Posted on Leave a comment

मिल्क शेक स्टार्टअप ने हासिल किया 2 साल में 40 करोड़ का रेवेन्यू। जानें कैसे!

2 साल पहले कोरामंगलम में पहला फ्रोजेन बोटल स्टोर खोलने वाले प्रांशुल यादव और अरुण सुवर्णा ने अपनी कड़ी मेहनत और बेमिसाल बिज़नेस प्लानिंग से अब 100 आउटलेट्स खोलने का कारनामा कर लिया है।

Frozen bottle cofounders

प्रांशुल ने इससे पहले क्रीम स्टोन के कई स्टोर्स बैंगलोर में खोले थे जिससे उनका इस क्षेत्र में अनुभव और बढ़ गया। दोनों ने मिलके 36 लाख रुपए से इस बिज़नेस को बूटस्ट्रैप किया और सफलता की नई मिसाल कायम की।

Frozen bottle outlet

2017 में अपने पहले साल में बैंगलोर में 10 स्टोर्स खोलना इनकी एक बड़ी कामयाबी रही। इस साल के अंत मे फ्रोज़न बोटल ने 18 लाख रुपए में 8% सेल्स प्रति माह रॉयल्टी फीस के साथ अपनी फ्रेंचाइजी देनी शुरू करी जिससे अब मौजूदा समय मे इनके 40 कंपनी आउटलेट्स मिलाकर कुल 100 से ज्यादा स्टोर्स चल रहे हैं।

Frozen bottle products

फ्रोज़न बोटल बैंगलोर, मुंबई, चेन्नई, दिल्ली, पुणे, सूरत, मनिपाल, कोच्चि और कोयम्बटूर जैसे कुल 18 शहरों में स्टोर्स खोल चुकी है। कंपनी का प्लान 140 नए स्टोर्स खोलने का है जिसके लिए 5 करोड़ का निवेश यह अपनी कमाई में से ही कर रहे हैं। फ्रेंचाइजी मॉडल की कामयाबी से इस कंपनी को कभी एक्सटर्नल फंडिंग की भी जरूरत नही पड़ी और अपनी शर्तों पर खुद मेहनत करके कामयाबी की बुलंदियों पर पहुंचना सभी के लिए एक बेहद प्रेरणा दायक उदाहरण है।

यदि आपके पास भी कोई बिज़नेस आईडिया है तो यह लेख जरूर पढ़ें Starting Up Funding

बिज़नेस में किसी भी सेवा के लिए हमारे AdTO Startup Destination से आज ही जुड़ें।

Posted on Leave a comment

मुझे जेल में डालने के लिए कैसी-कैसी साजिशें नहीं की गईं : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पार्टी और उसके नेतृत्व को विकास एवं गुजरात विरोधी करार देते हुए कहा कि बीजेपी के लिए चुनाव विकासवाद की जंग है, जबकि कांग्रेस के लिए यह वंशवाद की जंग है. पीएम मोदी ने कहा, जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था, तब मुझे जेल में डालने के लिए मेरे खिलाफ कैसी-कैसी साजिशें नहीं की गईं. लेकिन आज देखें कि हम कहां है और वो कहां हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि जब-जब गुजरात में चुनाव आता है, उनको (कांग्रेस) जरा ज्यादा बुखार आता है, तकलीफ ज्यादा बढ़ जाती है. इस पार्टी और परिवार को गुजरात आंखों में चुभता रहा है.
मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :
  1. गुजरात गौरव महासम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी ने हमेशा कुर्सी का खेल खेला, वंशवाद को कैसे सलामत रखना है, इस पार्टी ने हमेशा इसकी चिंता की. उनको न देश की चिंता है और न समाज की.
  2. पीएम मोदी ने कहा, ये जहर, गुजरातियों के प्रति द्वेष… इसी का परिणाम था कि पंडित नेहरू ने नर्मदा परियोजना का शिलान्यास किया, लेकिन वह आंखों में इसलिए चुभती थी, क्योंकि इसकी संकल्पना सरदार पटेल ने की थी, इसलिए पूरा नहीं होने दिया. कोई कल्पना कर सकता है कि 40 साल तक यह अटकी रही.
  3. प्रधानमंत्री ने कहा, कांग्रेस ने विकास के मुद्दे पर कभी चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं दिखाई. मैं एक बार फिर से कांग्रेस पार्टी को चुनौती देता हूं कि वे विकासवाद के मुद्दे पर चुनाव लड़ें और लोगों को भ्रमित करने का काम छोड़ें.
  4. राहुल और सोनिया गांधी का नाम लिए बिना पीएम मोदी ने कहा कि जो जेल की सजा काटे हैं, उनके साथ ये कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होते हैं.
  5. पीएम मोदी ने कहा कि इनको गुजरात से नफरत है, जनसंघ से नफरत है, भाजपा से नफरत है. इन लोगों और पार्टी ने कभी हमें गांधी का हत्यारा कहा, कभी दलित विरोधी कहा. आज सबसे ज्यादा दलित सासंद बीजेपी के हैं.
  6. पीएम मोदी ने कहा, इनका विकास से कोई नाता नहीं है. उनको एक ही चीज की आदत लगी है और उनके नेता, पार्टी और परिवार भ्रष्टाचार में डूबी रही है.
  7. प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र में चुनाव एक यज्ञ होता है. चुनाव के यज्ञ में लोकतंत्र के सभी सिपाही, सभी मतदाता और अधिक अच्छा करने के भाव से हर कोई जुटता है। लेकिन सतयुग से, रामायण-महाभारत के काल से ऐसा होता आया है कि जब-जब यज्ञ होता है रुकावट डालने वाले इसमें रुकावट डालते हैं
  8. लोगों ने बहुत सरकारें देखी हैं, धनबल और बाहुबल से चलने वाली पार्टियां, वंशवाद से चलने वाली पार्टियां हैं, लेकिन लोकतांत्रिक तरीके से चलने वाली भाजपा इकलौती पार्टी है.
  9. प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की इतनी सरकारें आईं, लेकिन सिंचाई से जु़ड़ी तमाम योजनाएं अटकी पड़ी रहीं, क्योंकि कांग्रेस को विकास में कोई रुचि नहीं है. 12 लाख करोड़ के प्रोजेक्ट अटके पड़े थे, हमने उन्हें आगे बढ़ाने का काम किया.
  10. नरेंद्र मोदी ने कहा, मैं पूछना चाहता हूं कि क्या कारण है कि चुनाव से पहले कांग्रेस के 25 प्रतिशत विधायकों ने उस पार्टी को छोड़ दिया… ऐसा इसलिए क्योंकि राजनेता हवा का रुख भांप लेते हैं.