Posted on Leave a comment

Greater Than Statue Of Unity:आइए जानते हैं दुनिया की सबसे विशाल आकार की मानव निर्मित कृति शिव मूर्ति के बारे में जो राजस्थान के गणेश टेकरी में जल्द ही तैयार होने वाली है!

राजस्थान के उदयपुर से 50 किलोमीटर दूर स्थित नाथद्वारा के गणेश टेकरी नामक स्थान पर 351 मीटर ऊँची शिव मूर्ति का लगभग 85 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। यह मूर्ति अयोध्या में बन रही 221 मीटर ऊँची श्री राम मूर्ति स्तम्भ से भी बड़ी होगी।

आपको बता दें कि श्री राम मूर्ति की ऊंचाई 151 मीटर है, जबकि उसके ऊपर 20 मीटर ऊँचा छत्र और नीचे 50 मीटर ऊँचा आधार है। साथ ही बन रहे म्यूजियम में श्री राम की जन्मभूमि आयोध्या का इतिहास और गौरवशाली गाथा को दर्शाया जायेगा।

गणेश टेकरी में 120 फ़ीट रोड से जुडी विश्व की सबसे ऊँची ध्यान में लीन महादेव की 351 मीटर की प्रतिमा का आकार पूर्ण रूप से सामने आ गया है। करीब 7 किलोमीटर की दूरी से दिखाई देने वाली इस विशालकाय मूर्ति को बनाने वाले मिराज ग्रुप ने दिसंबर 2018 तक कार्य पूरा होने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

25.42 बीघा में फैले क्षेत्र में 15300 स्क्वायर फ़ीट का हर्बल टेरिस गार्डन बनेगा वहीं बच्चों के लिए फन पार्क और 1.25 किलोमीटर का परिक्रमा पथ बनाया जा रहा है।

2200 तन स्टील और 1800 टन लोहे की मजबूती के साथ आरसीसी सीमेंट और कंक्रीट से शिव पूर्ति को निर्मित किया गया है। शिव मूर्ति में 110 मीटर का आधार, 65 मीटर लम्बाई के चरण, 175 मीटर पर कमरबंद, 260 मीटर पर कंधा, 275 मीटर पर गर्दन, 60 मीटर लम्बाई वाला महादेव का मुख और उसके शीश पर 16 मीटर ऊँचा जूड़ा मिलाकर विशालकाय 351 मीटर की प्रतिमा तैयार हुई है, जिसके रूप में विराजे महादेव के हाथ में 315 मीटर का त्रिशूल है।

Leave a comment

राजस्थान की ‘बंजर धरती’ उगलेगी सोना, अब तक करीब साढ़े ग्यारह करोड़ टन सोने के भंडार का पता चला

राजस्थान में एक सोने के भंडार का पता चला है, जिसके बाद चारों तरफ इसकी चर्चा हो रही है. भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग के अनुसार, राजस्थान के बांसवाडा, उदयपुर जिले में 11.48 करोड़ टन के सोने के भंडार का पता लगाया जा चुका है.

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक एन कुटुम्बा राव ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि राजस्थान में सोने की खोज में नई संभावनाएं सामने आई हैं, उदयपुर और बांसवाडा जिले के भूकिया डगोचा में सेाने के भंडार मिले हैं.

उन्होंने बताया कि राजस्थान में 35.65 करोड़ टन के सीसा जस्ता के संसाधन राजपुरा दरीबा खनिज पट्टी में मिले हैं.  इसके अलावा भीलवाड़ा जिले के सलामपुरा एवं इसके आस-पास के इलाके में भी सीसा जस्ता के भंडार मिले हैं.

राव के अनुसार राजस्थान में वर्ष 2010 से अब तक 8.11 करोड़ टन ताम्बे के भंडार का पता लगाया जा चुका है. जिसमें तांबे का औसत स्तर 0.38 प्रतिशत है. उन्होंने बताया कि राजस्थान के सिरोही जिले के देवा का बेड़ा, सालियों का बेड़ा और बाड़मेर जिले के सिवाना इलाकों में अन्य खनिज की खोज की जा रही है.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में उर्वरक खनिज पोटाश व ग्लुकोनाइट की खोज के लिए नागौर, गंगापुर (करोली) सवाई माधोपुर में उत्खनन का काम चल रहा है, इन जिलों में पोटाश एवं ग्लुकोनाइट के भंडार मिलने से भारत की उर्वरक खनिज की आयात पर निर्भरता कम होगी.