Posted on

एक कहानी जो यकीनंद आपके दिल को छु जायेगी।

एक लड़की की शादी उसकी मर्जी के खिलाफ एक सीधे-साधे लड़के से की जाती है जिसके घर मे एक मां के आलावा और कोई नहीं है। दहेज में लड़के को बहुत सारे उपहार और पैसे मिले होते हैं। लड़की किसी और लड़के से बेहद प्यार करती थी और लड़का भी।

लड़की शादी हो के आ गयी अपने ससुराल, सुहागरात के वक्त लड़का दूध लेके आता है तो दुल्हन सवाल पूछती है अपने पति से…एक पत्नी की मर्जी के बिना पति उसको हाथ लगाये तो उसे बलात्कार कहते है या हक?

पति – आपको इतनी लम्बी और गहरी जाने की कोईजरूरत नहीं है..बस दूध लाया हूँ पी लिजीयेगा। हम सिर्फ आपको शुभरात्रि कहने आये थे कहके कमरे से निकल जाता है। लड़कीमन मारकर रह जाती है क्योंकि लड़की चाहती थी कीझगड़ा हो ताकी मैं इस गंवार से पिछा छुटा सकूँ ।है तो दुल्हन मगर घर का कोई भी काम नहीं करती। बसदिनभर online रहती और न जाने किस किस से बातेंकरती मगर उधर लड़के की माँ बिना शिकायत के दिन भरचुल्हा चौका से लेकर घर का सारा काम करती मगर हरपल अपने होंठों पर मुस्कुराहट लेके फिरती । लड़का एककम्पनी मे छोटा सा मुलाजीम है और बेहद ही मेहनती औरइमानदार। करीब महीने भर बित गये मगर पति पत्नीअब तक साथ नहीं सोये… वैसे लड़का बहुत शांत स्वाभाववाला था इसलिए वह ज्यादा बातें नहीं करता था, बसखाने के वक्त अपनी पत्नी से पूछ लेता था कि, कहा खाओगी..अपने कमरे में या हमारे साथ। और सोने से पहले डायरी लिखने की आदत थी जो वह हर रात को लिखता था।ऐसे लड़की के पास एक स्कूटी था वह हर रोज बाहरजाती थी पति के अफीस जाने के बाद और पति के वापसलौटते ही आ जाती थी। छुट्टी का दिन था लड़का भीघर पे ही था तो लड़की ने अच्छे भले खाने को भी गंदा कहके माँ को अपशब्द बोलके खाना फेंक देती है मगर वह शांत रहने वाला उसका पति अपनी पत्नी पर हाथ उठा देता है मगर माँ अपने बेटे को बहुत डांटती है। इधर लड़की को बहाना चाहिए था झगड़े का जो उसे मिल गयाथा, वह पैर पटकती हुई स्कूटी लेके निकल पड़ती है। लड़की जो रोज घर से बाहर जाती थी वह अपने प्यार से मिलने जाती थी, लड़की भले टूटकर चाहती थी लड़के को मगर उसे पता था की हर लड़की की एक हद होती है जिसे इज्जत कहते हैं, वह उसको बचाये रखी थी। इधर लड़कीअपने प्यार के पास पहुँचकर कहती है। अब तो एक पल भी उस घर मे नहीं रहना है मुझे । आज गंवार ने मुझपर हाथ उठाके अच्छा नही किया ।

लड़का – अरे तुमसे तो मैं कब से कहता हूँ की भाग चलो मेरेसाथ कहीं दूर मगर तुम हो की आज कल आज कल पे लगीरहती हो।

लड़की – शादी के दिन मैं आई थी तो तुम्हारे पास। तुमही ने तो लौटाया था मुझे ।

लड़का – खाली हाथ कहा तक भागोगे तुम ही बोलो..मैंनेतो कहा था कि कुछ पैसे और गहने साथ ले लो तुम तोखाली हाथ आई थी।आखिर दूर एक नयी जगह मे जिंदगी नये सिरे से शुरू करने केलिए पैसे तो चाहिए न?

लड़की – तुम्हारे और मेरे प्यार के बारे में जानकर मेरे घरवालो ने बैंक के पास बुक एटी एम और मेरे गहने तक रखलिये थे। तो मैं क्या लाती अपने साथ । हम दोनों मेहनत करके कमा भी तो सकते थे।

लड़का – चालाक इंसान पहले सोचता है और फिर काम करता है। खाली हाथ भागते तो ये इश्क का भूत दो दिन में उतर जाता, समझी?और जब भी तुम्हें छुना चाहता हूँ बहुत नखरे है तुम्हारे ।बस कहती हो शादी के बाद।

लड़की – हाँ शादी के बाद ही अच्छा होता है ये सब औरसब तुम्हारा तो है। मैं आज भी एक कुवारी लड़की हूँ ।शादी करके भी आज तक उस गंवार के साथ सो न सकीक्योंकि तुम्हें ही अपना पति मान चुकी हूँ बस तुम्हारेनाम की सिंदूर लगानी बाकी है। बस वह लगा दो सबकुछतुम अपनी मर्जी से करना।लड़का – ठीक है मैं तैयार हूँ । मगर इस बार कुछ पैसे जरूरसाथ लेके आना, मत सोचना हम दौलत से प्यार करते हैं ।हम सिर्फ तुमसे प्यार करते है बस कुछ छोटी मोटीबिजनेस के लिए पैसे चाहिए ।

लड़की – उस गंवार के पास कहा होगा पैसा, मेरे बाप से 3 लाख रूपया उपर से मारूती कार ली है।बस कुछ गहने है वह लेके आउगी आज।लड़का लड़की को होटल का पता देकर चला जाता है ।लड़की घर आके फिर से लड़ाई करती है।मगर अफसोस वह अकेली चिल्लाती रहती है उससे लड़नेवाला कोई नहीं था।रात 8 बजे लड़के का मैसेज आता है वाटसप पे की कब आरही हो?लड़की जवाब देती है सब्र करो कोई सोया नहीं है। मैं12 बजे से पहले पहुँच जाउगी क्योंकि यंहा तुम्हारे बिना मेरी सांसे घुटती है।

लड़का -ओके जल्दी आना। मैं होटल के बाहर खड़ा रहूंगाbye…लड़की अपने पति को बोल देती है की मुझे खाना नहीं चाहिए मैंने बाहर खा लिया है इसलिए मुझे कोई परेशानन करे इतना कहके दरवाजा बंद करके अंदर आती हैकी…पति बोलता है की…वह आलमारी से मेरी डायरी दे दो फिर बंद करना दरवाजा। हम परेशान नहीं करेंगे ।लड़की दरवाजा खोले बिना कहती है की चाभीया दो अलमारी की।

लड़का – तुम्हारे बिस्तर के पैरों तले है चाबी ।मगर लड़की दरवाजा नहीं खोलती वल्की जोर जोर से गाना सुनने लगती है। बाहर पति कुछ देर दरवाजापिटता है फिर हारकर लौट जाता है। लड़की ने बड़े जोर से गाना बजा रखा था। फिर वह आलमारी खोलके देखतीहै जो उसने पहली बार खोला था, क्योंकि वह अपना समान अलग आलमारी मे रखती थी।आलमारी खोलते ही हैरान रह जाती है।

आलमारी में उसके अपने पास बुक एटी एम कार्ड थे जो उसके घरवालोने छीन के रखे थे, खोलके चेक किया तो उसमें वह पैसे भी एड थे जो दहेज मेलड़के को मिले थे। और बहुत सारे गहने भी जो एक पेपर केसाथ थे और उसकी मिल्कीयेत लड़की के नाम थी, लड़कीबेहद हैरान और परेशान थी।

फिर उसकी नजर डायरी मेपड़ती है और वह जल्दी से वह डायरी निकालके पढ़ने लगती है। लिखा था, तुम्हारे पापा ने एक दिन मेरी मां की जान बचाइ थी अपना खून देकर । मैं अपनी माँ से बेहद प्यारकरता हूँ इसलिए मैंने झूककर आपके पापा को प्रणाम करकेकहा की…आपका ये अनमोल एहसान कभी नही भूलूंगा, कुछदिन बाद आपके पापा हमारे घर आये हमारे तुम्हारेरिश्ते की बात लेकर मगर उन्होंने आपकी हर बात बताईहमें की आप एक लड़के से बेहद प्यार करती हो। आपकेपापा आपकी खुशी चाहते थे इसलिए वह पहले लड़के कोजानना चाहते थे। आखिर आप अपने पापा की princessजो थी और हर बाप अपने Princess के लिए एक अच्छाइमानदार Prince चाहता है। आपके पापा ने खोजकर केपता लगाया की वह लड़का बहुत सी लड़की को धोखा देचुका है। और पहली शादी भी हो चुकी है पर आपको बतान सके क्योंकि उन्हें पता था की ये जो इश्क का नशा हैवह हमेशा अपनों को गैर और गैर को अपना समझता है।ऐक बाप के मुँह से एक बेटी की कहानी सुनकर मै अचम्भीतहो गया। हर बाप यंहा तक शायद ही सोचे। मुझे यकीनहो गया था की एक अच्छा पति होने का सम्मान मिले नमिले मगर एक दामाद होने की इज्जत मैं हमेशा पा सकताहूँ।मुझे दहेज मे मिले सारे पैसे मैंने तुम्हारे ए काउण्ट मे करदिए और तुम्हारे घर से मिली गाड़ी आज भी तुम्हारे घरपे है जो मैंने इसलिए भेजी ताकी जब तुम्हें मुझसे प्यार होजाये तो साथ चलेंगे कही दूर घूमने। दहेज…इस नाम सेनफरत है मुझे क्योंकि मैंने इ दहेज मे अपनी बहन और बापको खोया है। मेरे बाप के अंतिम शब्द भी येही थेकी..कीसी बेटी के बाप से कभी एक रूपया न लेना। मर्दहो तो कमाके खिलाना, तुम आजाद हो कहीं भी जासकती हो। डायरी के बिच पन्नों पर तलाक की पेपर हैजंहा मैंने पहले ही साईन कर दिया है । जब तुम्हें लगे कीअब इस गंवार के साथ नही रखना है तो साईन करके कहींभी अपनी सारी चिजे लेके जा सकती हो।लड़की …हैरान थी परेशान थी…न चाहते हुए भी गंवार केशब्दों ने दिल को छुआ था। न चाहते हुए भी गंवार केअनदेखे प्यार को महसूस करके पलके नम हुई थी।आगे लिखा था, मैंने तुम्हें इसलिए मारा क्योंकि आपने माको गाली दी, और जो बेटा खुद के आगे मा की बेइज्जतीहोते सहन कर जाये…फिर वह बेटा कैसा ।कल आपके भी बच्चे होंगे । चाहे किसी के साथ भी हो, तबमहसूस होगी माँ की महानता और प्यार।आपको दुल्हन बनाके हमसफर बनाने लाया हूँ जबरजस्तीकरने नहीं। जब प्यार हो जाये तो भरपूर वसूल कर लूँगाआपसे…आपके हर गुस्ताखी का बदला हम शिद्दत से लेंगे हमआपसे…गर आप मेरी हुई तो बेपनाह मोहब्बत करकेकिसी और की हुई तो आपके हक मे दुवाये माँग केलड़की का फोन बज रहा था जो भायब्रेशन मोड पे था,लड़की अब दुल्हन बन चुकी थी। पलकों से आशू गिर रहे थे ।सिसकते हुए मोबाइल से पहले सिम निकाल के तोड़ा फिरसारा सामान जैसा था वैसे रख के न जाने कब सो गई पतानहीं चला। सुबह देर से जागी तब तक गंवार अफीस जाचुका था, पहले नहा धोकर साड़ी पहनी । लम्बी सीसिंदूर डाली अपनी माँग मे फिर मंगलसूत्र ।जबकि पहले एक टीकी जैसी साईड पे सिंदूर लगाती थीताकी कोई लड़का ध्यान न देमगर आज 10 किलोमीटर से भी दिखाई दे ऐसी लम्बीऔर गाढी सिंदूर लगाई थी दुल्हन ने। फिर किचन मे जाकेसासुमा को जबर्दस्ती कमरे मे लेके तैयार होने को कहतीहै। और अपने गंवार पति के लिए थोड़े नमकीन थोड़े हलुवेऔर चाय बनाके अपनी स्कूटी मे सासुमा को जबर्दस्तीबिठाकर (जबकी कुछ पता ही नहीं है उनको की बहू आजमुझे कहा ले जा रही है बस बैठ जाती है)फिर रास्ते मे सासुमा को पति के अफीस का पता पूछकरअफीस पहुँच जाती है। पति हैरान रह जाता है पत्नी कोइस हालत मे देखकर।पति – सब ठीक तो है न मां?मगर माँ बोलती इससे पहले पत्नी गले लगाकर कहती हैकी..अब सब ठीक है…I love you forever…अफीस के लोग सब खड़े हो जाते है तो दुल्हन कहती हैकी..मै इनकी धर्मपत्नी हूँ । बनवास गई थी सुबह लौटीहूँअब एक महीने तक मेरे पतिदेव अफीस मे दिखाई नहीं देंगे

अफीस के लोग- ?????

दुल्हन – क्योंकि हम लम्बी छुट्टी पे जा रहें हैं साथ साथ।

पति- पागल..

दुल्हन – आपके सादगी और भोलेपन ने बनाया है।सभी लोग तालीया बजाते हैं और दुल्हन फिर से लिपटजाती है अपने गंवार से …जंहा से वह दोबारा कभी भी छूटना नहीं चाहती।बड़े कड़े फैसले होते है कभी कभी हमारे अपनों के मगर हम समझ नहीं पाते कि हमारे अपने हमारी फिकर खुद से ज्यादा क्यों करते हैं

** मां बाप के फैसलों का सम्मान करे**

Posted on

गगनशक्ति 2018: वायुसेना का बड़ा शक्ति प्रदर्शन, एयरचीफ मार्शल बोले- आसमान को हिलाने का है माद्दा

पिछले तीन दशक में भारतीय वायुसेना के सबसे बड़े अभ्यास ‘गगन शक्ति-2018’ में पिछले तीन दिनों के अंदर करीब 1100 विमानों ने हिस्सा लिया। जिनमें करीब आधा लड़ाकू विमान थे। वायुसेनाध्यक्ष बी.एस. धनोवा ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान बेहद करीब से इस ऑपरेशन पर नज़र रख रहा था जो “आसमान को हिला रहा है और धरती को चीर रहा है।”

अब वायुसेना अपना अभ्यास वेस्टर्न सेक्टर से ईस्टर्न सेक्टर में करने जा रही है। धनोवा ने कहा कि सभी तरह के प्रशिक्षण को 22 अप्रैल तक दो चरणों में चलनेवाले अभ्यास के चलते सस्पेंड किया जा रहा है। अमूमन यह युद्ध के समय में ऐसा होता है जब सेना की तरफ से सभी गतिविधियों को रोक दिया जाता है।

वायुसेना ने आकाश से दुश्मन के खात्मे का दम दिखाया
भारतीय वायुसेना का युद्धाभ्यास ‘गगन शक्ति 2018’ पिछले एक सप्ताह से पश्चिमी क्षेत्र में जारी है। पैराशुट ब्रिगेड की बटालियन के साथ वायुसेना ने आकाश से दुश्मन की धरती पर निशाना साधने का अभ्यास किया। वहीं पश्चिम बंगाल के खड़गपुर स्थित कलाईकुंडा एयरबेस से उड़े सुखाई 30 लड़ाकू विमानों ने भी दुश्मन को नेस्तेनाबूत करने का दम दिखाया। इस दौरान लक्षद्वीप तक की उड़ान के दौरान दो बार आकाश में ही सुखोई से सुखोई में ईंधन भरा गया।

वायुसेना ने तैयारी और दमखम को दो हिस्सों में परखा है। पहला पश्चिमी सीमा में और दूसरा उत्तरी सीमा पर। पश्चिमी सीमा के लिए पाकिस्तान सरकार को पूर्व सूचना दी गई। इस चरण में भारतीय सेना पाकिस्तान की हरकतों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए दम दिखाया। दूसरे चरण में तिब्बत की ओर से चीन की सेना के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए अभ्यास किया।

जैसलमेर, जोधपुर, खड़गपुर में सैन्य विमानों ने हिस्सा लिया
लड़ाकू विमान तेजस वायुसेना में शामिल होने के बाद पहली बार गगन शक्ति युद्धाभ्यास में हिस्सा ले रहा है। सुखोई-30 एमकेआई, मिग-21, मिग-29, मिग 27, जगुआर व मिराज जैसे 600 लड़ाकू विमान शामिल हैं। बड़े परिवहन विमान सी-17 ग्लोब मास्टर, सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस और अटैक हेलिकॉप्टर एमआई 35, एमआई 17 वी 5, एमआई 17, एएलएच ध्रुव, एएलएच भी शामिल हैं।

अड्डों पर धुआंधार गोलीबारी की गई
जैसलमेर में वायुसेना के विमानों ने विभिन्न ठिकानों को निशाना बनाकर युद्धाभ्यास किया।
‘गगन शक्ति 2018’ युद्धाभ्यास में पहली बार महिला फाईटर पायलट हिस्सा ले रही हैं। युद्धाभ्यास के दौरान स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस की पूरी स्कवाड्रन ताकत दिखा रही है।

Posted on

कदी हस वी लिया करो पाजी!???

Jokes of daily life

1: प्रभु यह क्या मोह माया है?

अपना बच्चा रोये तो दिल में दर्द होता है
और दूसरे का रोये तो सर में!! !!

अपनी बीवी रोये तो सर में दर्द होता है
और दूसरे की रोये तो दिल में???

सब प्रभु की माया है ?

2: एक आदमी कुम्भ मेले में प्रार्थना
कर रहा था

हे प्रभु, न्याय करो…
हे प्रभु, न्याय करो…

हमेशा भाई-भाई को बिछड़ते देखा है कुम्भ में …

कभी पति-पत्नी पर भी try करो
???

3: पत्नी- जानू! काश आप मैसेज होते।
मैं आपको save करती, जब चाहती पढ़ती

पति- कंजूस ही रहियो। save ही
करके रखियो, अपनी किसी सहेली को
forward ना करियो ???

4: पति- काश मैं गणपति होता!
तुम रोज़ मेरी पूजा करती,
मुझे लड्डू खिलाती, बड़ा मज़ा आता।

पत्नी- हाँ, काश तुम गणपति होते,
रोज़ तुमको लड्डू खिलाती,
हर साल विसर्जन करती,
नए गणपति आते।
बड़ा मज़ा आता।
??

5: अगर आपकी पत्नी आपका कहना नहीं मानती है तो..??
.

.

तो..??
.

.

.

.

.

इतना ध्यान से मत पढ़ो
किसी की नहीं मानती
✌?✌?✌??✌?✌?
.
.
इसका कोई इलाज नहीं है
❌❌❌❌❌❌❌❌❌❌

6: गर्लफ़्रेंड का बाप: कितना कमा लेते हो?

संता: जी 18000

हरलफ्रैंड का बाप: पता है 12000 तो मेरी बेटी की पॉकेटमनी है।

संता: जी पता है, उसी को जोड़ के तो बता रहा हूँ!

*******************

7: कुंवारा लड़का- मुझे शादी नहीं करनी!!
मुझे सभी औरतों से डर लगता है!

पिता- कर ले बेटा!
फिर एक ही औरत से डर लगेगा,
बाकि सब अच्छी लगेंगी।
????????
❌❌❌❌❌❌❌❌❌❌

8: बाबू- साहब, आप ऑफिस में
शादीशुदा आदमियों को ही क्यों रखते हो?

साहब- क्योंकि उन्हें बेइज़्ज़ती सहने
की आदत होती है और घर जाने की जल्दी भी नहीं होती।
? ??
❌❌❌❌❌❌❌❌❌❌

9: पति- तेरे बाप की जले पे नमक
छिड़कने की आदत गयी नहीं।

पत्नी- क्यों क्या हुआ?

पति- आज फिर से पूछ रहा था कि
मेरी बेटी से शादी करके खुश तो हो ना?
??
??
??

10: दिल छू लेने वाली कहानी …
पति और पत्नी घूमने निकले।
टहलते समय पति एक पत्थर से टकरा
गया और उसका खून बहने लगा।
उसने अपनी पत्नी की तरफ देखा
इस उम्मीद में की वो अपना दुपट्टा फाड़ेगी और उसके घाव पे बाँध देगी
पत्नी ने पति की आँखों में देखा
और बोली “सोचना भी मत…
डिज़ाइनर पीस है!!!”
????
?????????

11: पति को बाजार जाते हुए देख पत्नी
ने पैसे देकर कहा
“कुछ ऐसी चीज़ लाना जिस से मैं सुन्दर दिखूं” ??????

पति खुद के लिए Whisky की दो बोतल ले आया। ?????
?????????

12: आदमी- सर, मेरी पत्नी लापता है!

डाकिया- ये डाकघर है, पुलिस थाना नहीं!!!

आदमी- ओह सॉरी!!!
साला ख़ुशी के मारे कहाँ जाऊं समझ में नहीं आ रहा।
????
दूसरों को भेजकर उनका भी
उत्साह बढ़ाएं !

Posted on

Sonu Ke Titu Ki Sweety collection: Kartik Aryan’s cheeky comedy mints Rs 73 cr at Box Office

Produced by Krishan Kumar and Bhushan Kumar under the banner of T-Series, ‘Sonu Ke Titu Ki Sweety’ has performed extremely well in the International market as well.

The film also stars Alok Nath, Virendra Saxena and Ishita Raj Sharma in pivotal roles.

‘Sonu Ke Titu Ki Sweety’ marks the fourth collaboration between director Luv Ranjan and actors Kartik Aryan and Nushrat Bharucha after ‘Pyaar Ka Punchnama’, ‘Akaash Vani’ and ‘Pyaar Ka Punchnama 2’.

Looking at the Box Office figures, the film has turned out to be a success and has emerged as the third best opener of this year after ‘Padmaavat’ and ‘PadMan’.

The collection number of the film is surprisingly great as it does not feature any A-rated star. In addition, the film did not even see a festival or a Holiday release.

Anushka Sharma’s home production horror flick ‘Pari’, which released on March 2, has received a lukewarm response as the film has so far earned Rs 19.35 crore at the ticket counter.

‘Padmaavat’ starring Deepika Padukone, Ranveer Singh and Shahid Kapoor, has so far minted Rs 286 crore at the Box Office. On the other hand, Akshay Kumar-Radhika Apte-starrer ‘PadMan’ has pocketed 78 crore.

Ajay Devgn-Ileana D’Cruz-starrer ‘Raid’ is the next big release of the month before Rani Mukerji’s ‘Hichki’. ‘Raid’ releases on March 16 and Hichki hit the screens in the following week.

Kartik Aryan’s ‘Sonu Ke Titu Ki Sweety’ has turned out to be an impressive watch. After stunning the viewers with its collections on the first day, the film has crossed the 70 crore-mark on the thirteenth day.

The film, which is directed by Luv Ranjan made a net collection of Rs 2.58 crore on Wednesday thereby taking its total collections to Rs 73.26 crore.

Trade expert, Taran Adarsh took to Twitter to share the collections, he wrote, “#SonuKeTituKiSweety continues its HEROIC RUN… [Week 2] Fri 5.83 cr, Sat 6.55 cr, Sun 7.02 cr, Mon 2.71 cr, Tue 2.62 cr, Wed 2.59 cr. Total: ₹ 73.26 cr. India biz… SUPER-HIT… #SKTKS.”

Although ‘Sonu Ke Tweety’ has better chances of earning more in the coming week, one can not overlook the fact that Anushka’s ‘Pari’ has also made its way to the theatres. The audience would want to see Anushka in a spooky avatar and hence ‘Sonu…’ will end up having a tough competition at the box office.

Posted on

श्रीदेवी जैसा ही हसीन था श्रीदेवी का फ़िल्मी सफर: वो ‘लम्हे’ वो ‘चांदनी’ और अब ये ‘जुदाई’ का ‘सदमा’

 

श्री देवीइमेज कॉपीरइटMR. INDIA FILM POSTER

“जब मैं हवा-हवाई गाना शूट कर रहा था तो मुझे समझ नहीं आता था कि मैं श्रीदेवी का क्लोज़ अप लूँ या फिर दूर से शूट करूँ.”

श्रीदेवी के साथ फ़िल्म ‘मिस्टर इंडिया’ में काम करते वक़्त अपनी उलझन निर्देशक शेखर कपूर ने बरसों पहले कुछ यूँ बयां की थी.

“उनके चेहरे के भाव, उनकी आँखें इतनी मोहक थीं कि लगता था कि इन्हीं को दिखाता रहूँ जो क्लोज़ अप में ही मुमकिन था, लेकिन इसमें उनका डांस छूट जाता था. उनका डांस ऐसा ग़ज़ब था कि लगता था, दूर से कैमरे में हर एक अदा कैद कर लूँ.”

अलग अलग फ़िल्मों में कुछ ऐसा था श्रीदेवी का करिश्मा..

श्री देवीइमेज कॉपीरइटSADMA MOVIE POSTER

‘सदमा’ की वो श्रीदेवी

‘सदमा’ की वो 20 साल की लड़की जो पुरानी ज़िंदगी भूल चुकी है और वो सात साल की मासूमियत लिए एक छोटी बच्ची की तरह कमल हसन के साथ उसके घर पर रहने लगती है.

रेलवे स्टेशन का वो सीन जहाँ याददाश्त वापस आने के बाद ट्रेन में बैठी श्रीदेवी कमल हसन को भिखारी समझ बेरुख़ी से आगे बढ़ जाती है और कमल हसन बच्चों-सी हरकतें करते हुए श्रीदेवी को पुराने दिन याद दिलाने की कोशिश और करतब करते हैं- शायद हिंदी फ़िल्मों के बेहतरीन दृश्यों में होगा.

एक ऐसी अदाकारा जो मोम की तरह किसी भी रोल में बख़ूबी ढल जाया करती थीं- 11 साल की उम्र में उन्होंने तेलुगू फ़िल्म में एक ऐसी बच्ची का रोल किया था जो देख नहीं सकती थी.

श्री देवीइमेज कॉपीरइटCHANDNI MOVIE POSTER/YASHRAJ FILMS

या सफ़ेद लिबास में ढली ‘चांदनी’ जो अपने मंगेतर के ठुकराए जाने से दुखी तो हैं पर किसी और के साथ दोबारा ज़िंदगी शुरू करने से हिचकिचाती नहीं भले ही वो कोशिश नाकाम रही.

या फिर अपनी उम्र से दोगुने व्यक्ति से प्रेम करने का साहस करने वाली ‘लम्हे’ की पूजा. या फिर एक ही फ़िल्म में नरम और लड़क मिज़ाज वाली दो बहनों का रोल ‘चालबाज़’ की मंजू और अंजू .

या फ़िल्म ‘मॉम’ में अपनी बेटी के गैंगरेप का बदला लेने निकली माँ का वो रूप जिसमें वो पूछती हैं कि अगर ग़लत और बहुत ग़लत में से चुनना हो तो आप किसे चुनेंगे?

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटLAMHE FILM POSTER/YASHRAJ FILMS

पूरी ज़िंदगी फ़िल्मों के नाम

ये पिछले ही साल की बात है कि श्रीदेवी ने फ़िल्मों में 50 साल पूरे किए और 54 साल की उम्र में उन्होंने जीवन को अलविदा कह दिया है.

जिससे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि उन्होंने लगभग पूरी ज़िंदगी फ़िल्मों में लगा दी.

51 साल पहले चार साल की एक छोटी-सी बच्ची तमिल सिनेमा की स्क्रीन पर नज़र आई थी. दरअसल पर्दे पर उन्होंने एक छोटे लड़के का रोल किया था. नाम था श्रीदेवी.

तमिल-तेलुगू में चाइल्ड आर्टिस्ट का काम करते करते हुए वो हिंदी सिनेमा तक आ पहुँची जब लोगों ने 1975 में उन्हें ‘जूली’ में बाल कलाकार के तौर पर देखा.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटSOLVA SAWAN MOVIE POSTER

और यही श्रीदेवी हिंदी सिनेमा की पहली सुपरस्टार कहलाईं हालांकि उन्होंने बतौर लीड एक्टर सबसे पहले रजनीकांत के साथ 1976 में तमिल फ़िल्म में काम किया था जिसमें कमल हासन की ख़ास भूमिका थी.

1978 में जब भारतीराजा की हिंदी फ़िल्म ‘सोलवां सावन’ में श्रीदेवी पर्दे पर आईं तो शायद ही किसी की नज़र फ़िल्म पर पड़ी.

श्रीदेवी का वज़न उस समय था कोई 75 किलो और लोग उन्हें ‘थंडर थाइज़’ कहते थे. फिर 1983 में ‘हिम्मतवाला’ रिलीज़ हुई.

बड़ी-बड़ी आँखों वाली श्रीदेवी ने धीमे-धीमे अपने काम और अभिनय से सबका मुँह बंद करा दिया. उस ज़माने में लोग उन्हें ‘लेडी अमिताभ’ भी कहते थे.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटNAGINA FILM POSTER

शुरुआती जीवन

उनके परिवार की बात करें तो पिता के. अयप्पन एक वकील थे और घर में बहन श्रीलता और भाई सतीश किसी ज़माने में उनके पिता ने कांग्रेस के टिकट पर शिवकासी से चुनाव भी लड़ा था और श्रीदेवी ने अपने पिता के लिए चुनाव अभियान में हिस्सा भी लिया था.

श्रीदेवी की माँ ने शुरुआती दौर में उनके करियर में अहम रोल निभाया.

कम्प्लीट एक्टर को बयां करते हुए जिन लोगों का नाम ज़हन में आता है- उसमें श्रीदेवी ज़रूर से एक हैं. कॉमेडी, एक्शन, डांस, ड्रामा -हर विधा में वो माहिर थीं.

‘मिस्टर इंडिया’ के एक सीन में जहाँ वो चार्ली चैपलिन जैसे गेट अप में एक होटल में जाती हैं, उस सीन में अपनी कॉमिक टाइमिंग के ज़रिए उन्होंने सबको चारों खाने चित्त कर दिया था.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटCHAALBAAZ MOVIE POSTER

अव्वल डांसर

डांस के मामले में भी वो अव्वल थीं, फिर वो ‘हवा हवाई हो’, ‘मेरे हाथों में नौ नौ चूड़ियाँ हों’ या ‘नैनों में सपना’ हो या फ़िल्म ‘नगीना’ का वो क्लाइमेक्स डांस जिसमें वो नागिन बनी थीं.

एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि कैसे फ़िल्म ‘नगीना’ में क्लाइमेक्स गाना और डांस शूट होना था और सेट एक ही दिन के लिए उपलब्ध था.

सुबह उन्होंने डांस शूट करना शुरू किया और साथ ही सेट को तोड़ने का काम शुरू हो गया.

खाली एक दीवार बची थी और उसी दायरे में श्रीदेवी को डांस करना था, लेकिन गाना देखने के बाद कभी इस बात का एहसास नहीं होता.

हालांकि अपनी आवाज़ के लिए शुरू में उन्हें आलोचना झेलनी पड़ी थी.

जब श्रीदेवी ने शादी का फ़ैसला किया

निजी ज़िंदगी की बात करें तो 90 के दशक में उनके जीवन में उथल पुथल मची जब बोनी कपूर के साथ उनकी शादी हुई जो पहले से शादीशुदा थे.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटTWITTER @SRIDEVIBKAPOOR

बतौर निर्देशक बोनी कपूर के साथ वे कई फ़िल्में कर चुकी थीं और 1997 में फ़िल्म ‘जुदाई’ के बाद उन्होंने लंबा ब्रेक लिया.

लेकिन 2012 में जब वो ‘इंग्लिश विंग्लिश’ में हिंदी फ़िल्मों में लौटीं तो ऐसा लगा ही नहीं कि वो कभी पर्दे से गई थीं.

“मर्द खाना बनाए तो कला है, औरत बनाए तो उसका फ़र्ज़ है”- फ़िल्म में जब वो ये डायलॉग बोलती हैं तो शशि के रोल में एक घरेलू महिला की दबी इच्छाओं, उसकी अनदेखी को बयां कर जाती हैं.

पिछले साल 2017 में आई ‘मॉम’ उनकी आख़िरी फ़िल्म रही. अपनी दोनों बेटियों के साथ श्रीदेवी का बड़ा लगाव था-किसी भी माँ की तरह.

सोशल मीडिया पर अकसर वो अपनी बेटियों के साथ अपनी तस्वीरें डाला करती थीं.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटMOM MOVIE POSTER

उनकी बेटी जाह्नवी की पहली फ़िल्म ‘धड़क’ पाँच महीने बाद 20 जुलाई 2018 को रिलीज़ होने वाली है.

अक्सर जब भी श्रीदेवी के ट्विटर पेज पर जाओ तो उनकी बेटी की पहली फ़िल्म धड़क का पोस्टर सबसे ऊपर मिलता है जिसे उन्होंने पिन टू टॉप करके रखा था.

वो अक्सर कहा करती थीं कि ‘मदर इंडिया’ उनका ड्रीम रोल था. ‘मॉम’ उनके करियर की आख़िरी और 300वीं फ़िल्म थी.

मुझे पिछले साल का एक इंटरव्यू याद है जब पति बोनी कपूर ने बहुत नाज़ से कहा था, ‘श्रीदेवी ने एक्टिंग में 50 साल पूरे कर लिए हैं, उनकी 300वीं फ़िल्म आ रही है. आप जानती हैं और किसी ऐसे एक्टर को. ऐसे एक्टर और भी होंगे शायद.’

लेकिन ‘चांदनी’ की सी रोशनी बिखेरनी वाली, बड़ी बड़ी आँखों वाली श्रीदेवी एकदम जुदा थीं जिनकी फ़िल्में चेहरे पर हमेशा मुस्कुराहट छोड़ जाती हैं.

फ़िल्म ‘चालबाज़’ के एक सीन में रजनीकांत श्रीदेवी से तंग होकर उन्हें ताने मारते हैं- ये रोज़-रोज़ नाच गाना तेरे बस का नहीं है.

और श्रीदेवी चैलंज करते हुए कहती हैं- तुझे तो मैं ऑल इंडिया स्टार बनकर दिखाऊँगी….ज़िंदगी में उन्होंने ऐसा ही कर दिखाया.

श्रीदेवीइमेज कॉपीरइटCHANDNI MOVIE/YASHRAJ FILMS

वो उन चंद अभिनेत्रियों में से थीं जिन्हें हिंदी, तमिल, तेलुगू फ़िल्मों के लिए फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड मिला.

यहाँ तक कि केरल फ़िल्म इंडस्ट्री में भी उन्हें 1970 में बतौर बाल कलाकार सम्मानित किया गया था.

(हिंदी ही नहीं उन्होंने तेलुगू, तमिल, कन्नड और मलायलम फ़िल्मों में भी ख़ूब काम किया. )

Posted on

ऑटो एक्सपो 2018 : एक साथ लॉन्च होंगे 50 इलैक्ट्रिक व हाइब्रिड व्हीकल्स

9 से 14 फरवरी तक ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में आयोजित हो रहे ऑटो एक्सपो 2018 के दौरान इस बार 50 इलैक्ट्रिक व हाइब्रिड वाहनों को पेश किया जाएगा। इस शो में इस बार मारुति, हुंडई, टोयोटा, महिंद्रा और अन्य विदेशी कम्पनियां भी अपने वाहनों की प्रदर्शनी लगाएंगी।

ये कम्पनियां उटाठाएंगी इलैक्ट्रिक टैक्नोलॉजी से पर्दा
ऑटो एक्सपो 2018 में मारुति सुजुकी, हुंडई मोटर, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स, टोयोटा मोटर्स, रेनो, बीएमडब्ल्यू और मर्सिडीज की इलैक्ट्रिक टैक्नोलॉजी को शोकेस किया जाएगा। इसके अलावा होंडा अपनी नई मोटरसाइकिल्स को भी पेश करेगी जो संभावित इलेक्ट्रॉनिक होगी।

एक दर्जन स्टार्टअप पेश करेंगे वाहन
इस शो में करीब एक दर्जन नए स्टार्टअप्स भाग लेंगे जो अपने बेहतरीन वाहनों को पेश करेंगे। आपको बता दें कि ऑटो एक्सपो 2016 में सिर्फ 12 स्टार्टअप्स को शामिल किया गया था।

प्रदर्शनी में बढ़ रही कम्पनियां
आपको बता दें कि वर्ष 2016 में 65 कम्पनियों की 108 गाड़ियों का प्रदर्शन किया गया था जबकि 2018 में 52 कम्पनियों की 100 कारों को दिखाया जाएगा। वर्ष 2016 में कुल 88 कम्पनियां शामिल थी वहीं 2018 में 101 कम्पनियां शामिल हो रही है।

ये कम्पनियां नहीं बन रही शो का हिस्सा
ऑटो एक्सपो में इस बार कुछ कम्पनियां हिस्सा नहीं ले रही है। इनमें बजाज ऑटो, आयशर मोटर्स, वॉक्सवैगन ग्रुप, हार्ले डेविडसन व फोर्ड आदि शामिल है।

Posted on

भारत में नहीं चलेगी लोन वुल्फ अटैक की चाल, NSG कमांडोज ले रहे खास ट्रेनिंग

पूरी दुनिया में आतंकवादी संगठनों ने आतंकवादी वारदात की जो लोन वुल्फ अटैक की नई रणनीति अपनाई है, वह भारत में कामयाब नहीं होगी. क्योंकि हमारे NSG कमांडोज आतंकवाद की इस नई चुनौती से निपटने की तैयारी में जुट चुके हैं.

पश्चिमी देशों में किसी एक आतंकवादी द्वारा वाहन को भरी भीड़ पर चढ़ा देना या चाकू से हमला कर लोगों को मार देने जैसे आतंकवादी वारदात तेज हो गए हैं. जिसे देखते हुए भारत में इस तरह के आतंकवादी हमलों से निपटने के लिए NSG कमांडोज को विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है.

सेना के सूत्रों का भी कहना है कि किसी अकेले आतंकवादी द्वारा बिना ज्यादा पैसा खर्च किए किसी भीड़-भाड़ भरी जगह में इस तरह का लोन वुल्फ अटैक कहीं अधिक खतरनाक है.

फ्रांस के नीस में हाल ही में इसी तरह के आतंकी वारदात को अंजाम दिया गया, जब एक आतंकवादी ने भीड़ से भरे बाजार में छुट्टियां मना रहे लोगों पर ट्रक चढ़ा दी. इस आतंकी हमले में 86 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 100 से अधिक घायल हुए थे.

भारत में अमूमन इस तरह के हमलों से निपटने के लिए ब्लैक कैट कमांडोज को ट्रेन किया जाता है. इस आतंकवाद-रोधी फोर्स के जवानों को कई देशों की सेनाएं ट्रेनिंग देती हैं.

सूत्रों ने बताया कि सुरक्षाबलों ने फ्रांस और जर्मनी में हाल के दिन में हुए इस तरह की लोन वुल्फ अटैक घटनाओं और लंदन ट्यूब में विस्फोटक रखे जाने की घटनाओं का अध्ययन किया.

NSG के एक सीनियर ऑफिसर ने बताया, “अकेले आतंकवादी द्वारा चाकू से हमला करना या ट्रक चढ़ा देने जैसे आतंकवादी हमलों की गंभार संभावनाएं हैं, क्योंकि पूरी दुनिया में यह तेजी से हो रहा है. हम इससे निपटने के लिए अपनी तकनीक खुद इजाद कर रहे हैं, साथ ही दूसरे देशों के सुरक्षाबलों की भी मदद ले रहे हैं कि कैसे इस तरह के हमले से बेहतर तरीके से निपटा जा सके.”