Posted on

Teacher’s Day Special सफलता की राह दिखाते हैं Sarvepalli Radhakrishnan के ये 10 विचार

sarvepalli radha krishnan

राधाकृष्णन भारतीय संस्कृति के संवाहक, प्रख्यात शिक्षाविद और महान दार्शनिक थे. उनका कहना था कि जहां कहीं से भी कुछ सीखने को मिले उसे अपने जीवन में उतार लेना चाहिए. आज हम आपको राधाकृष्णन के 10 ऐसे विचारों के बारें में बताने जा रहे हैं, जो आपको हमेशा जीवन में प्रेरणा देते रहेंगे.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन के 10 विचार (Teacher’s Day Quotes)

1. भगवान की पूजा नहीं होती बल्कि उन लोगों की पूजा होती है जो उनके नाम पर बोलने का दावा करते हैं.

2. शिक्षक वह नहीं जो छात्र के दिमाग में तथ्यों को जबरन ठूंसे, बल्कि वास्तविक शिक्षक तो वह है जो उसे आने वाले कल की चुनौतियों के लिए तैयार करें.

3. शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है. अत: विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए.

4. किताबें पढ़ने से हमें एकांत में विचार करने की आदत और सच्ची खुशी मिलती है.

5. कोई भी आजादी तब तक सच्ची नहीं होती है, जब तक उसे पाने वाले लोगों को विचारों को व्यक्त करने की आजादी न दी जाये.

6. पुस्तकें वह माध्यम हैं, जिनके जरिये विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण किया जा सकता है.

7. शिक्षा का परिणाम एक मुक्त रचनात्मक व्यक्ति होना चाहिए, जो ऐतिहासिक परिस्थितियों और प्राकृतिक आपदाओं के खिलाफ लड़ सके.

8. ज्ञान के माध्यम से हमें शक्ति मिलती है. प्रेम के जरिये हमें परिपूर्णता मिलती है.

9. हमें तकनीकी ज्ञान के अलावा आत्मा की महानता को प्राप्त करना भी जरूरी है.

10. शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकती बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है.

Posted on

पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन, लंबे समय से थे बीमार

Atal bihari bajpeyi ji

पूर्व प्रधानमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का निधन गुरुवार शाम 5.05 मिनट पर हो गया। वह 93 साल के थे। अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हमारे देश के उन चुनिंदा लोगों में अटल जी का नाम लिया जाता है जिन्होंने भारतीय राजनीती में आमूलचूल परिवर्तन किये और इसको एक नई दिशा दी। प्रधानमंत्री पद के लिए परिवारवाद की जीत को दरकिनार करने के लिए अगर किसी एक शख्स को जिम्मेदार माना जायेगा तो वो अटल जी ही हैं।

वाजपेयी जी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। 15 अगस्‍त को उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया। थोड़ी देर में उनका पार्थिव शरीर उनके निवास पर लाया जाएगा, जहां उसे लोगों के दर्शनार्थ रखा जाएगा। इस संबंध में 6.30 बजे केंद्रीय कैबिनेट होगी।
एम्स के मुताबिक, बुधवार सुबह वाजपेयी जी को सांस लेने में तकलीफ हुई थी। इसके बाद उन्हें जरूरी दवाइयां दी गई थीं, लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया। भाजपा के संस्थापकों में शामिल वाजपेयी 3 बार देश के प्रधानमंत्री रहे। वह पहले ऐसे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे, जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया। उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

वाजपेयी जी काफी दिनों से बीमार थे और वह करीब 15 साल पहले राजनीति से संन्यास ले चुके थे। अटल बिहारी वाजपेयी जी ने लाल कृष्ण आडवाणी के साथ मिलकर भाजपा की स्थापना की थी और उसे सत्ता के शिखर पहुंचाया। भारतीय राजनीति में अटल-आडवाणी की जोड़ी सुपरहिट साबित हुई। अटल बिहारी जी देश के उन चुनिन्दा राजनेताओं में से एक थे, जिन्हें दूरदर्शी माना जाता था। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर में ऐसे कई फैसले लिए जिसने देश और उनके खुद के राजनीतिक छवि को काफी मजबूती दी। अटल जी एक उच्च कोटि के चिंतक एवं विचारक होने के साथ-साथ एक श्रेष्ठ कवि, लेखक, रणनीतिकार और राजनीतिज्ञ थे।

उनका जन्म 25 दिसंबर, 1924 को ब्रह्ममूहुर्त में शिन्दे की छावनी वाले घर में हुआ था। वैसे उनके स्कूल के सर्टिफिकेट में जन्म की तिथि 25 दिसंबर 1926 लिखी है। यह दो वर्षों का अंतर उनके पिताजी ने इसलिए कराया था कि कम आयु लिखी जाएगी तो लड़का ज्यादा दिनों तक नौकरी कर सकेगा।

इस संदर्भ का जिक्र स्वयं अटल बिहारी वाजपेयी जी ने ग्वालियर के श्री नारायण तरटे को 7 जनवरी, 1986 को लिखे एक पत्र में किया था। उन्होंने लिखा था ‘आपका पत्र मिला। बड़ी प्रसन्नता हुई। इतने संगी-साथियों में यदि किसी के स्नेह-आशीर्वाद की अभिलाषा रहती है तो वह आप ही हैं। मेरा जन्म 1924 में हुआ था। पिताजी ने स्कूल में नाम लिखाते समय 1926 लिखा दिया कि उम्र कम होगी तो नौकरी ज्यादा कर सकेगा, देर में रिटायर होगा। उन्हें क्या पता था कि मेरी वर्षगांठ मनेगी और मनाने वाले मुझे छोटा बनाकर पेश करेंगे।’

Posted on

मिलिए विजय से जिन्होने तय किया दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल से आइपीएस तक का सफर

राजस्थान के झुंझुनूं जिले के रहने वाले विजय मूलत: एक किसान परिवार से हैं। उन्होंने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे गरीब और अभावग्रस्त छात्रों के लिए एक ट्रस्ट भी बनाया है। ट्रस्ट के माध्यम से वह छात्रों को न सिर्फ प्रोत्साहित करते हैं बल्कि आर्थिक सहायता भी देते हैं।

दसवीं में वह महज 55 फीसद अंक से पास हुए। बारहवीं में उनके 67 फीसद अंक आए। वह किसी नौकरी की तलाश में थे। इसमें सफलता न मिलने पर वह टाइल्स का कारोबार कर रहे दोस्त के साथ व्यवसाय करने की सोच रहे थे। उनके पास व्यवसाय के लिए पैसा नहीं था।

इस कारण पिता लक्ष्मण सिंह ने नौकरी की तलाश करने को कहा। उन्होंने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी। जून 2010 में उनका चयन दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर हो गया। दिल्ली आकर उन्हें पता चला कि एक आइपीएस अफसर के पास समाज सेवा के तमाम अवसर होते हैं। उन्होंने उसी दिन ठान लिया कि अब आइपीएस ही बनना है। हालांकि, इसकी तैयारी में खर्च होने वाले पैसे का इंतजाम उनके पास नहीं था। इस कारण उन्होंने पहले दारोगा की तैयारी की। कड़ी मेहनत से दिसंबर 2010 में उनका चयन दिल्ली पुलिस में दारोगा के पद पर हो गया।

इसपद पर रहते हुए उन्हें तैयारी का समय नहीं मिल रहा था। फिर भी उन्होंने एसएससी की तैयारी प्रारंभ कर दी। उनका चयन सेंट्रल एक्साइज में हो गया, लेकिन तैनाती केरल के त्रिवेंद्रम में हो गई। सिविल सेवा की तैयारी दिल्ली में चल रही थी। त्रिवेंद्रम चले जाने से उनकी तैयारी प्रभावित होने लगी। उन्होंने फिर एसएससी की परीक्षा दी। इस बार उनका चयन इनकम टैक्स विभाग में हो गया और उनकी दिल्ली में तैनाती हो गई। इनकम टैक्स की नौकरी करने के साथ ही वह सिविल सेवा की तैयारी करते रहे। 2016 उन्होंने तीसरी बार सिविल सेवा की परीक्षा दी।

संस्कृत जैसे कठिन विषय से मुख्य परीक्षा देने के बाद भी उनका साक्षात्कार के लिए चयन हो गया। वह साक्षात्कार तक पहुंचे, लेकिन आठ अंक कम होने के कारण उनका चयन न हो सका। इसके बाद भी विजय हार नहीं माने। वह लगातार 10 घंटे की पढ़ाई नौकरी के साथ करते रहे। जिसका नतीजा है कि पांचवें प्रयास में 2018 में उनका चयन आइपीएस के लिए हुआ। उनकी इस सफलता ने न सिर्फ परिवार का बल्कि पूरे गुर्जर समाज का नाम रोशन कर दिया। रविवार को नोएडा के इंदिरा गांधी कला केंद्र में गुर्जर समाज के सफल युवाओं के लिए आयोजित कार्यक्रम में विजय गुर्जर को सम्मानित कर समाज खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा था।

अभाव व कम संसाधन कभी विजय रथ को रोक नहीं सकते। यह जरूर है कि अभाव के कारण सफलता पाने में समय लग जाता है। मेरी मां चंदा देवी और पत्नी सुनीता लगातार मेरा मनोबल बढ़ाती रहीं। अब मैं पत्नी सुनीता को सिविल सेवा की तैयारी करा रहा हूं। मैं सिपाही भी रहा हूं। इस कारण मुझे उनका दर्द पता है।

विजय गुर्जर, आइपीएस

Posted on

फॉर्च्यून की 50 हस्तियों की सूची में मुकेश अंबानी 24वें नंबर पर पहुंचे

एशिया के अमीरों की लिस्ट में शामिल कारोबारी मुकेश अंबानी को फॉर्च्यून की 50 मशहूर हस्तियों की लिस्ट में जगह मिली है।

इस लिस्ट में सुप्रीम कोर्ट की जानी-मानी वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता इंदिरा जयसिंह और आर्किटेक्ट बालकृष्ण दोषी को भी जगह दी गई है। आपको बता दें कि 19 अप्रैल को मुकेश अंबानी का जन्मदिन था और इस मौके पर इससे अच्छा तोहफा तो हो ही नहीं सकता है। अंबानी को इस लिस्ट में 24वां स्थान मिला है। गौरतलब है कि गुरुवार को वर्ल्ड्स ग्रेटेस्ट लीडर्स ऑफ 2018 में दुनियाभर के 50 महानतम पथप्रदर्शकों की रैंकिंग लिस्ट जारी की गई थी।

मुकेश अंबानी को लिस्ट में 24वां स्थान मिला

मुकेश अंबानी को लिस्ट में 24वां स्थान मिला

मुकेश अंबानी ने इस लिस्ट में जगह जियो के कारण मिली है। जिसने पिछले दो सालों से भी कम समय में बड़ी संख्या में भारतीयों के हाथ में इंटरनेट और मोबाइल डेटा पहुंचाया है और देश के टेलिकॉम मार्केट की तस्वीर को पूरी तरह से बदल दी है।

फॉर्च्यून ने मुकेश अंबानी की तारीफ की

फॉर्च्यून ने मुकेश अंबानी की तारीफ की

फॉर्च्यून ने मुकेश अंबानी की तारीफ करते हुए लिखा है कि मुकेश अंबानी ने एक सपने को पूरी तरह से हकीकत में बदल दिया, जिसके कारण बेहद कम पैसों में मुफ्त कॉल्स और डेटा मुहैया कराना, जिससे जियो के सारे कंपीटिटर या तो खत्म हो गए या उन्हें अपनी कीमतें कम करनी पड़ी हैं।

जियो कंपनी के 16 करोड़ ग्राहक बन चुके

जियो कंपनी के 16 करोड़ ग्राहक बन चुके

भारत में डेटा की खपत में भी 1100 प्रतिशत का उछाल आया है। जिससे जिओ को फायदा हुआ, आज जियो की वजह से भारत का हर छोटा-बड़ा इंसान इंटरनेट से जुड़ गया है, जो एक बहुत बड़ा और सकारात्मक परिवर्तन है। आपको बता दें कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने सितंबर 2016 में जिओ लॉन्च किया था। तब से अब तक कंपनी के 16 करोड़ ग्राहक बन चुके हैं।

 कौन हैं मुकेश अंबानी

कौन हैं मुकेश अंबानी

मुकेश अंबानी एक भारतीय उद्योगपति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत में निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी है। मुकेश रिलायंस के संस्थापक स्वर्गीय धीरुभाई अम्बानी के पुत्र और ‘रिलायंस धीरुभाई अम्बानी ग्रुप’ के अध्यक्ष अनिल अंबानी के बड़े भाई हैं।

मुंबई इंडियन्स टीम के भी मालिक हैं मुकेश अंबानी

मुंबई इंडियन्स टीम के भी मालिक हैं मुकेश अंबानी

मुकेश के रिलायंस इंडस्ट्रीज का कारोबार रिफाइनिंग, पेट्रोकेमिकल, तेल, गैस और रिटेल जैसे क्षेत्रों में फैला हुआ है। वे इंडियन प्रीमियर लीग के अंतर्गत आने वाली क्रिकेट टीम मुंबई इंडियन्स टीम के भी मालिक हैं। सन 2012 में फोर्ब्स ने उन्हें दुनिया के सबसे अमीर ‘स्पोर्ट्स ओनर्स’ की सूची में स्थान दिया। अपनी कंपनी के अलावा मुकेश अंबानी अलग-अलग समय पर विभिन समितियों के सदस्य, अध्यक्ष और प्रतिष्ठित कंपनियों के बोर्ड मेंबर भी रहे हैं। वे भारत के प्रतिष्ठित प्रबंधन संस्थान ‘इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट बैंगलोर’ के बोर्ड के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

Posted on

कामचलाऊ भाले से किया अभ्यास और अब नीरज ने गोल्ड जीतकर रच दिया इतिहास

कॉमनवेल्थ गेम्स में भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा कभी एक अदद भाले के लिए तरसते थे लेकिन ये उनकी मेहनत का ही फल है कि आज की तारीख में वह इस खेल के चैंपियन हैं।

पांच साल पहले नीरज के पास अभ्यास के लिए भाला भी नहीं था पर उन्होंने हौसला नहीं खोया। पिता सतीश कुमार और चाचा भीम सिंह से सात हजार रुपये लेकर काम चलाऊ भाला खरीदा और हर दिन आठ घंटे तक अभ्यास किया। इसी के बूते अंडर-16, अंडर-18 और अंडर-20 की मीट में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बना डाला। इसके बाद भारतीय कैंप में चयन हुआ। इसके बाद उन्हें डेढ़ लाख रुपये वाले भाले से अभ्यास करने का मौका मिला। इसके बाद उन्होंने पोलैंड में अंडर-20 वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में विश्व रिकॉर्ड बनाया।

नीरज का कहना है कि विदेशी खिलाड़ियों से हम किसी भी तरह से कम नहीं हैं, कमी है तो हार के समय बिखर जाना और लक्ष्य से जी चुराना। भाला फेंक मंहगा खेल है। सरकार, संस्थाओं और सामाजिक संगठनों को खिलाड़ियों का सहयोग करना होगा। नीरज ने बताया कि पंचकूला के एथलेटिक्स कोच नसीम अहमद ने उनकी तकनीक में सुधार कराया है।

रिकॉर्ड के बादशाह हैं नीरज

नीरज के नाम अंडर-20 में विश्व रिकॉर्ड व राष्ट्रीय रिकॉर्ड। 2016 में साउथ एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक के साथ-साथ राष्ट्रीय रिकॉर्ड। इसके साथ ही साथ 2014 में अंडर-18 नेशनल यूथ एथलेटिक्स चैंपियनशिप में राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी नीरज के नाम है।