Posted on

फ्लिपकॉर्ट में 77% हिस्सेदारी के बाद अब 85% की तैयारी में वॉलमार्ट

देश की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी में 77 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के बाद अब वॉलमार्ट 3 अरब डॉलर का निवेश कर फ्लिपकॉर्ट की 85 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी में है।

 

इस बात की जानकारी दुनिया के सबसे बड़े रिटेलर ने शुक्रवार को अमेरिकी सिक्यॉरिटीज और एक्सचेंज कमिशन को दी। रिटेलर ने ये भी बताया कि वॉलमार्ट के बाकी शेयर भी उसी कीमत पर खरीदे जाएंगे जिस कीमत पर 77 फीसदी शेयर खरीदे गए थे।

वॉलमार्ट ने किस दर पर फ्लिपकॉर्ट के शेयरों को हासिल किया यह जानकारी सार्वजनिक नहीं हुई है। वॉलमार्ट की फाइलिंग इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि फ्लिपकॉर्ट के बड़े निवेशक जापानी इंटरनेट और टैलीकॉम कंपनी सॉफ्टबैंक ने शेयरों को बेचने पर कोई फैसला नहीं किया है। सॉफ्टबैंक के पास फ्लिपकॉर्ट के करीब 22 फीसदी शेयर हैं। इससे पहले मीडिया रिपोर्टस से भी ये बात साने आई थी कि वॉलमार्ट और सॉफ्टबैंक पहले की कीमत पर ही शेयर ट्रांजेक्शन के लिए वक्त निकाल कर बातचीत करने की तैयारी कर रहे थे।

एसईसी फाइलिंग के अनुसार, वॉलमार्ट 2 अरब डॉलर कैश में निवेश कर रहा है और फ्लिपकॉर्ट के मौजूदा शेयर होल्डर्स से 14 अरब डॉलर मूल्य के शेयर खरीद रहा है। वॉलमार्ट ने कहा है कि वह बोर्ड और फाउंडर की सलाह से फ्लिपकॉर्ट ग्रुप ऑफ कंपनीज के सीईओ और प्रिंसिपल एग्जिक्युटिव्ज को अपॉइंट या रिप्लेस कर सकता है। फिलहाल कल्याण कृष्णमूर्ति फ्लिपकॉर्ट के सीईओ हैं और को-फाउंडर बिन्नी बंसल ग्रुप सीईओ हैं। को-फाउंडर और एग्जिक्युटिव चैयरमैन सचिन बसंल ने कंपनी छोड़ने का फैसला किया।

Posted on

बिटकॉइन ने किया अमिताभ बच्चन को मालामाल, 2 साल में कमाए 114 करोड़ रुपए

वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन दुनियाभर में चर्चा का बिषय बनी हुई है। इस समय जिस तेजी से बिटकॉइन आगे बढ़ रही है हर कोई इसमें निवेश करने की सोच रहा है। बिटकॉइन से मुनाफा कमाने वालों में बॉलीबुड के महानायक अमिताभ बच्चन भी शामिल हो गए हैं। बच्चन परिवार ने बिटकॉइन में ढाई साल पहले लगभग 1.6 करोड़ रुपए का निवेश किया था, जिसका कुल मूल्य अब 110 करोड़ रुपए से अधिक हो चुका है।

ढाई साल पहले किया था निवेश
जानकारी के मुताबिक बच्चन परिवार ने साल 2015 में पर्सनल इनवेस्टमेंट के तहत मेरिडियन टेक पीटीई में 1.6 करोड़ रुपए का निवेश किया था। मेरिडियन टेक एक सिंगापुर की कंपनी है जिसकी प्राइम मुख्य संपत्ति ZIDDU.COM है, जिसने पिछले हफ्ते ही एक विदेशी कंपनी लॉन्गफिन कॉर्प ने खरीदा है। Ziddu अलग-अलग देशों में बिटकॉइन सहित अन्य वर्चुलअल करेंसी का इस्तेमाल करके माइक्रोफाइनेंस की सुविधा मुहैया कराती है। बच्चन परिवार ने मेरिडियन टेक में जो निवेश किया हुआ था उसके बदले में उनको लॉन्गफिन कॉर्प के करीब 250000 शेयर मिले हैं, सोमवार को इस शेयर की कीमत करीब 70 डॉलर के करीब थी यानि बच्चन परिवार के 2.5 लाख शेयरों की कीमत करीब 1.75 करोड़ रुपए बैठती है जिसे डॉलर और रुपए के मौजूदा एक्सचेंज रेट पर देखा जाए तो 114 करोड़ बनते हैं। यानि ढाई साल पहले 1.6 करोड़ रुपए का निवेश अब 114 करोड़ रुपए हो गया है।

क्‍या है बिटकॉइन
बिटकॉइन एक वर्चुअल करेंसी (क्रिप्टो करेंसी) जैसी है जिसे एक ऑनलाइन एक्सचेंज के माध्यम से कोई भी खरीद सकता है। इसकी खरीद-फरोख्त से फायदा लेने के अलावा भुगतान के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके जरिए बिना बैंक को माध्‍यम बनाए लेन-देन किया जा सकता है। हालांकि भारत में इस मुद्रा को न तो आधिकारिक अनुमति है और न ही इसे रेग्युलेट करने का कोई नियम बना है।