Posted on Leave a comment

जाक दुबोशे, जोआखिम फ्रैंक और रिचर्ड हेंडर्सन को रसायन का नोबेल

सूक्ष्म और ठंड से जमे हुए अणुओं की तस्वीर उतारने के लिए एक आसान और बेहतर पद्धति क्रायो- इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कॉपी विकसित करने को लेकर तीन वैज्ञानिकों जेक्स डबशेट, जोशीम फ्रैंक और रिचर्ड हेंडरसन को रसायन विज्ञान के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। इन वैज्ञानिकों की टीम की नई पद्धति से शोधकर्ता अब नियमित रूप से बायॉ-मोलेक्युल का त्रिआयामी (3डी) ढांचा बना सकते हैं।

बायॉ – मोलेक्युल जीवों के संभरण और उपापचय प्रक्रिया में शामिल होता है। इस पद्धति में कोशिकाओं के हिस्सों की तस्वीर उतारने के लिए इलेक्ट्रॉन बीम इस्तेमाल की गई। नोबेल कमेटी ने कहा कि शोधकर्ता अब बीच में ही बायॉ-मोलेक्युल को जमा सकते हैं और प्रक्रिया को दृश्य रूप दे सकते हैं जो वे पहले कभी नहीं कर सकते थे। यह चीज जीवन को समझने और दवाइयों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

यह पद्धति बायो-मोलेक्युल को प्राकृतिक अवस्था में जमी हुई अवस्था (ठंड से) में रखने में मदद करेगा। कोशिका के ढांचों, विषाणुओं और प्रोटीन के सूक्ष्मतम ब्योरे का अध्ययन करने में इसका इस्तेमाल किया गया। कमेटी ने कहा कि शोधकर्ताओं को जब संदेह हुआ कि जीका विषाणु ब्राजील में नवजात शिशुओं के मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा कर महामारी फैला रहा है तब उन्होंने विषाणु को चित्रात्मक रूप देने के लिए क्रायो इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी का रुख किया। पुरस्कार के तौर पर 11 लाख डॉलर दिया जाएगा।

Posted on Leave a comment

आपकी बॉडी क्लॉक की गुत्थी सुलझाने वालों को मिला नोबेल

चिकित्सा के क्षेत्र में इस साल तीन वैज्ञानिकों जेफ्री सी हॉल, माइकल रोसबाश और माइकल डब्ल्यू यंग को नोबल पुरस्कार देने की घोषणा की गई है. इन तीनों ने एक ऐसे मैकेनिज्म को खोजा है जो हमारे भीतर सर्काडियन रिदम यानी बायोलॉजिकल क्लॉक को चलाता है.

यह बायोलॉजिकल क्लॉक है क्या?
दरअसल, धरती पर जितनी भी ज़िंदा चीज़ें हैं, जैसे पेड़-पौधे, इंसान, जानवर और जीवाणु उनके अंदर एक घड़ी या बायोलॉजिकल रिदम होती है. हम सब इसी घड़ी के हिसाब से चलते हैं. इसी की वजह से चमगादड़ रात में जागते हैं और मनुष्य सोते हैं. इसी घड़ी के चलते मनुष्य सुबह जागता है और रात में सो जाता है.

ये रिदम हम सबको इस ग्रह पर दिन-रात और इसी तरह के बाकी प्राकृतिक चक्रों के साथ सामंजस्य स्थापित करने में मदद करते हैं. इसे आम बोलचाल की भाषा में बायोलॉजिक क्लॉक कहा जाता है. यह बायोलॉजिक क्लॉक हमारे खाने-पीने की आदतों, हॉर्मोन के स्तर, ब्लड प्रेशर और शरीर के तापमान को नियमित रखने में भी मदद करता है.


जगह बदले या हमारे खाने-पीने सोने का वक़्त, सब कुछ इसी बायोलॉजिकल क्लॉक से जुड़ा है. इन बदलावों के कारण हमारा बायोलॉजिकल क्लॉक बाहरी वातावरण से तालमेल नहीं बिठा पाता.

जीन का पता लगाया
नोबेल कमेटी के मुताबिक जेफ्री सी हॉल, माइकल रोसबाश और माइकल डब्ल्यू यंग की खोजों में बताया गया है कि पौधे, जानवर और इंसान किस प्रकार अपनी बायोलॉजिकल क्लॉक के हिसाब से खुद को ढालते हैं.

इस तरह वे पृथ्वी की परिक्रमा के अनुसार खुद में बदलाव कर पाते हैं. ये तीनों वैज्ञानिक बायोलॉजिकल क्लॉक का पता लगाने और इसके काम करने के तरीके को स्पष्ट करने में सफल रहे हैं. इसके लिए इन वैज्ञानिकों ने उस जीन को अलग करने का काम किया जो रोजमर्रा की जैविक स्थिति को नियंत्रित करते हैं.

नोबेल टीम ने कहा कि वैज्ञानिकों ने दिखाया है कि यह जीन उस प्रोटीन को परिवर्तित करने का काम करता है, जो रात के समय कोशिका में जम जाती है और दिन के समय अलग हो जाती है. ये तीनों वैज्ञानिक करीब 11 लाख डॉलर की पुरस्कार राशि आपस में बांटेंगे.

Posted on Leave a comment

BlackHoles की टक्कर से तरंग खोजने वाले तीन अमेरिकी वैज्ञानिकों को मिलेगा Nobel

अमेरिकी खगोलविज्ञानियों बैरी बैरिश, किप थोर्ने तथा रेनर वेस को गुरत्व तरंगों की खोज के लिए बुधवार इस साल का भौतिकविज्ञान का नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गयी है. उनकी यह खोज गहन ब्रह्मांड के दरवाजे खोलती है. अलबर्ट आइंस्टीन ने करीब एक सदी पहले अपनी सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत के तहत गुरुत्व तरंगों का अनुमान लगाया था, लेकिन 2015 में ही इस बात का पता लगा कि ये तरंगे अंतरिक्ष-समय में विद्यमान हैं. ब्लैक होल के टकराने या तारों के केंद्र के विखंडन से यह प्रक्रिया होती है.

नोबेल पुरस्कार विजेताओं का चयन करने वाली स्वीडिश रॉयल एकेडमी ऑफ साइंसेस के प्रमुख जी के हनसॉन ने कहा कि उनकी खोज ने दुनिया को हिला दिया. उन्होंने सितंबर, 2015 में यह खोज की थी और फरवरी 2016 में इसकी घोषणा की थी. दशकों के वैज्ञानिक अनुसंधान के बाद यह ऐतिहासिक खोज हुई है और तभी से तीनों वैज्ञानिक खगोलशास्त्र के क्षेत्र में मिलने वाले सभी बड़े पुरस्कार अपने नाम करते आ रहे हैं.
थोर्ने तथा वेस ने प्रतिष्ठित कैलीफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में संयुक्त रूप से लेजर इंटरफियरोमीटर ग्रेविटेशनल-वेब ऑब्सर्वेटरी (लीगो) बनाया था. इसके बाद बैरिश ने परियोजना को अंतिम रूप प्रदान किया. इस संस्थान को 1901 में नोबेल पुरस्कारों की शुरुआत के बाद से 18 बार ये प्रतिष्ठित पुरस्कार मिल चुका है. करीब 1.3 अरब प्रकाशवर्ष दूर हुए घटनाक्रम के परिणामस्वरूप पहली बार गुरुत्व तरंगों का प्रत्यक्ष प्रमाण मिला था.

अकादमी ने कहा कि पृथ्वी पर जब सिग्नल पहुंचा, तो बहुत कमजोर था, लेकिन खगोलविज्ञान में यह बहुत महत्वपूर्ण क्रांति है. गुरत्व तरंगें अंतरिक्ष में सबसे प्रचंड घटनाक्रमों पर नजर रखने और हमारे ज्ञान की सीमाओं को परखने का पूरी तरह नया तरीका हैं. ब्लैक होल से कोई प्रकाश नहीं निकलता. इसलिए उनका पता केवल गुरुत्व तरंगों से चल सकता है.

पुरस्कार में 90 लाख स्वीडिश क्रोनर यानी करीब 11 लाख डॉलर (करीब 7.20 करोड रपये) की राशि प्रदान की जायेगी. इस साल के नोबेल पुरस्कारों में सबसे पहले चिकित्सा के क्षेत्र में विजेताओं के नाम की घोषणा की गयी और दूसरे स्थान पर भौतिकी के विजेताओं का नाम घोषित किया गया है. बुधवार को रसायनविज्ञान के विजेताओं के नाम की घोषणा होगी.

साहित्य का नोबेल जीतने वालों का नाम गुरुवार को और शांति के क्षेत्र में नोबेल प्राप्त करने वाले विजेता का नाम शुक्रवार को घोषित किया जायेगा. अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार विजेता के नाम का ऐलान सोमवार को किया जा सकता है.