Posted on Leave a comment

अफगानिस्तान ने लगाई शर्मनाक रिकॉर्ड्स की झड़ी, तोड़ा 90 साल का रिकॉर्ड

अफगानिस्तान की टीम ने इस मैच की अपनी पहली पारी में 109 रन बनाने के लिए सिर्फ 27.5 ओवर तक बल्लेबाज़ी की। इसी के साथ अफगानिस्तान ने पहला टेस्ट मैच में सबसे कम ओवर बल्लेबाज़ी करने का रिकॉर्ड भी बना दिया। अफगानिस्तान से पहले ये रिकॉर्ड बांग्लादेश के नाम था। बांग्लादेश की टीम ने अपने पहले टेस्ट की दूसरी पारी मेंं 46.3 ओवर बल्लेबाज़ी की थी। बांग्लादेश से पहले ये रिकॉर्ड न्यूज़ीलैंड के नाम था जो अपने पहले टेस्ट की पहली पारी में 47.1 ओवर में ही सिमट गई थी।

भारत ने पहली पारी में 474 रन बनाए थे और इसके जवाब में अफगानिस्तान अपने पहले टेस्ट की पहली पारी में सिर्फ 109 रनों पर सिमट गई। इस लिहाज़ से भारत को 365 रन की बढ़त मिली और फिर टीम इंडिया ने अफगानिस्तान को फॉलोऑन खेलने का न्यौता दिया। पहले टेस्ट मैच में फॉलोऑन खेलते हुए ये किसी भी टीम पर बनाई गई सबसे बड़ी बढ़त रही। इससे पहले 1928 में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज़ के बीच खेले गए मैच में इंग्लिश टीम ने कैरिबियाई टीम पर 224 रन की बढ़त बनाई थी। वो टेस्ट मैच लॉर्ड्‍स के मैदान पर खेला गया था और वो वेस्टइंडीज़ का पहला टेस्ट मैच था।

चिन्नास्वामी में अफगानिस्तान की टीम द्वारा बनाया गया 109 रन टेस्ट की एक पारी में सबसे कम रन हैं। इससे पहले 2017 में बेंगलुरु के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया की टीम के नाम इस मैदान पर सबसे कम रन बनाने का रिकॉर्ड था। ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम सिर्फ 112 रन बनाकर सिमट गई थी।

पहली पारी में मिली बड़ी बढ़त के आधार पर भारत ने अफगानिस्तान को फॉलोआन खेलने पर मजबूर कर दिया और दूसरी पारी में मेहमान टीम 38.4 ओवर में सिर्फ 103 रन पर ऑल आउट हो गई। टेस्ट मैच में ये भारत की सबसे बड़ी जीत थी। इससे पहले भारत ने वर्ष 2017 में बांग्लादेश को पारी और 239 रन से हराया था। इस मैच में भारतीय बल्लेबाजों और उसके बाद गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन रहा। शिखर धवन को मैन ऑफ द मैच चुना गया। इस मैच में विराट की जगह रहाणे ने कप्तानी की थी और उनकी अगुआई में भारतीय टीम ने इस एतिहासिल टेस्ट मैच में जीत हासिल की। इस टेस्ट मैच के जरिए टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाले अफगानिस्तान को भारत ने एक पारी और 262 रन से हराया। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में भारत ने पहली बार किसी टीम के खिलाफ सिर्फ दो दिनों में ही टेस्ट मैच जीतकर खिताब पर कब्जा किया।

Posted on 1 Comment

वॉटसन ने रचा IPL का नया इतिहास

IPL 2018 के फाईनल मैच में वॉटसन जब अपनी पारी की शुरुआत करने आए तब वो 10 गेंदों के बाद यानी 11वें गेंद पर अपना खाता खोला और इसके बाद ऐसी पारी खेली की टीम को फाइनल में जीत दिला दी। शेन वॉटसन ने इस आइपीएल में अपना दूसरा शतक लगाया। शेन के शतक के दम पर चेन्नई ने तीसरी बार आइपीएल का खिताब अपने नाम किया।

वॉटसन ने रचा इतिहास
चेन्नई के ओपनर बल्लेबाज शेन वॉटसन का खतरनाक रूप हैदराबाद के खिलाफ फाइनल मैच में देखने को मिला। उन्होंने गेंदों 51 पर अपना शतक पूरा किया। वॉटसन ने हैदराबाद के खिलाफ 57 गेंदों पर नाबाद 117 रन की पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई। शेन वॉटसन आइपीएल इतिहास के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गए जिन्होंने रन चेज करते हुए शतक लगाया। वॉटसन ने अपनी शतकीय पारी के दौरान 11 चौके और 8 छक्के लगाए। उनका स्ट्राइक रेट 205.26 का रहा।

ठोका आइपीएल का दूसरा शतक
शेन वॉटसन इस आइपीएल में दो शतक लगाने वाले एकमात्र खिलाड़ी रहे। इस मैच से पहले उन्होंने लीग मुकाबले में राजस्थान के खिलाफ 106 रन की पारी खेली थी। इसके बाद फाइनल मुकाबले में उन्होंने हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 117 रन बनाए।

आइपीएल 2018 में शेन का सफर
शेन वॉटसन की बल्लेबाजी की बात करें तो उन्होंने आइपीएल में खेले 15 मैचों में 39.64 की औसत से 555 रन बनाए। रन बनाने के मामले में आइपीएल में पांचवें नंबर पर रहे। वॉटसन ने 15 मैचों में 2 शतक और 2 अर्धशतक लगाए और उनका स्ट्राइक रेट 154.59 का रहा। वॉटसन ने इस आइपीएल में 44 चौके और 35 छक्के लगाए। हालांकि गेंदबाजी में वो कुछ खास नहीं कर पाए और सिर्फ 6 विकेट ही ले सके।

Posted on Leave a comment

क्रिकेट: अंडर 19 मैच में अनोखे रिकॉर्ड, सिर्फ 2 रन पर आउट हुई टीम, विपक्षी टीम ने एक गेंद पर हासिल किया लक्ष्‍य

खास बातें

  1. नगालैंड की मेनका ने बनाया एक रन
  2. एक रन अतिरिक्‍त के रूप में आया
  3. टीम की अन्‍य बल्‍लेबाजों का खाता भी नहीं खुला

नई दिल्‍ली: बीसीसीआई महिला अंडर 19 क्रिकेट मैच के दौरान एक अनोखा रिकॉर्ड बना है. केरल के खिलाफ अंडर 19 वनडे लीग मैच खेलते हुए नगालैंड की टीम महज 2….जी हां केवल 2 रन बनाकर आउट हो गई. मैच में नगालैंड की टीम महज 17 ओवर ही खेल सकी. मजे की बात यह है कि इस दौरान टीम की 9 बल्‍लेबाज खाता खोले बिना ही आउट हो गईं. टीम की प्रारंभिक बल्‍लेबाज मेनका ने एक रन बनाया जबकि एक अन्‍य रन अतिरिक्‍त (वाइड ) के रूप में आया. मैच में नगालैंड टीम के दोनों रन पारी के शुरुआती पांच ओवर में बने.

एक समय टीम का स्‍कोर बिना विकेट खोए 2 रन था और देखते ही देखते पूरी टीम इसी स्‍कोर पर आउट होकर पेवेलियन लौट आई. जवाब में केरल ने इस लक्ष्‍य को केवल एक गेंद पर हासिल कर लिया. इस तरह केरल ने सबसे कम गेंद में लक्ष्य हासिल करने का नेपाल  का  रिकॉर्ड तोड़ दिया. नेपाल ने वर्ष 2006 में म्यांमार के खिलाफ मैच में लक्ष्‍य तक पहुंचने के लिए केवल दो गेंदें ली थीं.

इस मैच में केरल की तरफ से पांच गेंदबाजों ने 16 ओवर मेडन डाले. कप्तान मिन्नु मनी ने 4 मेडन ओवर डाले और 4 विकेट हासिल किए. दूसरी ओर, सौरभ्या पी ने 2 विकेट निकाले और 6 मेडन ओवर डाले. केरल की टीम ने एक वाइड और एक चौके की मदद से लक्ष्य को हासिल कर लिया. गुंटूर के जेकेसी कॉलेज ग्राउंड में खेले गए इस मैच में नगालैंड टीम ने मैच में 17 ओवर तक बैटिंग की और सिर्फ 2 ही रन बना सकी. टीम की ओर से मेनका ही एक ऐसी बल्लेबाज रहीं जिन्होंने  इस मैच में रन बनाया.एक बल्लेबाज बिना कोई रन बनाए नाबाद रही. मेनका ने अपनी पारी के दौरान 18 गेंदें खेलीं. केरल की टीम को मैच में जीत के लिए सिर्फ 3 रन की दरकार थी. गेंदबाजी के लिए आईं दीपिका कैंतुरा की पहली बॉल वाइड रही, जबकि अगली गेंद पर ओपनर अंशु एस. राजू ने  चौका जमाते हुए टीम को जीत तक पहुंचा दिया.