच्छा पति होने का सम्मान मिले नमिले मगर एक दामाद होने की इज्जत मैं हमेशा पा सकताहूँ।मुझे दहेज मे मिले सारे पैसे मैंने तुम्हारे ए काउण्ट मे करदिए और तुम्हारे घर से मिली गाड़ी आज भी तुम्हारे घरपे है जो मैंने इसलिए भेजी ताकी जब तुम्हें मुझसे प्यार होजाये तो साथ चलेंगे कही दूर घूमने। दहेज…इस नाम सेनफरत है मुझे क्योंकि मैंने इ दहेज मे अपनी बहन और बापको खोया है। मेरे बाप के अंतिम शब्द भी येही थेकी..कीसी बेटी के बाप से कभी एक रूपया न लेना। मर्दहो तो कमाके खिलाना, तुम आजाद हो कहीं भी जासकती हो। डायरी के बिच पन्नों पर तलाक की पेपर हैजंहा मैंने पहले ही साईन कर दिया है । जब तुम्हें लगे कीअब इस गंवार के साथ नही रखना है तो साईन करके कहींभी अपनी सारी चिजे लेके जा सकती हो।लड़की …हैरान थी परेशान थी…न चाहते हुए भी गंवार केशब्दों ने दिल को छुआ था। न चाहते हुए भी गंवार केअनदेखे प्यार को महसूस करके पलके नम हुई थी।आगे लिखा था, मैंने तुम्हें इसलिए मारा क्योंकि आपने माको गाली दी, और जो बेटा खुद के आगे मा की बेइज्जतीहोते सहन कर जाये…फिर वह बेटा कैसा ।कल आपके भी बच्चे होंगे । चाहे किसी के साथ भी हो, तबमहसूस होगी माँ की महानता और प्यार।आपको दुल्हन बनाके हमसफर बनाने लाया हूँ जबरजस्तीकरने नहीं। जब प्यार हो जाये तो भरपूर वसूल कर लूँगाआपसे…आपके हर गुस्ताखी का बदला हम शिद्दत से लेंगे हमआपसे…गर आप मेरी हुई तो बेपनाह मोहब्बत करकेकिसी और की हुई तो आपके हक मे दुवाये माँग केलड़की का फोन बज रहा था जो भायब्रेशन मोड पे था,लड़की अब दुल्हन बन चुकी थी। पलकों से आशू गिर रहे थे ।सिसकते हुए मोबाइल से पहले सिम निकाल के तोड़ा फिरसारा सामान जैसा था वैसे रख के न जाने कब सो गई पतानहीं चला। सुबह देर से जागी तब तक गंवार अफीस जाचुका था, पहले नहा धोकर साड़ी पहनी । लम्बी सीसिंदूर डाली अपनी माँग मे फिर मंगलसूत्र ।जबकि पहले एक टीकी जैसी साईड पे सिंदूर लगाती थीताकी कोई लड़का ध्यान न देमगर आज 10 किलोमीटर से भी दिखाई दे ऐसी लम्बीऔर गाढी सिंदूर लगाई थी दुल्हन ने। फिर किचन मे जाकेसासुमा को जबर्दस्ती कमरे मे लेके तैयार होने को कहतीहै। और अपने गंवार पति के लिए थोड़े नमकीन थोड़े हलुवेऔर चाय बनाके अपनी स्कूटी मे सासुमा को जबर्दस्तीबिठाकर (जबकी कुछ पता ही नहीं है उनको की बहू आजमुझे कहा ले जा रही है बस बैठ जाती है)फिर रास्ते मे सासुमा को पति के अफीस का पता पूछकरअफीस पहुँच जाती है। पति हैरान रह जाता है पत्नी कोइस हालत मे देखकर।पति – सब ठीक तो है न मां?मगर माँ बोलती इससे पहले पत्नी गले लगाकर कहती हैकी..अब सब ठीक है…I love you forever…अफीस के लोग सब खड़े हो जाते है तो दुल्हन कहती हैकी..मै इनकी धर्मपत्नी हूँ । बनवास गई थी सुबह लौटीहूँअब एक महीने तक मेरे पतिदेव अफीस मे दिखाई नहीं देंगे

अफीस के लोग- ?????

दुल्हन – क्योंकि हम लम्बी छुट्टी पे जा रहें हैं साथ साथ।

पति- पागल..

दुल्हन – आपके सादगी और भोलेपन ने बनाया है।सभी लोग तालीया बजाते हैं और दुल्हन फिर से लिपटजाती है अपने गंवार से …जंहा से वह दोबारा कभी भी छूटना नहीं चाहती।बड़े कड़े फैसले होते है कभी कभी हमारे अपनों के मगर हम समझ नहीं पाते कि हमारे अपने हमारी फिकर खुद से ज्यादा क्यों करते हैं

** मां बाप के फैसलों का सम्मान करे**

Leave a comment

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाओं सहित पेश है राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम्

वन्दे मातरम

सुजलाम सुफलाम मलायाजा शीतलम
शास्यश्यामालम मातरम, वन्दे मातरम !
वन्दे मातरम……..

शुभ्र ज्योत्स्ना पुलाकितायामिनिम,
फुल्ला कुसुमिता दृमादालाशोभिनिम

सुहासीनीम सुमधुराभाश्हिनिम
सुखदाम वरदाम मातरम
वन्दे मातरम……..

सप्त कोटि कंठ कलाकालानिनादा कराले,
निसप्त कोटि भुजैध्रुता कराकर्वाले..
अबलाकेनो मां एतो बाले

बहुबलधारिनिम नमामि तरिनिम
रिपुदालावारिनिम मातरम, वन्दे मातरम !!
वन्दे मातरम……..

तव ही दुर्गा दशाप्रहरानाधारिणी
कमला कमालादाला विहारिणी
वाणी विद्यादायिनी, नमामि तवम
नमामि कमल अमल अतुलम
सुजलाम सुफलाम मातरम

वन्दे मातरम……….

श्यामल सरल सुस्मिताम भूश्हितम
धरिनीम भारनीम मातरम, वन्दे मातरम
वन्दे मातरम……..