Posted on Leave a comment

तीन दोस्तों द्वारा शुरू की गयी ऑनलाइन फ़ूड डिलीवरी कंपनी को मिला 1 अरब डॉलर का निवेश। जानें कैसे मिली इन्हें सफलता!

देश की सबसे बड़ी फ़ूड डिलीवरी कंपनी स्विगी को हाल ही में 1 अरब डॉलर का निवेश मिला है। इस निवेश में 66 करोड़ डॉलर साउथ अफ्रीका की कंपनी नैस्पर ने किया जबकि बाकी निवेश टेनसेंट & हेज फंड्स और कैपिटल & वेलिंगटन मैनेजमेंट ने किया है। इस नई फंडिंग के समय पांच साल पुरानी स्विगी की कीमत 3.3 अरब डॉलर लगाई गई। इसके साथ ही अब स्विगी भारतीय कंपनियों में वैल्यूएशन के हिसाब से छठे नंबर की स्टार्टअप कंपनी बन गयी है।

Swiggy,team,men,behind
Swiggy team

Swiggy को तीन दोस्तों ने मिलकर 5 साल पहले शुरू किया था। इस तिकड़ी में राहुल जैमिनी IIT खड़कपुर से, श्रीहर्ष IIT कलकत्ता से जबकि नंदन रेड्डी बिट्स से स्नातक हैं। 5 डिलीवरी बॉयज़ से शुरू हुई स्विगी में अब 1.2 लाख डिलीवरी पार्टनर्स हैं और 42 शहरों के 50 हजार से ज्यादा रेस्ट्रोंस स्विगी के साथ जुड़ चुके हैं।

फ़ूड डिलीवरी मार्केट में स्विगी ने जोमाटो से जंग जीत ली है। गुरुग्राम की जोमाटो को इस साल दो फंडिंग राउंड्स में 41 करोड़ डॉलर की फंडिंग मिली है जबकि स्विगी ने इस साल तीन फंडिंग राउंड्स में 1.31 अरब डॉलर की फंडिंग हासिल की है।

Swiggy, slogan, tagline, mantra
Swiggy Slogan

Swiggy में प्रारम्भ में निवेश करने वाली एस्सेल पार्टनर्स, सैफ पार्टनर्स, बेसेमर वेंचर पार्टनर्स और नॉर्वेस्ट वेंचर्स ने इस राउंड में अपनी होल्डिंग्स करीब 20 करोड़ डॉलर में बेची है जबकि किसी भी कंपनी ने अपना पूरा हिस्सा नहीं बेचा है। एवेंडस कैपिटल इस राउंड की फाइनेंशल एडवाइजर रही।

इस फंडिंग के बाद स्विगी ने बताया की ताजा फंडिंग से वो अपने डिलीवरी ओन्ली किचेंस का विस्तार करेंगे, टीम को और मजबूती देंगे। इसके साथ ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित नेक्स्ट जेनेरेशन प्लेटफॉर्म बनाया जायेगा।

आपको बता दें स्विगी फिलहाल हर महीने 2.5 करोड़ से ज्यादा ऑर्डर पूरे कर रही है जबकि जोमाटो ने अक्टूबर में 2.1 करोड़ ऑर्डर पूरा करने का दावा किया था।

Leave a comment

मोदी से लेकर ट्रंप तक, जानें ये बड़ी हस्तियां किन स्मार्टफोन्स का करते हैं इस्तेमाल

तकनीक के क्षेत्र में स्मार्टफोन्स ने जितनी तरक्की की है वो दूसरे किसी भी गैजेट्स के लिए एक मिसाल है। स्मार्टफोन्स में आए दिन हो रहे बड़े बदलावों ने यूजर्स को हैरान कर दिया है। ऐसे में यूजर्स के दिमाग में हमेशा सवाल उठाता है कि जिन हस्तियों को वो फॉलो करते हैं वो कौन सा स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं? हम आपको कुछ चुनिंदा हस्तियों के स्मार्टफोन्स के बारे में बताने जा रहे हैं, तो डालते हैं इन नामों पर एक नजर।

नरेन्द्र मोदी- भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश के उन लोकप्रिय नेताओं में से एक हैं जिन्हें तकनीक के काफी लगाव है। पीएम मोदी अक्सर सुनहरे पलों को अपने फोन के कैमरे में कैद करते दिखाई देते हैं। कहना गलत नहीं होगा कि भारत में सेल्फी का प्रचलन पीएम मोदी ने ही शुरू किया। पीएम मोदी को अक्सर आईफोन का इस्तेमाल करते देखा गया है। पीएम मोदी आईफोन 6 के साथ कई जगहों पर देखे गए हैं।

डोनाल्ड ट्रंप- दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को एंड्रायड फोन का इस्तेमाल करते देखा गया है। एक खबर के मुताबिक डोनाल्ड ट्रंप सैमसंग गैलेक्सी एस3 का इस्तेमाल करते पाए गए हैं लेकिन हाल ही में मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि उन्होने आईफोन का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। हालांकि इस खबर की अभी कोई भी पुष्टी नहीं हुई है।

बराक ओबामा- अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति और नोबेल पुरस्कार विजेता बराक ओबामा अपने कार्यकाल के दौरान ब्लैकबेरी स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते नजर आए।

किम जोंग उन- उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग उन को अक्सर किसी मिसाइल के लॉन्च पर खुशी से झूमते देखा गया है। लेकिन फोन की बात करें जो किम जोंग उन HTC Butterfly फोन के साथ देए गए हैं। ये स्मार्टफोन HTC One का लिमिटेड एडिशन फ्लैगशिप फोन है।

यिंगलक शिनावात्रा- थाईलैंड की पहली महिला प्रधानमंत्री यिंगलक शिनावात्रा को उनके कार्यकाल के वक्त पांच स्मार्टफोन के साथ देखा गया है।

Leave a comment

मौत के 8 साल बाद लौटी थी इंदिरा। किया था ये काम।- कांग्रेस

मौत के 8 साल बाद इंदिरा गाँधी से करवाया पुल का उद्घाटन 
गज़ब की बात है न, की जो व्यक्ति 8 साल पहले मर गया हो, वो किसी पल का उद्घाटन कर रहा है, ऐसा सिर्फ कांग्रेस में ही संभव है 
 
कांग्रेस गाँधी-नेहरू खानदान की तारीफों के पुल बांधती रहती है 
पर इस बार तो कांग्रेस ने हद ही कर दी और 1992 में इंदिरा गाँधी से पुल का उद्घाटन करवा लिया, जबकि इंदिरा तो 8 साल पहले 1984 में ही परलोग सिधार गयी थी 
 
देखिये कांग्रेस का नया कारनामा 

 
 
आज 10 अक्टूबर है, गाँधी-नेहरू परिवार की स्तुति के तहत कांग्रेस ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर ये पोस्ट डाला जिसमे कांग्रेस ने बताया की 
 
आज के दिन यानि 10 अक्टूबर को, 1992 में इंदिरा गाँधी ने बंगाल में विद्यासागर पुल का उद्घाटन किया था 
ये पुल हुगली नदी पर बना हुआ है 
 
पर गज़ब की बात तो ये है की इंदिरा गाँधी तो 1992 से 8 साल पहले 1984 में ही परलोक सिधार गयी थी 
फिर कांग्रेस ने 1992 में उसी इंदिरा गाँधी से जो 8 साल पहले मर चुकी हो, उनसे पुल का उद्घाटन कैसे करवाया 
 
ऐसा चमत्कार तो सिर्फ कांग्रेस में ही संभव है ।