Posted on

उत्तराखण्ड बोर्ड के 12वीं के रिजल्ट घोषित, दिव्यांशी ने किया टॉप

उत्तराखंड बोर्ड ने आज अपने 12वीं के नतीजे की घोषणा कर दी है. छात्र परीक्षा के रिजल्ट आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर रिजल्ट देख सकते हैं. इस 12वीं की परीक्षा 5 मार्च से 24 मार्च तक चली थी. बता दें, रिजल्ट 11 बजे जारी होनेा था पर रिजल्ट घोषित होने में देरी की गई. देहरादून स्थित शिक्षा निदेशालय में रिजल्ट की घोषणा शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने की.

इस साल 12वीं में ऑवरोल 78.97 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं. इस साल 12वीं की परीक्षा में 75.03 प्रतिशत लड़के पास हुए हैं और 82.83 प्रतिशत लड़कियां पास हुई है. 12वीं में इस साल दिव्यांशी राज ने 98.4 प्रतिशत अंक हासिल कर टॉप किया है.

ऐसे देखें रिजल्ट

– सबसे पहले उत्तराखंड बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट www.ubse.uk.gov.in और www.uaresults.nic.in. पर जाएं.

–  उत्तराखंड बोर्ड रिजल्ट 2018 कक्षा 12 पर लिंक पर क्लिक करें.

– अपना रोल नंबर और सभी जरूरी जानकारियां भरें.

– रिजल्ट स्क्रीन पर दिखने लगेगा.

– भविष्य के लिए प्रिंटआउट लेना न भूलें.

आपको बता दें,  इस साल 12वीं में 130094 छात्र शामिल हुए थे. पिछले साल 12वीं में 78.89 प्रतिशत छात्र पास हुए थे.

देखें पांच साल का कक्षा 12वीं  उत्तराखंड रिजल्ट

2013- 79.82 प्रतिशत

2014- 70.39 प्रतिशत

2015- 74.54 प्रतिशत

2016-  78.41 प्रतिशत

2017-  78.89 प्रतिशत

Posted on

48 घंटे में धरती पर बरसेगा सूरज का कहर बंद होगा टीवी, मोबाइल और जीपीएस

अगले 48 घंटे में धरतीवासियों को सूरज का गुस्सा झेलना पड़ सकता है। सूरज के कोप से आपके मोबाइल का सिग्नल जाम हो सकता है, जीपीएस गड़बड़ा सकता है और तो और आपको एंटरटेन करने वाला टीवी भी बंद हो सकता है।

सूरज का यह गुस्सा दरअसल एक खगोलीय घटना है, जिसे सौर तूफान कहते हैं। खगोल वैज्ञानिकों ने सूरज पर चलने वाले तूफान के अगले 48 घंटे में धरती से टकराने की आशंका जताई है। विशेषज्ञों का कहना है कि इसके प्रभाव से उपग्रह आधारित सेवाएं जैसे मोबाइल, केबल नेटवर्क, जीपीएस नैविगेशन प्रभावित हो सकते हैं। इसके अलावा रेडिएशन के खतरे की भी आशंका है।

वैज्ञानिकों के अनुसार, भारत से पहले इसका असर अमेरिका और यूके में दिख सकता है। सौर तूफान के धरती से टकराने पर कुछ समय के लिए टेक ब्लैकआउट की स्थिति बन सकती है। नैशनल ओशन ऐंड अटमॉस्फियर असोसिएशन ने कहा है कि जब यह तूफान आएगा तो उत्तर और दक्षिण में तेज रोशनी नजर आएगी। हालांकि संस्थान ने इसे जी-1 या हल्का सौर तूफान ही करार दिया है। असोसिएशन फोरकास्ट का कहना है कि यह तूफान रविवार या सोमवार को आ सकता है। इस दौरान काफी तजे सौर हवाएं चलेंगी।

नासा की ओर से जारी की गई तस्वीर में गैस के इस तूफान को देखा जा सकता है। विदेशी मीडिया से आ रही खबरों के मुताबिक सूरज में एक कोरोनल होल खुलेगा, जिसके कारण उससे भारी मात्रा में ऊर्जा निकलेगी। इसमें कॉस्मिक कण भी होंगे। खगोल विशेषज्ञों का कहना है कि सोलर डिस्क के लगभग आधे हिस्से को काटते हुए एक बड़ा सा छेद बनेगा, जिसके जरिये सूरज से पृथ्वी की ओर बेहद गर्म हवा का एक तूफान आएगा।

बता दें कि सौर तूफान सूर्य की सतह पर आए क्षणिक बदलाव से उत्पन्न होते हैं। इन्हें पांच श्रेणी जी-1, जी-2, जी-3, जी-4 और जी-5 में बांटा गया है। इनमें जी-5 श्रेणी का तूफान सबसे खतरनाक हो सकता है। जानकारों का कहना है कि जी-1 श्रेणी के तुफान का सबसे ज्यादा असर पावर ग्रिड और माइग्रेटरी बर्ड्स पर पड़ता है।

Posted on

विजय माल्या को झटका, यूके में किंगफिशर हारी केस, चुकाने होंगे लगभग 579 करोड़

भारत में अदालत द्वारा भगोड़ा घोषित किए जा चुके विजय माल्याb को एक और बड़ा झटका लगा है। उनकी किंगफिशर एयरलाइंस यूके में एक केस हार गई है। इसमें उन्हें एक कंपनी को 90 मिलियन डॉलर (लगभग ₹579 करोड़) क्लेम के तौर पर देने को कहा गया है।

यह केस अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस से जुड़ा था। 62 साल के माल्या की कंपनी के खिलाफ सिंगापुर की बीओसी एविएशन नाम की कंपनी ने दायर किया था। खबरों के मुताबिक, मामला 2014 का है, तब किंगफिशर ने बीओसी ने कुछ प्लेन लीज पर लिए थे।

बीओसी एविएशन और किंगफिशर एयरलाइंस के बीच का यह मामला लीजिंग अग्रीमेंट को लेकर था। दोनों के बीच चार प्लेन को लेकर डील हुई थी, जिसमें से तीन डिलीवर किए जा चुके थे। बता दें कि माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपया बकाया है। बीओसी एविएशन सिंगापुर और बीओसी एविएशन (आयरलैंड) ने इस मामले में किंगफिशर एयरलाइंस और यूनाइटेड ब्रुअरीज का नाम लिया था। यूनाइटेड ब्रुअरीज में भी माल्या की बड़ी हिस्सेदारी है।

Posted on

उत्तराखण्ड में बिजली दरें बढ़ाने की तैयारी, जानिए कितना बढ़ेगा भार

राज्य में बिजली दरों को बढ़ाने की तैयारी है। सोमवार को ऊर्जा निगम की बोर्ड बैठक में यह फैसला किया गया। प्रस्तावित टैरिफ का प्रस्ताव अब विद्युत नियामक आयोग को भेजा जाएगा। नियामक आयोग इस पर अंतिम फैसला लेगा।

ऊर्जा निगम मुख्यालय में सोमवार को नई बिजली दरों को लेकर हुई बोर्ड बैठक में ऊर्जा निगम प्रबंधन ने कहा कि पावर सप्लाई सिस्टम को सामान्य बनाने में बहुत अधिक खर्च हो रहा है। उस अनुरूप बिजली बिल नहीं मिल पा रही है। बिजली की दरें खर्च की अपेक्षा बहुत कम है। दूसरी ओर यूजेवीएनएल बोर्ड ने 8 फीसदी व पिटकुल बोर्ड ने 5 फीसदी टैरिफ को बढ़ाने की मंजूरी दी। कुल साढ़े 13 प्रतिशत तक बढ़ाने की तैयारी है।

बिजली सभी के लिए महंगी करने का प्रस्ताव 

बिजली के दामों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव आवासीय, व्यावसायिक, उद्योग समेत सभी वर्गों के लिए है। ऊर्जा निगम प्रबंधन की ओर से अब इस प्रस्ताव को विद्युत नियामक आयोग को भेजा जाएगा। बोर्ड बैठक में सचिव ऊर्जा राधिका झा, अपर सचिव रणवीर सिंह चौहान, एमडी बीसीके मिश्रा आदि मौजूद रहे।

प्रदेश भर में होंगी सुनवाई 

ऊर्जा निगम की ओर से बिजली दरों में साढ़े 13 प्रतिशत वृद्धि के प्रस्ताव का नियामक आयोग पहले तकनीकी व वित्तीय आधार पर परीक्षण करेगा। इसके बाद पूरे प्रदेश में कई स्थानों में प्रस्तावित दरों पर आम जनता से आपत्ति व सुझाव लिए जाएंगे। इसके बाद मार्च अंतिम सप्ताह में आयोग की ओर से वर्ष 2018-19 की दरों की घोषणा की जाएगी।

करंट लगने पर मुआवजा दोगुना 

करंट लगने से होने वाली मौत पर आश्रितों को अब मुआवजा दोगुना मिलेगा। यूपीसीएल बोर्ड ने मुआवजा दो लाख से बढ़ा कर चार लाख रुपये किए जाने को मंजूरी दी। इस मुआवजे का लाभ यूपीसीएल के उपनल कर्मचारी, स्वयं सहायता समूह के कर्मचारियों समेत आम जनता को भी मिलेगा।

नये सब स्टेशनों को मंजूरी 

ऊर्जा निगम बोर्ड बैठक में पॉवर सप्लाई सिस्टम को सुधारने के लिए मोथरोवाला, सिकंदरपुर रुड़की, हरिद्वार सिडकुल सेक्टर पांच, सेक्टर 11, आर्यनगर हरिद्वार, चौरास श्रीनगर में नये सब स्टेशन बनाने का फैसला लिया गया।

माजरा सब स्टेशन पर लोड होगा कम 

राजधानी दून के पॉवर सप्लाई सिस्टम को सुधारने के लिए 33 केवी के छह नये फीडर विकसित करने पर भी मुहर लगी। ये छह नये फीडर 220 केवी आईआईपी बिजलीघर से तैयार होंगे। 33 केवी के ये नये फीडर मियांवाला, रिंग रोड, अजबपुर, रायपुर, स्पोर्ट्स कालेज, आईआईपी के लिए विकसित होंगे। इन नये फीडरों से माजरा व पुरुकुल बिजली घर पर लोड कम होगा।