Posted on

ब्रिटिश जज ने आपरेशन ब्लू स्टार में ब्रिटिश भूमिका की जाँच के लिए फाइल सार्वजनिक करने को कहा

न्यायाधीश मुरी शांक्स की अध्यक्षता में मार्च में लंदन में फ‌र्स्ट टीयर ट्रिब्यूनल (सूचना का अधिकार) में तीन दिनों तक सुनवाई चली थी। उन्होंने एक दिन पहले सोमवार को कहा कि अवधि से संबंधित अधिकांश फाइलें सार्वजनिक की जानी चाहिए।

न्यायाधीश ने ब्रिटिश सरकार की इस दलील को ठुकरा दिया कि डाउनिंग स्ट्रीट कागजात को अवर्गीकृत करने से भारत के साथ कूटनीतिक रिश्ता क्षतिग्रस्त हो जाएगा।

न्यायाधीश ने हालांकि ब्रिटेन की संयुक्त खुफिया समिति से ‘इंडिया पोलिटिकल’ के रूप में चिह्नित फाइल पर दलील स्वीकार नहीं की। इस फाइल में ब्रिटेन की खुफिया एजेंसियों एमआइ5, एमआइ6 और जीसीएचक्यू (गवर्नमेंट कम्युनिकेशन हेडक्वार्टर) से संबंधित सूचनाएं हो सकती हैं।

न्यायाधीश ने कहा कि इसलिए कैबिनेट कार्यालय तकनीकी रूप से उस व्यवस्था पर कायम रह सकता है जिसके तहत ऐसी सामग्री को सूचना की आजादी अपील से छूट मिली हुई है।

Posted on

संसद के अपने पहले भाषण में अमित शाह ने इंदिरा गांधी को सराहा…

बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह राज्‍यसभा सांसद चुने जाने के बाद पहली बार सदन में बोले. उन्‍होंने इस दौरान इंदिरा गांधी को याद करते हुए कहा कि 1969 में बैंकों के राष्‍ट्रीयकरण का सराहनीय काम किया. इसी तरह उन्‍होंने लालबहादुर शास्‍त्री को याद करते हुए कहा कि 1965 में भारत-पाक युद्ध के बाद जब देश में अनाज का संकट पैदा हुआ तो तत्‍कालीन प्रधानमंत्री ने लोगों से सोमवार को एक वक्‍त का भोजन छोड़ने का आग्रह किया. उनकी अपील का व्‍यापक असर हुआ और जनता की उनके आग्रह का सम्‍मान किया. उसके बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी का ही व्‍यक्तित्‍व ऐसा है कि उनके आग्रह पर कई लोगों ने कई किस्‍म की सब्सिडी छोड़ी. मसलन एक बड़े तबके ने गैस पर मिलने वाली सब्सिडी छोड़ी.

पकौड़ा पॉलिटिक्‍स पर जवाब
बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने विपक्ष की ‘पकौड़ा’ पॉलिटिक्‍स पर जवाब देते हुए कहा है कि पकौड़ा बेचना कोई शर्म की बात नहीं है. यह कम से कम बेरोजगारी से तो अच्‍छा है. दरअसल कांग्रेस नेता पी चिदंबरम समेत कई विपक्षी नेताओं के पकौड़ा बेचने संबंधी पीएम के बयान पर निशाना साधा था. इसी कड़ी में अमित शाह ने कहा कि जिस तरह एक चायवाले का बेटा देश का प्रधानमंत्री बन सकता है, उसी तरह एक पकौड़े वाले की भी अगली पीढ़ी उद्योगपति बन सकती है.

‘पकौड़ा’ पॉलिटिक्‍स- पकौड़ा बेचना शर्म की बात नहीं, यह बेरोजगारी से तो अच्‍छा है: अमित शाह

अमित शाह ने कहा, ”अभी मैं चिदंबरम साहब का ट्वीट पढ़ रहा था कि मुद्रा बैंक के साथ किसी ने पकौड़े का ठेला लगा दिया, इसको रोजगारी कहते हैं? हां मैं मांगता हूं कि भीख मांगने से तो अच्‍छा है कि मोई मजदूरी कर रहा है. उसकी दूसरी पीढ़ी आगे आएगी तो उद्योगपति बनेगी.”

इसके साथ ही अमित शाह ने कहा, ‘हमारी सरकार को विरासत में गड्ढे मिला, जिसे भरने में वक्‍त लग रहा है’. उन्‍होंने आगे कहा कि, ‘2013 में देश के लोगों में भय का माहौल था. सीमा पर असुरक्षा का माहौल था. 30 साल से इस देश में अस्थिरता थी’.
राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा में बोलते हुए अमित शाह ने कहा, ‘2013 में घोटालों-घपलों की सीरीज लोगों के दिमाग में घर कर गई थी. देश को समस्‍याओं को दूर करने के लिए हमें बहुमत मिला’.

अमित शाह द्वारा कही गईं मुख्‍य बातें…

  •     अंत्‍योदय के लक्ष्‍य को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध.
  •     देश में 31 करोड़ बैंक खाते खोले गए.
  •     आजादी के बाद 55 साल एक ही परिवार का देश में राज रहा.
  •     देश में 60 फीसदी लोगों के पास बैंक खाते ही नहीं थे.
  •     देश का गरीब खुद को अर्थतंत्र से जोड़ने लगा है.
  •     शास्‍त्री जी के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान को सबक सिखाया.
  •     पीएम मोदी ने पाकिस्‍तान को सबक सिखाने की हिम्‍मत की.
  •     घर में शौचालय न होना बड़ी त्रासदी है.
  •     लुटियंस में रहने वालों को इस दर्द का अहसास नहीं.
  •     गैस सब्सिडी छोड़ने का सार्थक अभियान चलाया गया.
  •     गरीब के घर में पैदा नहीं हुआ, लेकिन गरीबी को करीब से देखा है.
  •     देश के हर गरीब के लिए घर होना बहुत जरूरी.
  •     देश में बेरोजगारी की समस्‍या है और इससे इंकार नहीं किया जा सकता है.
  •     55 साल तक राज करने वाले बेरोजगारी का मुद्दा उठाते हैं.
  •     पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बैंकों का राष्‍ट्रीयकरण कर सराहनीय काम किया.
  •     देश में बैंकों के राष्‍ट्रीयकरण के बाद भी गरीब बैंक तक नहीं पहुंच पाए.
  •     देश के हर गरीब को घर देना हमारी सरकार का लक्ष्‍य है.
  •     बेरोजगारी से अच्‍छा है कोई युवा मेहनत कर पकौड़े बेचे.
  •     पकौड़े बेचना कोई शर्म की बात नहीं है.
  •     पकौड़ा बेचने वाले की अगली पीढ़ी उद्योगपति बनेगी.
  •     चाय बेचने वाले का बेटा इस सदन में प्रधानमंत्री बनकर बैठा है.
  •     गरीब के घर बिजली, स्‍वास्‍थ्‍य पहुंचाना हमारी सरकार का लक्ष्‍य है.
  •     50 करोड़ लोगों को बीमा देना का साहस किसी सरकार में नहीं था.
  •     देश में भाजपा सरकार को आने के बाद नदियों को जोड़ने का काम दोबारा शुरू किया गया.
  •     गरीबों का जीवन स्‍तर उठाने का काम बीजेपी ने किया.
  •     गरीबी हटाओ के नारे के साथ बहुत सरकारें आई, लेकिन गरीबों का जीवन स्‍तर सुधारने का काम बीजेपी ने किया.
  •     पहले यूरिया की कालाबाजारी होती थी. हमारी सरकार के एक फैसले ने सारी दिक्‍कतें दूर कीं.
  •     5 करोड़ 70 लाख किसानों को फसल बीमा योजना का लाभ मिला.
  •     देश में यूरिया के 6 कारखाने बीजेपी ने शुरू किए.
  •     कई सुधार किए गए, जिसकी वजह से भारत की अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर रेटिंग सुधरी.
  •     हम ऐसे फैसले लेते हैं, जो लोगों के लिए अच्‍छे हों.
  •     किसानों को डेढ़ गुना समर्थन मूल्‍य दिया जाना.
  •     पूरे देश में जीएसटी पर राजनीति की गई.
  •     बीजेपी ने कभी जीएसटी का विरोध नहीं किया.
  •     कांग्रेस जब जीएसटी की बात करती थी, हमने विरोध नहीं किया.
  •     हम बजट भी एक फरवरी को लेकर आए, जिससे उसे लागू करने के लिए वक्‍त मिल सके.
  •     बीजेपी सरकार संवेदनशील है.
  •     कांग्रेस ने जीएसटी को गब्‍बर सिंह टैक्‍स कहा.
  •     कांग्रेस की सहमति से ही जीएसटी बिल पास हुआ.
  •     जीएसटी काउंसिल में कांग्रेस शामिल राज्‍यों ने भी अपनी राय रखी.
  •     कुछ मुद्दों पर राजनीति करने से ऊपर उठना पड़ता है.
  •     देश की सुरक्षा तब तक नहीं हो सकती, जब तक उसका जवान गरिमा से न जिए.
  •     हमारा चुनावी वादा था और हमने एक ही साल में ओआरओपी का वादा पूरा किया.
  •     सेना ने दस दिन में आतंकियों से बदला लिया.
  •     सरकार ने सर्जिकल स्‍ट्राइक की और सीमापार घुसकर अपना बदला लेकर जवान वापस आए.
  •     मोदी सरकार में सर्जिकल स्‍ट्राइक का फैसला लिया गया.
Posted on

BJP की मीटिंग में भावुक हुए नरेंद्र मोदी, बोले- इंदिरा गांधी की 18 राज्यों में सत्ता थी, हमारी 19 में है

बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड की मीटिंग में गुजरात-हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में जीत के लिए बुधवार को नरेंद्र मोदीऔर अमित शाह का सम्मान किया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने पार्टी नेताओं से 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए बूथ लेवल पर बीजेपी को मजबूत करने की बात कही। नए चेहरों को पार्टी में अहम जिम्मेदारियां दी जाएं। इस दौरान गुजरात में पार्टी के संघर्ष के दिनों और अटल बिहारी वाजपेयी के कामकाज को याद करते हुए नरेंद्र मोदी कुछ देर के लिए भावुक हो गए। मोदी ने कहा कि एक वक्त इंदिरा गांधी की 18 राज्यों में सरकार थी, अब हमारी 19 राज्यों में है। वहीं, मीटिंग में जाते वक्त केंद्रीय मंत्री कृष्णा राज गिर गए। उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया।

बूथ लेवल कैंपेन चुनाव के लिए मां की तरह

– मीटिंग के बाद पार्लियामेंट्री अफेयर्स मिनिस्टर अनंत कुमार ने बताया कि नरेंद्र मोदी ने 2019 का लोकसभा इलेक्शन जीतने के लिए देशभर में बूथ लेवल पर पार्टी को मजबूत करने की बात कही है। यह चुनाव में जीत के लिए मां की तरह होता है।
– साथ ही मोदी ने कहा कि बीजेपी में युवा चेहरों को अहम जिम्मेदारियां दी जाएं। सभी नेता सरकार के 2022 के न्यू इंडिया विजन के लिए साथ मिलकर काम करें। पीएम ने पार्टी नेताओं से कहा कि गुजरात और हिमाचल के चुनावों में विपक्ष के झूठे प्रचार से डरने की जरूरत नहीं है।

संघर्ष के दिनों को याद करते हुए मोदी भावुक हुए

– पार्टी सूत्रों ने बताया कि नरेंद्र मोदी गुजरात में पार्टी के संघर्ष के दिनों को याद करते हुए कुछ वक्त के लिए भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि एक वक्त 18 राज्यों में इंदिरा गांधी (कांग्रेस) की सरकार थी। आज बीजेपी इससे आगे 19 राज्यों तक पहुंच चुकी है।

– मोदी ने बताया कि अटलजी ने कैसे युवाओं में नई जान फूंकी थी। उन्होंने मुझे लोकसभा चुनाव की जिम्मेदारी सौंपी। तब मैं आरएसएस में स्टेट जनरल सेक्रेटरी था और बीजेपी में नई भूमिका मिली थी। मोदी ने बताया कि कैसे उन्होंने अपने से 14 साल छोटे अमित शाह को पॉलिटिक्स के लिए ग्रूम किया।
– केंद्र में सरकार चलाते हुए बीजेपी ने पिछले तीन सालों में विधानसभा चुनावों जिस प्रकार से जीत हासिल की। अब तक कोई पार्टी ऐसा नहीं कर पाई।

रूपाणी अभी भी पहली पसंद

– गुजरात और हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री कौन होगा, इसे लेकर अटकलें तेज हैं। गुजरात में सीटें कम होने के बावजूद मौजूदा सीएम विजय रूपाणी पहली पसंद बताए जा रहे हैं।फिर भी 2012 से इस बार सीटें कम होने के बाद दबी जुबान में उठ रहे सवालों की वजह से यहां बदलाव भी मुमकिन है। सीएम की रेस में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का भी नाम है।स्मृति अभी गुजरात से ही राज्यसभा सांसद हैं।

स्मृति इसलिए रेस में

– बीजेपी उत्तर प्रदेश की तरह गुजरात में भी नया चेहरा दे सकती है। संगठन क्षमता और गुजराती भाषा जानने की वजह से स्मृति और पाटीदार कम्युनिटी से आने वाले केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया का नाम भी सीएम रेस में चल रहा है। हालांकि, बीजेपी में ये ट्रेंड रहा है कि जिनके नाम सामने आते हैं, वो मुख्यमंत्री नहीं बनते।

हिमाचल में धूमल की हार से बढ़ी मुश्किल
– हिमाचल में प्रेम कुमार धूमल के चुनाव हार जाने के बाद केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और 5 बार के विधायक जयराम ठाकुर रेस में सबसे आगे बताए जा रहे हैं।

– हालांकि, सातवीं बार चुनाव जीतने वाले मोहिंदर सिंह, पांचवीं बार विधायक बने राजीव बिंदल, हिमाचल के पूर्व बीजेपी अध्यक्ष सुरेश भारद्वाज और चौथी बार चुनाव जीतने वाले कृष्ण कपूर के नाम भी चल रहे हैं।

Posted on

मौत के 8 साल बाद लौटी थी इंदिरा। किया था ये काम।- कांग्रेस

मौत के 8 साल बाद इंदिरा गाँधी से करवाया पुल का उद्घाटन 
गज़ब की बात है न, की जो व्यक्ति 8 साल पहले मर गया हो, वो किसी पल का उद्घाटन कर रहा है, ऐसा सिर्फ कांग्रेस में ही संभव है 
 
कांग्रेस गाँधी-नेहरू खानदान की तारीफों के पुल बांधती रहती है 
पर इस बार तो कांग्रेस ने हद ही कर दी और 1992 में इंदिरा गाँधी से पुल का उद्घाटन करवा लिया, जबकि इंदिरा तो 8 साल पहले 1984 में ही परलोग सिधार गयी थी 
 
देखिये कांग्रेस का नया कारनामा 

 
 
आज 10 अक्टूबर है, गाँधी-नेहरू परिवार की स्तुति के तहत कांग्रेस ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर ये पोस्ट डाला जिसमे कांग्रेस ने बताया की 
 
आज के दिन यानि 10 अक्टूबर को, 1992 में इंदिरा गाँधी ने बंगाल में विद्यासागर पुल का उद्घाटन किया था 
ये पुल हुगली नदी पर बना हुआ है 
 
पर गज़ब की बात तो ये है की इंदिरा गाँधी तो 1992 से 8 साल पहले 1984 में ही परलोक सिधार गयी थी 
फिर कांग्रेस ने 1992 में उसी इंदिरा गाँधी से जो 8 साल पहले मर चुकी हो, उनसे पुल का उद्घाटन कैसे करवाया 
 
ऐसा चमत्कार तो सिर्फ कांग्रेस में ही संभव है ।